इंदौर के ऐतिहासिक स्थानों में से एक – लालबाग पैलेस

लालबाग इंदौर के ऐतिहासिक स्थानों में से एक है। तीन मंजिला यह इमारत महाराजा शिवारीराव होलकर ने 1886 से 1921 में बनवाया था। आज भी इस इमारत से होलकर परिवार के शाही अंदाज का एहसास होता है। लालबाग पैलेस के बनने की शुरुआत 1886 में तुकोजीराव होलकर-2 ने कराई करवाई, तीन हिस्सों में बना यह पैलेस 1921 में तुकोजीराव-3 ने पूरा करवाया। इस पैलेस की अनोखी नक्काशी से यह इमारत हिन्दुस्तान की सबसे सुंदर इमारतों में से एक है। लालबाग की पहली मंजिल पर सिक्कों का विशाल संग्रहालय है। इमारत को हिन्दुस्तान व इटली की खूबसूरत पेंटिंग और मूर्तियों से सजाया गया है। यह पैलेस 28 एकड़ की विशाल जमीन पर फैला हुआ है और यहां का गुलाबबाग भारत के सबसे सुंदर बागों में से एक है। यह इमारत खान नदी पर स्थित है और इस इमारत की रसोई खान नदी के दूसरे छोर पर थी। यहां से खाना पैलेस तक लाने के लिए अनोखी व्यवस्था की गई थी। रसोई से इमारत तक खाना लाने के लिए सुरंग का इस्तेमाल किया जाता था। एक सुरंग के ऊपर एक और सुरंग होती थी, जिसमें गर्म पानी भरा जाता था ताकि खाने एक जगह से दूसरी जगह लाने में ठंडा न हो पाए। इस इमारत को देख आधुनिकता और परम्परागत दोनों झलकती है। मध्यप्रदेश सरकार इस पैलेस को सांस्कृतिक धरोहर के रूप में विकसित रही है।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *