रिकॉर्डवीर कोहली

टीम इंडिया का भविष्य इस समय ‘विराट’ दिख रहा है। दिल्ली के स्टार विराट कोहली ने जिस प्रकार से कप्तानी संभाली है, ऐसा लग रहा है कि 2015 के वर्ल्ड कप के लिए हमें एक और लीडर मिल गया है। पहले वेस्ट इंडीज और अब जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे सेंचुरी लगाकर उन्होंने एक ऐसा कारनामा कर दिखाया है जो कभी कोई भारतीय दिग्गज नहीं कर पाया था। हरारे में जिम्‍बाब्‍वे को हराया: कोहली, रायुडू और मिश्रा रहे जीत के हीरो
विराट के सामने चुनौती कुछ खास नहीं थी, लेकिन बतौर कप्तान अपना धैर्य बनाए रखना उनकी लीडरशिप क्वालिटी का नमूना दिखा गया। कोहली ने मुश्किल पिच पर जहां हर टॉप ऑर्डर बल्लेबाज का स्ट्राइक रेट 100 से कम का था, वहां 106.48 की स्ट्राइक रेट से बेहतरीन शतक जड़ा। उन्होंने महज 108 गेंदों का सामना करते हुए 13 चौकों और 1 छक्के की मदद से 115 रन बनाए।
इस सेंचुरी के साथ ही 24 साल के कोहली ने एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया जिसकी बराबरी आने वाले समय में कोई इंडियन नहीं कर पाएगा।
विदेशी मैदानों पर कप्तानी करते हुए 24 या उससे कम की उम्र में 2 सेंचुरी लगाने वाले वे भारत के पहले और वर्ल्ड के तीसरे खिलाड़ी बन गए हैं।
विराट ने कपिल देव के 1983 में बनाए 1 शतक के रिकॉर्ड को जिम्बाब्वे के खिलाफ सेंचुरी लगाकर चकनाचूर कर दिया। 1983 में जिम्बाब्वे के ही खिलाफ नाबाद 175 रन की पारी खेलकर कपिल देव ने यह कीर्तिमान रचा था।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.