मोटिवेशन के लिए आईआईटी इंदौर ने लॉन्च की स्कीम

इंदौर. रिसर्च को प्रमोट और स्टूडेंट्स को रिसर्च में इनोवेशन लाने के लिए इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, इंदौर ने नई स्कीम लॉन्च की है। इसका नाम है प्रमोशन ऑफ रिसर्च एंड इनोवेशन फॉर अंडरग्रेजुएट स्टूडेंट्स। इस स्कीम के तहत आईआईटी इंदौर के स्टूडेंट्स को लेबोरेट्रीज में रिसर्च के लिए मोटिवेट किया जाएगा। इसके साथ इसमें इनोवेशन के प्रोजेक्ट्स को प्रोत्साहित भी किया जाएगा। आईआईटी आई स्टूडेंट्स इंटर डिसीप्लीनरी रिसर्च प्रोजेक्ट्स में इन्वॉल्व हैं जैसे क्लाइंबिंग व्हीकल का डेवलपमेंट करना, फर्स्ट रेडियो टेलीस्कोप से लाइन एनिमेशन प्रोसेसिंग और पोर्टेबल डिवाइसेस से आईरिस लाइवनेस को डिटेक्ट करना। स्टूडेंट्स द्वारा किए गए रिसर्च प्रोजेक्ट्स को कई प्रेस्टीजियस अवॉर्ड मिले हैं। स्टूडेंट्स द्वारा की जा रही रिसर्च करीब सौ इंटरनेशनल जर्नल्स में पब्लिश हो चुकी है। रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन से रिसर्च पार्टनरशिप को बढ़ाने के लिए आईआईटी ने फ्रांस के इंस्टिट्यूट से स्ट्रेटजिक पार्टनरशिप की है। यह स्टूडेंट एक्सचेंज और कोलेबोरेटिव रिसर्च वर्क में हेल्पफुल हैं। साथ ही आईआईटी इंदौर इंटरनेशनल प्रोजेक्ट्स जैसे लार्ज आयन कोलाइडर एक्सपेरीमेंट, जेनेवा और एंटी प्रोटॉन एन्हीलेशन, जर्मनी में भी एक्टिवली इन्वॉल्व है।
हर्षित को अवॉर्ड- आईआईटी आई से इसी साल बीटेक कम्प्लीट करने वाले हर्षित अग्रवाल को हाल ही मंे हुए कन्वोकेशन के दौरान बेस्ट बीटेक प्रोजेक्ट का अवॉर्ड दिया गया था। हर्षित ने आईआईटी आई हब बनाया था जो कि एक कॉलेज कम्युनिकेशन सिस्टम है। वे बताते हैं कि इस सिस्टम की मदद से स्टूडेंट्स और फैकल्टीज के बीच बेहतर कम्युनिकेशन हो पाएगा। कल्टीज द्वारा दिए असाइनमेंट्स को स्टूडेंट्स ऑनलाइन ही देख सकेंगे। फिलहाल यह सिस्टम वेबसाइट पर वर्क कर रहा है। इसे एप्प के स्वरूप में कुछ ही दिनों में मोबाइल प्लेटफॉर्म पर भी लाया जाएगा। अगले साल तक वे इस सिस्टम की फंक्शनिंग को संभालेंगे।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *