तकनीकी की दुनिया “अगली बड़ी चीज़” होंगी स्मार्ट वॉच

तकनीकी की दुनिया हमें “अगली बड़ी चीज़” बेचने को बेताब है- और यह हमारी कलाई, आंखों और शरीर के अन्य हिस्सों पर नज़र रखे हुए है.
अर्धविकसित उत्पाद जल्दबाज़ी में बाज़ार में उतार दिए जाते हैं और मार्केटिंग करने वाले हमें बताने लगते हैं कि यह जिंदगी को कैसे बेहतर बना सकता है- ऐसे, जैसे हमने कभी सोचा ही नहीं था.
एम्यूनिशन ग्रुप के डिज़ाइन लैब के संस्थापक रॉबर्ट ब्रनेर कहते हैं, “जब तक लोग इन उपकरणों को सहजता से पहनने न लगें या पहनने को तत्पर न हों, तब तक इनका वक्त नहीं आने वाला.”
वो कहते हैं, “ब्लूटूथ हेडसेट को लिमोज़िन ड्राइवरों और सेल्स पर्सन से जोड़ कर देखा जाता है- और यही इसकी सीमा है.
अगर हाथ की कोई हरकत अटपटी लगती है (स्मार्टवॉच से फ़ोटो खींचना या बात करना) तो चश्मा न पहनने वालों को अपनी आंख पर एक उपकरण लगाने को कहना और भी अटपटा लगेगा. ख़ासतौर पर तब जबकि इसका कोई बहुत महत्वपूर्ण उपयोग न हो.

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *