अब 40 पेज की आंसरशीट और एक सप्लीमेंट्री कॉपी ही मिलेगी : यूनिवर्सिटी

इंदौर. यूनिवर्सिटी ने क्वालिटी एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए तय किया है कि छात्रों को अब परीक्षा में 32 या 34 के बजाय 40 पेज की कॉपी मिलेगी। छात्र एक से ज्यादा सप्लीमेंट्री कॉपी भी नहीं ले सकेंगे। हर प्रश्न के जवाब की शब्द सीमा और पेज लिमिट भी तय रहेगी। यानी, छात्र सिर्फ पेज भरने के आधार पर अंक नहीं मांग सकेंगे। यह व्यवस्था नए शिक्षा सत्र से शुरू होगी। गुरुवार को यूनिवर्सिटी कार्यपरिषद की बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में डॉ. विक्रांत भूरिया ने सवाल उठाया कि सेमेस्टर परीक्षाओं का शेड्यूल पटरी से उतर गया है। ऐसा क्यों हुआ? कुलपति-कुलसचिव ने जवाब दिया कि पिछले साल नवंबर में विधानसभा और इस साल अप्रैल में लोकसभा चुनाव थे, इसलिए देरी हुई। कोशिश करेंगे कि नया सत्र पटरी पर आ जाए। कर्मचारियों के १७५ पद भरने के लिए राजभवन से आया पत्र प्रबंधन द्वारा दबा लेने संबंधी आरोप का मुद्दा भी बैठक में उठा। सदस्यों ने कहा पत्र पर तुरंत कार्रवाई की जाना चाहिए। यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने कहा 18 जून से पहले कमेटी बनाई जाएगी, जो अगली प्रक्रिया तय करेगी। यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में किताबों की कमी पर कार्यपरिषद ने चिंता जताई। कहा गया कि किताबें समय पर नहीं मिलीं तो संबंधित बुक सेलर की कॉशन मनी जब्त की जाए। 60 फीसदी किताबें देने के बाद ही उसे भुगतान करें। नई शर्तें तुरंत लागू की जाएंगी। बैठक में ज्यादातर अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। सहमति से निर्णय लिए गए। परीक्षा-रिजल्ट का शेड्यूल पूरी तरह पटरी पर लाएंगे। आंसरशीट के पेज बढ़ाने के साथ जवाब की शब्द सीमा तय की गई है। अलग-अलग कोर्स के हिसाब से इसे डिफाइन किया जाएगा।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *