त्रिपुरा की उंनकोटि एक रहस्यमय देवस्थल

त्रिपुरा के उनाकोटि पहाड़ में मौजूद हैं असंख्य हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्तियां :

संकीर्ण पगडंडियां, दूर-दूर तक फैले जंगल और कोलाहल मचाते नदी स्रोतों के मध्य स्थित है त्रिपुरा की ‘उनाकोटि’। जिसे पूर्वोत्तर भारत के सबसे बड़े रहस्यों में भी गिना जाता है।यहाँ पर जगंलों की बीच शैलचित्रों और मूर्तियों का अद्भुत भंडार है।

इस स्थल का इतिहास पौराणिक काल से माना जाता है। उनाकोटि की सबसे खास बात यहां मौजूद असंख्य हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्तियां हैं।जो इस स्थान को सबसे अलग बनाती हैं। उनाकोटि एक पहाड़ी इलाका है जो दूर-दूर तक घने जंगलों से भरा है। उनाकोटि लंबे समय से शोध का बड़ा विषय बना हुआ है, क्योंकि इस तरह जंगल की बीच जहां आसपास कोई बसावट नहीं एक साथ इतनी मूर्तियों का निर्माण कैसे संभव हो पाया।

उनाकोटि में दो तरह की मूर्तियों मिलती हैं, एक पत्थरों को काट कर बनाई गईं मूर्तियां और दूसरी पत्थरों पर उकेरी गईं मूर्तियां। यहां ज्यादातर हिन्दू धर्म से जुड़ी प्रतिमाएं हैं, जिनमें भगवान शिव, देवी दुर्गा, भगवान विष्णु, और गणेश भगवान आदि की मूर्तियां स्थित है। इस स्थान के मध्य में भगवान शिव की एक विशाल प्रतिमा मौजूद है, जिन्हें उनाकोटेश्वर के नाम से जाना जाता है।

भगवान शिव की यह मूर्ति लगभग 30 फीट ऊंची बनी हुई है। इसके अलावा भगवान शिव की विशाल प्रतिमा के साथ दो अन्य मूर्तियां भी मौजूद हैं, जिनमें से एक मां दुर्गा की मूर्ति है। साथ ही यहां तीन नंदी मूर्तियां भी दिखीं हैं। इसके अलावा यहां और भी ढेर सारी मूर्तियां बनी हुई हैं।

इस स्थान के मुख्य आकर्षणों में भगवान गणेश की अद्भुत मूर्तियां भी हैं। जिसमें गणेश की चार भुजाएं और बाहर की तरफ निकले तीन दांत को दर्शाया गया है। इसके अलावा यहां भगवान गणेश की चार दांत और आठ भुजाओं वाली दो और मूर्तियां भी हैं। इन अद्भुत मुर्तियों के कारण यह स्थान काफी काफी रोमांच पैदा करता है। यहां की अद्भुत मूर्तियों को देखने के लिए अब देश-विदेश के लोग आते हैं।

पौराणिक कथा के अनुसार इन मूर्तियों का निर्माण कालू नाम के शिल्पकार ने किया था। कथा के अनुसार यह कालू शिल्पकार भगवान शिव और माता पार्वती के साथ कैलाश पर्वत जाना जाता था, लेकिन यह मुमकिन नहीं था। शिल्पकार की जाने की जिद्द के कारण यह शर्त रखी गई कि अगर वो एक रात में एक करोड़ (एक कोटि) मूर्तियों का निर्माण कर देगा तो वो भगवान शिव और पार्वती के साथ कैलाश जा पाएगा। यह बात सुनते ही शिल्पकार काम में जुट गया, उसने पूरी रात मूर्तियां का निर्माण किया। लेकिन सुबह जब गिनती हुई तो पता चला उसमें एक मूर्ति कम है। इस तरह वो शिल्पकार धरती पर ही रह गया। स्थानीय भाषा में एक करोड़ में एक कम संख्या को उनाकोटि कहते हैं। इसलिए इस जगह का नाम उनाकोटि पड़ा।

आसपास के लोग यहां आकर इन मूर्तियों की पूजा भी करते हैं। यहां हर साल अप्रैल महीने के दौरान अशोकाष्टमी मेले का आयोजन किया जाता है। जिसमें शामिल होने के लिए दूर-दूर से हजारों श्रद्धालु यहां आते हैं। इसके अलाव यहां जनवरी के महीने में एक और छोटे त्योहार का आयोजन किया जाता है।

उनाकोटि त्रिपुरा के राजधानी शहर अगरतला से लगभग 125 किमी की दूरी पर स्थित है। आप उनाकोटि सड़क मार्ग के द्वारा पहुंच सकते हैं। त्रिपुरा के बड़े शहरों से यहां तक के लिए बस सेवा उपलब्ध है। यहां का नजदीकी हवाई अड्डा अगरतला है। रेल मार्ग से कुमारघाट तक जा सकते हैं। वहाँ से सड़क मार्ग से उनाकोटि पहुँच सकते हैं।

मुझे भी इस अद्भुत संसार को देखने का अवसर 31 अगस्त, 2019 को त्रिपुरा प्रवास के दौरान मिला।

हम कश्मीर के मामले में हस्तक्षेप नहीं करेंगे-तालिबानी नेता अनस हक्कानी

नई दिल्ली: तालिबान (Taliban) ने अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद अफगानिस्तान पर अब पूरी तरह कब्जा कर लिया है. इस बीच पाकिस्तान तालिबान को भारत के खिलाफ उकसाने में लगा है और वह कश्मीर को लेकर साजिश रचने की कोशिश कर रहा है, लेकिन तालिबान ने पाकिस्तान की नापाक उम्मीदों को बड़ा झटका दिया है और साफ किया है कि वह कश्मीर मुद्दे पर किसी तरह का दखल नहीं देगा.

तालिबान ने कश्मीर को बताया आंतरिक मुद्दा

सीएनएन-न्यूज18 के बात करते हुए तालिबानी नेता अनस हक्कानी (Anas Haqqani) ने कश्मीर मुद्दे को भारत और पाकिस्तान का आंतरिक मामला बताया और कहा कि हम कश्मीर के मामले में हस्तक्षेप नहीं करेंगे. बता दें कि अनस हक्कानी, हक्कानी नेटवर्क के संस्थापक जलालुद्दीन हक्कानी के सबसे छोटे बेटे हैं.

कश्मीर अधिकार क्षेत्र का हिस्सा नहीं: हक्कानी

अनस हक्कानी से पूछा गया कि पाकिस्तान हक्कानी नेटवर्क के बेहद करीब है और वह कश्मीर में लगातार दखल दे रहा है. क्या आप भी पाकिस्तान को समर्थन देने के लिए कश्मीर में दखल देंगे? इस पर उन्होंने कहा, ‘कश्मीर हमारे अधिकार क्षेत्र का हिस्सा नहीं है और हस्तक्षेप नीति के खिलाफ है. हम अपनी नीति के खिलाफ कैसे जा सकते हैं? इसलिए यह स्पष्ट है कि हम कश्मीर में हस्तक्षेप नहीं करेंगे.’

अब गूगल की सहायता से आँखे करेंगी दिल की बिमारियों की स्कैनिंग

गूगल और उसके स्वास्थ्य-तकनीकी में सहयोगी Verily के वैज्ञानिक ने इंसानों में हार्ट की बीमारी का पता लगाने का एक तरीका ढूंढ़ निकाला है। कंपनी ऑर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से मरीज की ऑख के रेटिना को स्कैन करेगी और हार्ट के बीमारी का पता लगाएगी। कंपनी का सॉफ्टवेयर किसी की वास्तविक उम्र और ब्लड प्रेशर के अलावा यह भी बताने में सक्षम है कि व्यक्ति स्मोकिंग करता है या नहीं।

गूगल का यह सॉफ्टवेयर ऑख की रेटिना को स्कैन हार्ट की बीमारी के कारण के बारे में भी बता सकता है। इस एल्गोरिदम से डॉक्टरों को हार्ट से संबंधित बीमारी का इलाज करने में आसानी होगी और समय की भी बचत होगी। इस सॉफ्टवेयर से स्कैन कराने के बाद आपको ब्लड टेस्ट कराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। लेकिन इसे क्लिनिकल मेथड के तौर पर अपनाने से पहले इसका कई बार टेस्ट जरूरी है।  

गूगल और Verily के वैज्ञानिक ने इस एल्गोरिदम से करीब 3 लाख मरीजों का मेडिकल डाटासेट तैयार किया और उसका विश्लेषण किया। इसमें ऑख के स्कैन के साथ ही जनरल मेडिकल डाटा भी है। वैज्ञानिकों ने आंखों का स्कैन करने के बाद उसका विश्लेषण किया।  

गूगल एल्गोरिदम के सामने दो इंसान की रेटिना इमेज प्रस्तुत की गई। एक इंसान पिछले 5 साल से हृदय की बीमारी से पीड़ित था, जबकि दूसरा स्वस्थ था। गूगल एल्गोरिदम ने दोनों को बारे में सटीक जानकारी दी। गूगल एल्गोरिदम ने हृदय की बीमारी से पीड़ित के बारे में बताया कि इसमें 70 फीसदी हार्ट अटैक का खतरा है। जबकि ब्लड टेस्च कराने पर पता चला कि इस व्यक्ति में 72 फीसदी हार्ट अटैक का खतरा है।

FM मिनिस्टर सीतारमण शुभारम्भ करेगी NMP जिसमें प्राइवेट कंपनियों को ‘किराये’ पर दी जाएगी सरकारी प्रॉपर्टी

सरकार एक तरफ घाटे में चल रही सरकारी कंपनियों को बंद कर या प्राइवेट कंपनियों के हाथों बेचकर पैसा जुटाने में लगी है, तो दूसरी ओर सरकारी प्रोजेक्ट को प्राइवेट कंपनियों के साथ साझा कर या किराये पर देकर आमदनी बढ़ाने की तैयारी है. सरकार ने इस दिशा में अगला कदम बढ़ा दिया है जिसे ‘नेशनल एसेट मोनेटाइजेशन’ का नाम दिया गया है. इसके लिए सरकार ने नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन (National Monetisation Pipeline) भी शुरू कर दिया है.

इस पाइपलाइन या कार्यक्रम की एक झलक बजट भाषण में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया था. बजट के दौरान निर्मला सीतारमण ने कहा था कि सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर की ऐसी पुरानी परियोजनाओं के लिए राष्ट्रीय मौद्रिकरण कार्यक्रम (National Monetisation Pipeline) शुरू करेगी जहां इसकी संभावना दिखेगी. सीतारमण ने लोकसभा में 2021-22 का बजट पेश करते हुए इसकी घोषणा की. इस योजना के तहत गैस पाइपलाइन, राजमार्ग जैसी परियोजनाओं को निजी क्षेत्र के साथ साझा करने या किराये पर चढ़ाकर (monetise national assets) आय बढ़ाने का प्रस्ताव है.

क्या है नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन

नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन के तहत आठ मंत्रालयों की प्रॉपर्टी प्राइवेट कंपनियों के साथ साझा की जा सकती है या किराये पर दी जा सकती है. साझा करने का अर्थ होगा कि सरकारी और प्राइवेट कंपनियां मिलकर किसी प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाएंगी जबकि किराये पर देने का मतलब है किसी सरकारी काम को प्राइवेट हाथों में देकर उससे किराया वसूला जाएगा. जिन आठ मंत्रालयों में यह काम होना है, उनमें रेलवे, टेलीकॉम, रोड ट्रांसपोर्ट और हाइवे, बिजली, युवा मामले और खेल, नागरिक उड्डयन, पेट्रोलियम और नेचुरल गैस, शिपिंग, पोर्ट्स और वाटरवेज.

नीति आयोग की तैयारी

‘इंडियन एक्सप्रेस’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, नीति आयोग वित्तीय वर्ष 21-24 के लिए नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन (कार्यक्रम) बना रहा है. नीति आयोग ने इन आठ मंत्रालयों से कहा है कि वे अपनी प्रॉपर्टी की पहचान करें और बताएं जिन्हें पाइपलाइन में शामिल किया जा सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार सड़क, बिजली, तेल और गैस पाइपलाइन, टेलीकॉम टावर, स्पोर्ट्स स्टेडियम और अन्य संपत्तियों को प्राइवेट कंपनियों के साथ साझा किया जा सकता है या प्राइवेट कंपनियों को किराये पर दिया जा सकता है.

नितिन गडकरी ने क्या कहा

मोनेटाइजेशन या मौद्रिकरण के बारे में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी बहुत पहले इशारा दे चुके हैं. केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग एवं एमसएमई मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) की अगले पांच साल में टोल-ऑपरेट-ट्रांसफर (टीओटी) के जरिये राजमार्गों का मोनेटाइजेशन कर एक लाख करोड़ रुपये जुटाने की योजना है. गडकरी ने कहा था, ‘एनएचएआई अगले पांच साल में टीओटी के मार्फत राजमार्गों का मौद्रिकरण कर एक लाख करोड़ रुपये जुटाना चाह रहा है. हमें शानदार प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं. हमें विदेश के निवेशकों के साथ ही पेंशन कोषों से भी पेशकश प्राप्त हुई हैं.’

रेलवे में होगा बड़ा काम

ऐसे ही एक प्रयास के तहत सरकार ने 150 पैसेंजर ट्रेन को प्राइवेट कंपनियों को देने की तैयारी की है. एयरपोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (Airports Authority of India) के कुछ काम प्राइवेट कंपनियों को दिए जाएंगे ताकि दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और हैदराबाद एयरपोर्ट को ऑपरेट किया जा सके. रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम को किसी प्राइवेट कंपनी को लीज या किराये पर दिया जा सकता है.

रिपोर्ट की मानें तो रेल मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान किराये से 90 हजार करोड़ रुपये कमाने की योजना बनाई है. इसके लिए मंत्रालय 150 पैसेंजर ट्रेन को प्राइवेट कंपनियों को दे सकता है. अंत मार्च तक देश के 50 रेलवे स्टेशनों को दुबारा विकसित करने के लिए आरएफपी (रिक्वेस्ट फॉर प्रोपोजल) और आरएफक्यू (रिक्वेस्ट फॉर क्वालिफिकेशन) जारी किया जा सकता है.

BSNL, MTNL का क्या होगा

सरकार एमटीएनएल, बीएसएनएल और भारतनेट का मोनेटाइजेशन करना चाहती है. इसी तरह खेल मंत्रालय देश के स्पोर्ट्स स्टेडियम का मोनेटाइजेशन करना चाहता है. खेल मंत्रालय ने इसके लिए 20 हजार करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है. स्पोर्ट्स स्टेडियम प्राइवेट कंपनियों को लीज पर दिए जाएंगे और स्टेडियम का ऑपरेशन और मेंटीनेंस कॉन्ट्रेक्ट पर दिया जा सकता है. कोरोना महामारी के दौरान जब अर्थव्यवस्था ढीली पड़ रही है, सरकारी खर्च बढ़ रहा है और आय लगातार घट रही है, तो सरकार मोनेटाइजेशन का काम तेजी से बढ़ाने पर विचार कर रही है.

    'No new videos.'

जाने मालवा के नाम के पीछे की कहानी

मालव जनजाति का उल्लेख सर्वप्रथम ई. पू. चौथी सदी में मिलता है, जब यह जाति सिकंदर से युद्ध में पराजित हुई थी। ये मालव प्रारंभ में पंजाब तथा राजपूताना क्षेत्रों के निवासी थी, लेकिन सिकंदर से पराजित होकर वे अवन्ति (वर्तमान उज्जैन) व उसके आस-पास के क्षेत्रों में बस गये । उन्होंने आकर (दशार्ण) तथा अवन्ति को अपनी राजनीतिक गतिविधियों का केंद्र बनाया। दशार्ण की राजधानी विदिशा थी तथा अवन्ति की राजधानी उज्जयिनी थी। कालांतर में यही दोनों प्रदेश मिलकर मालवा कहलाये। इस प्रकार एक भौगोलिक घटक के रूप में ‘मालवा’ का नाम लगभग प्रथम ईस्वी सदी में मिलता है। मालवा पर करिब 547 वर्षो तक भील राजाओ का शासन रहा,जिनमें राजा धन्ना भील प्रमुख रहे ।[1]। राजा धन्ना भील के ही एक उत्तराधिकारी ने 730 ईसा पूर्व में दिल्ली के सम्राट को चुनौती दी थी , इस प्रकार मालवा उस समय एक शक्तिशाली साम्राज्य था [2]

मौर्य शासक चंद्रगुप्त मौर्य के समय के शासक राजा गरिमध्वज भील थे , वे अपनी बहादुरी और शौर्य के लिए जाने जाते थे , चन्द्रगुप्त मौर्य के मालवा आक्रमण के दौरान उनका सामना भील राजा से हुआ , लेकिन चाणक्य की नीति के फलस्वरूप दोनों राजाओं में मित्रता हो गई [3]

source :- विक्कीपेडिया

    'No new videos.'

नींद ना आने से हैं परेशान? 10-3-2-1 की ट्रिक तुरंत करेगी काम

बहुत कम लोगों के साथ ऐसा होता है कि वो बिस्तर पर जाते ही तुरंत सो जाएं. जल्दी नींद ना आने की समस्या आम है. कई लोग जल्दी सोना तो चाहते हैं पर लगातार करवट बदलते रहने के बाद भी वो आसानी से सो नहीं पाते हैं. ऐसे ही लोगों के लिए लंदन के प्रसिद्ध डॉक्टर राज करण ने एक अनोखी ट्रिक बताई है. डॉक्टर राज ने टिकटॉक पर जल्दी सोने के लिए जो ट्रिक बताई है उसे 10-3-2-1 मेथड का नाम दिया है. डॉक्टर का कहना है कि इस मेथड को अपनाने से आपका शरीर अपने आप नींद के लिए खुद को तैयार करने लगता है.’ देखें क्या है 10-3-2-1 ट्रिक.

    'No new videos.'

Pure hydrogen fuel can be produced by using alluminium with water at room tempreture

Using the aluminum-water reaction to generate hydrogen doesn’t produce any greenhouse gas emissions, and it promises to solve the transportation problem for any location with available water. Simply move the aluminum and then react it with water on-site. “Fundamentally, the aluminum becomes a mechanism for storing hydrogen — and a very effective one,” says Douglas P. Hart, professor of mechanical engineering at MIT. “Using aluminum as our source, we can ‘store’ hydrogen at a density that’s 10 times greater than if we just store it as a compressed gas.”

    'No new videos.'

टाटा भी internet की दुनिया में कदम रखने को तैयार

टाटा सैटेलाइट इंटरनेट सेवा इंटरनेट की दुनिया में अपनी जगह बना रही है। जैसे-जैसे डेटा का उपयोग बढ़ा है, नई कंपनियां भी बाजार में प्रवेश कर रही हैं। जहां एलन मस्क के स्टारलिंक ने बाजार में प्रवेश किया, वहीं अब टाटा ग्रुप भी बाजार में प्रवेश कर रहा है। टाटा के इस कदम से न सिर्फ स्टारलिंक बल्कि मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो को भी बड़ा झटका लगा है।टाटा ने हाल ही में सेमीकंडक्टर के निर्माण की घोषणा की। इस सेमीकंडक्टर का उपयोग मोबाइल और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को बनाने और उपयोग करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा कंपनी 5G लॉन्च करने पर भी काम कर रही है। ऐसी अफवाहें हैं कि टाटा समूह जल्द ही सैटेलाइट इंटरनेट सेवा पर आधारित ब्रॉडबैंड सेवा शुरू कर सकता है। संभवत: इसके लिए टाटा समूह ने टेलीसैट से संपर्क किया है। जो 2024 तक खुला रह सकता है।
फिलहाल बाजार में JIOFIBER की काफी चर्चा है। यूजर्स इसकी स्पीड और सर्विस से काफी खुश हैं। एलन मस्क की स्टारलिंक सेवा की भी हाल ही में घोषणा की गई है। जो जल्द ही भारत में लॉन्च हो सकता है। ऐसे में टाटा समूह ने भी इसमें कदम रखा है। इससे एलन मस्क और जियो दोनों के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं। अनुमान है कि स्टारलिंक 2022 तक 150 एमबीपीएस तक की गति प्रदान करने में सक्षम होगा। इन मुद्दों के आधार पर कहा जा सकता है कि टाटा समूह की इंटरनेट सेवा शुरू होने के बाद यूजर्स को कई लाभकारी प्लान मिल सकते हैं।

24 घंटे में 203 किलोमीटर दौड़े इंदौरी कार्तिक

7 अगस्त शाम 6 से, 8 अगस्त शाम 6 बजे, कुल 24 घंटे 400 मीटर के 507 लेप्स करीब 203 किलोमीटर की सतत दौड़4600 किलोमीटर इंदौर से बेंगलुरु यशवंतपुर (कर्नाटक) की थका देने वाली लम्बी यात्रा । निढ़ाल कर देने वाली गर्मी, पल पल दौड़ में बाधा बन रही थी कई नामचीन धावक गर्मी के सामने हार मान दौड़ से बहार हो चुके थे । उस बीच हल्की सी बारिश ने आग में घी का काम किया स्पर्धा चरम सीमा में थी मजे हुवे धावक हार मानने को तैयार नही थे सिर और बदन पर पानी डाल सतत दोड़ रहे थे कुछ फिजियो की मदद से शरीर की टूट फुट को मरहमपट्टी करवा रहे थे,तो कुछ डायट प्लान चेंज कर गर्मी से निजात पाने की नाकाम कोशिश कर रहे थे । ऐसे में सदी हुई गति नमक का उपयोग कर अपने को क्रैम्प से बचाते हुवे 200 किलोमीटर का टारगेट सेट कर घड़ी से बात करते हुवे । अपनी गाड़ी को दूसरे गैर में ही चलाना उंचीत समझा ओर सतत दौड़ जारी थी । परंतु जूते में कैद पैर मोम की तरह पिघल रहे थे । तलवे छील से गए नाखून काले पड़ गए छाले फुट कर घाव बन गए यहाँ हिम्मत हारना मतलब दौड़ से बहार डिस्टेंस 220 का था पर पैर में असहयनी दर्द के बावजूद अंततः 24 घंटे का सफर तय कर ही लिया हम इंदौरी कहा रुकने,थमने वाले विजय बिगुल बजते ही ये कदम थमे ओर सूर्य देव को प्रणाम कर अगले मिसन इस से भी ज्यादा गर्मी में एक रेकार्ड खंडित करने के प्लान को लिए इंदौर की ओर कुच कर गए ,ये कदम जल्द ही मुलाकात होगी एक खतरनाक मिसन पर विजय पाने की वैसे 24 घंटे स्टेडियम रन का यह मेरा पहला अनुभव था 12 घंटे स्टेडियम रन में तो बहुत झंडे गाड़े है । ऐसी जानकारी भी लगी कि 24 घंटे में 200 किलोमीटर करने वाले अब तक इंडिया में शायद 10 से 15 ही है अपुन अपने पहले अनुभव और सब से कम उम्र में 24 घंटे में 203 करने वाले सब से युवा धावक भी बने तो भैया जी आशीष बनाए रखना आप का यही आशीष हर दौड़ में मेरा रक्षा कवच बन काम करता है

जाने इंदौर के आसपास की वादियों में घूमने का मनोरम द्रश्य

तिन्छा फॉल

इंदौर से करीब 25 किलोमीटर दूर सिमरोल के पास बेहद खूबसूरत झरना है।तिन्छा फॉल   यानि  खंडवा रोड स्थित इस झरने को देखने के लिए स्वयं के वाहन से पहुंचा जा सकता है अकल्पनीय प्राकृतिक  सौन्दर्य के दर्शन  होंगे आपको यंहा पर

जोगी भड़क

इंदौर से 55 किलोमीटर और मानपुर से 10 किमी आगे काफी ऊंचाई से यह झरना गिरता है। ट्रैकिंग करने वालों से लिए यह पसंदीदा ट्रैकों में से एक है। रास्ता अपनेआप में मंज़िल जैसा ही ही लगता है। ऐसा ही है जोगी भड़क का रास्ता। यह ऐसा झरना है जो अंग्रेज़ी अक्षर “एस’ के आकार के वैली में गिरता है। वैली बहुत  गहरी भी है और खूबसूरत भी।

यंहा पर आप  कार या बाइक से जा सकते हैं। इंदौर से ए बी रोड होते हुए मानपुर तक जाते हैं। घाट क्रॉस करते  ही  ढाल गांव आ जायेगा फिर  यहां से पश्चिम में एक कच्चा रास्ता जाता है। कार जा सकती है लेकिन बाइक से नदी तक चली जाएगी। एक किलोमीटर चलने के बाद कार को साइड में पार्क कर दें ट्रैकिंग करते हुए एक किलोमीटर दूर नदी के पास पहुंच कर झरने का  लुफ़्त्त उठायें

हत्यारी खोह

इंदौर से करीब 30 किलोमीटर दूर हत्यारी खोह नाम का ट्रैकिंग स्पॉट है। यहां ऊंचाई से गिरने वाला झरना और प्राकृतिक नजारे दिलों को बहुत ही अंदर तक   छू जाते हैं। यहां पहुंचने के लिए कंपेल से हुए तेलीया खेड़ी में वाहन खड़ा करके करीब दो किलोमीटर ऊबड़-खाबड़ रास्तों पर पैदल चलना होता है। कृपया इसके नाम पर न  जाएँ  । बहुत ही मनोरम जगह है

गिदिया खोह

इंदौर से करीबन 45 किलोमीटर दूर स्थित गिदिया खोह तक डबल चौकी से सिवनी होते हुए पहुंचा जा सकता है। यहां भी काफी ऊंचाई से बहुत ही सुंदर दिखने वाला झरना गिरता है। साथ ही आसपास के प्राकृतिक नजारे भी मन मोह लेने वाले हैं। ट्रैकिंग की पसंदीदा लिस्ट में गिदिया खोह भी एक अहम ट्रैक है।

मुहाड़ी वाटर फॉल

इंदौर से २६ किलोमीटर दुरी पर स्थित ये वाटर फॉल अपनी अनुपम सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है ।ये झरना  तिल्लोर बुजुर्ग के समीप है ।एक बात का ध्यान रखे की यंहा पर मोबाइल का नेटवर्क नहीं मिलता है । बारिश के समय ये पुरे यौवन पर रहता है ।

तो  दोस्तों  उपरोक्त सभी वाटर फॉल तथा पिकनिक स्पॉट  इंदौर  के नजदीक ही है ।  आप अपने पुरे परिवार या मित्रो के साथ जा कर इन सभी  वाटर फॉल तथा पिकनिक स्पॉट का भरपूर  आनंद ले सकते है । हमारी आप लोगो से गुजारिश है की थोड़ी सी सावधानी अवश्य रखे । अरे , एक बात और  हमारा इंदौर पुरे भारत में स्वछता में नम्बर एक है  तो  यदि आप इंदौरियंस है तो कृपया इन सभी जगहों पर भी  स्वछता बनायें रखें । आप अगर इंदौरियंस नहीं भी है तो इन  सभी  वाटर फॉल तथा पिकनिक स्पॉट पर कृपया स्वछता बनायें रखें  । मालवा की इस धरती पर सभी का स्वागत है   

inDefth :-force-based interaction with objects beyond a physical barrier

 inDepth, a novel system that enables force-based interaction with objects beyond a physical barrier by using scalable force sensor modules. inDepth transforms a physical barrier (eg. glass showcase or 3D display) to a tangible input interface that enables users to interact with objects out of reach, by applying finger pressure on the barrier’s surface. To achieve this interaction, our system tracks the applied force as a directional vector by using three force sensors installed underneath the barrier. Meanwhile, our force-to-depth conversion algorithm translates force intensity into a spatial position along its direction beyond the barrier. Finally, the system executes various operations on objects in that position based on the type of application. In this paper, we introduce inDepth concept and its design space. We also demonstrate example applications, including selecting items in showcases and manipulating 3D rendered models

जाने क्या है e-RUPI , देश में एक बड़े बदलाव का संकेत

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने सोमवार को डिजिटल भुगतान समाधान ‘ई-रुपी’ (e-RUPI) लॉन्च किया है. ‘ई-रुपी’ डिजिटल भुगतान के लिए एक कैशलेस और संपर्क रहित माध्यम है. ‘ई-रुपी’ को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से विकसित किया है. इसका मकसद सरकारी कल्याणकारी योजनाओं के दुरुपयोग को रोकना है. इसके जरिए यह सुनिश्चित होगा कि लाभ उस तक ही पहुंचेगा, जिस तक पहुंचना चाहिए. इसे लाभार्थियों के मोबाइल फोन पर क्यूआर कोड या एसएमएस के रूप में ट्रांसफर किया जा सकता है.

या है e-RUPI और कैसे करता है ये काम?

पीएमओ के एक बयान के मुताबिक, अब लाभार्थी अपने मोबाइल फोन पर एक क्यूआर कोड या एक एसएमएस-आधारित इलेक्ट्रॉनिक वाउचर पा सकते हैं. ई-वाउचर का लाभ उठाने के लिए उन्हें कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या यहां तक ​​कि इंटरनेट बैंकिंग की जरूरत नहीं है. उदाहरण के तौर पर आपने एक प्रोडेक्ट खरीदा और खरीदारी पर वाउचर मिला. ई-आरयूपीआई में आपको वाउचर को हार्ड कॉपी लेकर जाने की जरूरत नहीं होगी. वाउचर आपके मोबाइल फोन पर क्यूआर कोड या एसएमएस के रूप में भेजा जा सकता है.

बयान में कहा गया है कि डिजिटल समाधान पूरी तरह से सुरक्षित है क्योंकि यह लेनदेन पूरा होने के बाद ही भुगतान सुनिश्चित करता है. प्री-पेड होने की वजह से बिना किसी बिचौलिए के सर्विस प्रोवाइडर को समय पर भुगतान होगा.

यह प्रणाली सरकार की कल्याणकारी सेवाओं को बिना किसी गड़बड़ी के सुनिश्चित करने में भी बहुत उपयोगी हो सकती है, जैसे कि मां और बाल कल्याण योजनाओं के तहत या टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों के तहत दवाएं और पोषण संबंधी सहायता प्रदान करना.

जीतने के बाद जब ताई ने सिंधु को बाहों में भर लिया

पी वी सिंधु टोक्यो ओलम्पियाड में पदक लेते हुए

सिंधु दौड़कर आई, मुझे गले लगाया और मेरा चेहरा अपने हाथों में भरकर बोली- मुझे पता है कि तुम असहज हो. तुमने बहुत अच्छा खेला लेकिन आज तुम्हारा दिन नहीं था. उसने मुझे बाँहों में भर लिया और बोली कि उसे सब मालूम है कि मुझे कैसा लग रहा होगा.”

भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु के बारे ये अनुभव चीनी ताइपे खिलाड़ी ताई ज़ू यिंग ने साझा किया है.

वही ताई ज़ू यिंग जिन्होंने सिंधु के टोक्यो ओलंपिक के फ़ाइनल में पहुँचने का अंत किया था. ताई ने सेमी फ़ाइनल में सिंधु को हरा दिया था.

मगर फिर ताई को फ़ाइनल में चीनी खिलाड़ी चेन यू फ़ेई के हाथों हार का सामना करना पड़ा था.

ताई ने सिल्वर मेडल तो जीता लेकिन गोल्ड जीतने का मौका खोकर वो काफ़ी दुखी थीं और तब भारत की सिंधु ने उन्हें संभाला.

अब दुनिया की नंबर-1 खिलाड़ी ने ताई ने ये पूरी घटना अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की है और पीवी सिंधु को शुक्रिया कहा है.

27 वर्षीय ताई ने अपनी भावुक पोस्ट में लिखा है,“सिंधु के इस सच्चे उत्साहवर्धन ने मुझे रुला दिया था. मैं सच में बहुत दुखी थी क्यों मैंने बहुत कोशिश की थी.”

    'No new videos.'

आज 2 बजे जारी होगा सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट

नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं क्लास का रिजल्ट (CBSE Class 12th Result) आज (30 जुलाई) दोपहर 2 बजे जारी होगा. स्टूडेंट्स अपना रिजल्ट सीबीएसई बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट cbseresults.nic.in या cbse.gov.in पर चेक कर सकेंगे. इस बात की जानकारी सीबीएसई ने ट्वीट कर दी.

इस फॉर्मूला पर तैयार किया गया रिजल्ट

सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट 30:30:40 के फॉर्मूले पर तैयार किया गया है. इसमें 10वीं और 11वीं के मार्क्स को 30-30 प्रतिशत वेटेज और 12वीं क्लास के इंटरनल एग्जाम को 40 प्रतिशत वेटेज दिया गया है. स्टूडेंट्स के 10वीं क्लास के 5 में से बेस्ट 3 पेपर्स के मार्क्स लिए गए हैं. इसी तरह 11वीं क्लास के भी बेस्ट 3 पेपर्स के नंबर लिए गए हैं. वहीं 12वीं क्लास में स्टूडेंट्स के यूनिट, टर्म और प्रैक्टिकल एग्जाम के मार्क्स लिए जाएंगे. जो छात्र रिजल्ट से संतुष्ट नहीं होंगे, उन्हें एग्जाम देने का मौका दिया जाएगा. हालांकि इसके लिए कोरोना वायरस की स्थिति सामान्य होने का इंतजार करना पड़ेगा.

इस वर्ष संपत्ति गाइड लाइन की दरो में कोई वृद्धि नहीं -सीएम शिवराज सिंह

मध्यप्रदेश शासन ने आमजनो को राहत देने के उद्देश्य से इस वर्ष संपत्ति की गाइडलाइन की दरों में वृद्धि नहीं करने का फैसला किया है। इस वर्ष मौजूदा गाइडलाइन से ही संपत्ति की खरीद और ब्रिक्री होगी। साथ ही 5,000 ऐसे स्थान जहां दरें निधारित नहीं थीं वहां दरें निर्धारित की जाएंगी:

Tourist Spot पर लोगों का जमावड़ा COVID-19 महामारी की तीसरी लहर को न्योता देगा.

कोरोना (Corona) की तीसरी लहर (Third Wave) की आशंका के बीच एक चिंताजनक खबर आई है. एक सर्वे में सामने आया है कि 28 प्रतिशत भारतीय अगस्त-सितंबर के महीने में यात्रा करने की योजना बना रहे हैं. इसी दौरान रक्षाबंधन (Rakshabandhan) जैसा प्रमुख त्‍योहार भी आएगा. लोकल सर्कल्‍स ऑनलाइन प्‍लेटफॉर्म द्वारा किए गए सर्वे में यह चिंताजनक आंकड़े उस समय सामने आए हैं, जब विशेषज्ञ बार-बार भीड़ जमा करने से बचने की चेतावनी दे रहे हैं. पर्यटन स्‍थलों (Tourist Spot) पर इस तरह लोगों का जमावड़ा COVID-19 महामारी की तीसरी लहर को न्‍योता देगा. 

311 जिलों में किया गया सर्वे 

इस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म ने तीसरी COVID-19 लहर आने के खतरे का अंदाजा लगाने के लिए और आगामी महीनों में लोगों की यात्रा योजनाओं (Travel Plans) को समझने के लिए यह सर्वे किया था. साथ ही सर्वे में दूसरी लहर के दौरान लोगों द्वारा की गई यात्राओं की वजह जानने की भी कोशिश की गई. यह सर्वे 311 जिलों के 18 हजार से ज्‍यादा लोगों के बीच किया गया. इन लोगों में 68 फीसदी पुरुष और 32 फीसदी महिलाएं थीं. 

    'No new videos.'

कंज़र्वेटरशिप ने मेरे सपनों को मार दिया है-ब्रिटनी स्पीयर्स

साल 2008 में ब्रिटनी मानसिक स्वास्थ्य की परेशानी से जूझ रही थीं, उस दौरान कोर्ट ने कंज़र्वेटरशिप नाम की एक प्रक्रिया के तहत उनकी देखरेख के लिए कंज़र्वेटर यानी क़ानूनी अभिभावक नियुक्त किए थे.

कोर्ट ने अपने आदेश में ब्रिटनी की संपत्ति और उनकी ज़िंदगी के अहम फ़ैसले लेने का हक़ उनके पिता जेमी स्पीयर्स को दिया था. लेकिन बाद में ब्रिटनी ने अपने पिता को इस भूमिका से बाहर करने की गुज़ारिश की.

ब्रिटनी स्पीयर्स ने कहा कि जब तक उनके पिता का कंट्रोल उनते करियर पर रहेगा, वो परफॉर्म नहीं करेंगी. साल 2008 में कंज़र्वेटरशिप के तहत ब्रिटनी के पिता ये अधिकार मिला हुआ है.

ब्रिटनी ने सार्वजनिक तौर पर किए गए कई कमेंट्स में उनपर किए जा रहे कंट्रोल और अपनी आर्थिक स्थिति को बयां किया. इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में उन्होंने लिखा, “इस कंज़र्वेटरशिप ने मेरे सपनों को मार दिया है… अब मेरे पास कुछ बचा है तो है उम्मीद.”

ब्रिटनी ने समझौते को अपमानजनक बताया है और वो इसे ख़त्म करना चाहती हैं. बीते कई सालों से ब्रिटनी के लीगल गार्जियन (क़ानूनी तौर पर उनके अभिभावक) उनके करियर के फ़ैसले ले रहे हैं.

ब्रिटनी ने लिखा, “मैं आने वाले दिनों स्टेज पर परफॉर्म नहीं करूंगी, जब मेरे पिता ये फ़ैसला करें कि मुझे क्या पहनना है, बोलना है, करना है या सोचना है.”

“वेगस पर स्टेज पर जाने से बेहतर है मैं अपने कमरे से वीडियो शेयर करूं. मैं मेकअप लगा कर बार बार स्टेज पर कोशिश नहीं करूंगी.”

    'No new videos.'

कैसे काम करता है सॉफ्टवेयर पेगासस

ये एक सर्विलांस सॉफ्टवेयर है जिसे इसराइल की सुरक्षा कंपनी एनएसओ ग्रुप ने बनाया है. इसके जरिए किसी व्यक्ति का फोन हैक करके उसकी गतिविधियों पर नजर रखी जा सकती है.

इसे टारगेट के फोन में इंस्टॉल किया जाता है और फिर उसके फोन का रीमोट कंट्रोल ले लिया जाता है. ये रिमोट एक्सेस ट्रोजन की तरह काम करता है.

यरूशलम स्थित द इंस्टीट्यूट फ़ॉर नेशनल सिक्यूरिटी स्टडीज़ से जुड़े साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ कर्नल गाबी सिबोनी के मुताबिक, “ये कैसे काम करता है इसके बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है. ये एक बेहद उन्नत सॉफ्टवेयर है जिसे एनएसओ ने डेवलप किया है.”

इसे बनाने वाली कंपनी एनएसओ का गठन 2009 में हुआ था और ये अति उन्नत निगरानी टूल बनाती है. दुनिया के कई देशों की सरकारें इसकी ग्राहक हैं.

पेगासस-जासूसी मामले में जो कथित नई लिस्ट जारी की गई है उसमें उस महिला के इस्तेमाल किये गए तीन फ़ोन नंबर भी हैं जिसने अप्रैल 2019 में भारत के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था.

सुप्रीम कोर्ट की एक आंतरिक समिति ने गोगोई को क्लीन-चिट दे दी थी और उनके रिटायर होने के तुरंत बाद सरकार ने उन्हें राज्यसभा के लिए नामित किया था.

द वायर के अनुसार, इस महिला के नंबरों के साथ-साथ उनके पति और उनके दो भाइयों द्वारा इस्तेमाल किए गए आठ अन्य नंबरों को निगरानी के लिए चुना गया. द वायर के अनुसार, ये वह समय था जब पूर्व सीजेआई के ख़िलाफ़ उन्होंने आरोप लगाए थे.

माइंड रीडिंग हेलमेट से इंसान के दिमाग को सीधे एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से कनेक्ट कर सकते हैं

बायोहैकर ब्रायन जॉनसन (Biohacker Bryan Johnson) एक ऐसे मिशन पर हैं, जिससे इंसान के दिमाग को सीधे एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से कनेक्ट कर सकते हैं और इस सफर की शुरुआत हो चुकी है. उन्होंने कहा कि 50,000 डॉलर यानी करीब 37 लाख रुपए की कीमत वाला हेल्मट, जो दिमाग की एक्टिविटी को अनगिनत समय के लिए रीड किया जा सकता है. 

माइंड रीडिंग हेलमेट की चल रही तैयारी

जबकि जॉनसन की माइंड रीडिंग स्टार्टअप कंपनी कर्नेल (Kernel) द्वारा उपयोग की जाने वाली टेक्नोलॉजी चिकित्सा अनुसंधान मशीनों (Medical Research Machines) में पहले से ही मौजूद है. उनके द्वारा हल्का हेल्मेट; रिसर्चर्स के स्टडी के लिए डेवलेप किया गया है, जो दिमाग के सक्रियता के बारे में बतलाएगा. 

    'No new videos.'

ऐसे बनी हेलेन सलमान खान के परिवार का अटूट हिस्सा

दूसरे विश्व युद्ध में जब हेलेन के पिता का निधन हुआ तो वो परिवार के साथ बर्मा से भारत आ गई थीं. उस वक्त उनकी आर्थिक हालत बहुत ही बुरी थी. उसी वक्त हेलेन के भाई भी गुज़र गए. जैसे तैसे हेलेन की मां ने नौकरी ढूंढी, लेकिन उस तन्ख्वाह में घर खर्च बमुश्किल ही चलता था. आखिरकार हेलेन ने भी काम करने का फैसला लिया. उनकी जान पहचान एक बैकग्राउंड डांसर से थी, लिहाज़ा हेलेन को भी यही काम मिल गया. हेलेन बेहतरीन डांस करती थीं, जिसे देखते हुए उन्हें हावड़ा ब्रिज फिल्म में एक बड़ा मौका मिला. और वो रातों रात दर्शकों के बीच छा गईं. इस तरह हेलेन एक बड़ी और बेहतरीन डांसर के रूप में उभरकर सामने आईं. 

हेलेन ने इस दौरान निर्देशक पीएन अरोड़ा से शादी कर ली थी. लेकिन ये शादी जल्द ही टूट गई. आखिरकार हेलेन की मुलाकात हुई सलीम खान से 1962 में. धीरे धीरे हेलेन को सलीम पसंद आने लगे और सलीम खान भी हेलेन को दिल दे बैठे. आखिरकार 1980 में दोनों ने शादी कर ली. उस वक्त इस रिश्ते का विरोध सलीम खान की पहली पत्नी सुशीला चरक ने ही नहीं बल्कि उनके बच्चों ने भी किया. सलमान खान, अरबाज़ और सोहेल तीनों ही इस शादी के सख्त खिलाफ थे और हेलेन से बात तक नहीं करते थे. 

धीरे-धीरे हेलेन का स्वभाव सभी को पसंद आने लगा और ये पता चला कि हेलेन वाकई काफी अच्छी हैं. लिहाज़ा सुशीला चरक ने ही नहीं बल्कि सलमान और सभी बच्चों ने भी उन्हें अपना लिया. और आज हेलेन सलमान खान के परिवार और इनकी जिंदगी का अटूट हिस्सा बन चुकी हैं.  

    'No new videos.'
LIVE OFFLINE
Loading...