इंदौर की कोमल कालरा पागारानी मिसेज़ एशिया इंटरनेशनल बनी

इंदौर. इंदौर की कोमल कालरा पागारानी मिसेज़ एशिया इंटरनेशनल बन गई हैं। मलेशिया में 25 से 28 जून तक चले इस ब्यूटी कॉन्टेस्ट में कोमल 27 पार्टिसिपेंट्स के बीच विनर रही हैं। चार दिनों के इस मुकाबले में कंटेस्टेंट्स को परखने के लिए कई राउंड्स हए। कोमल की परफॉर्मेंस हर बार सराही गई। मेरा मानना है कि यूथफुल दिखने के लिए और अपनी असल उम्र छिपाने के लिए नेचर से छेड़छाड़ ठीक नहीं है। उम्र छिपाना दूसरों और खुद के साथ किया छलावा है और मुझे इसमें यक़ीन नहीं। मेरे हिसाब से हर उम्र का अपना एक ग्रेस होता है और ऐज को जितना जल्द एक्सेप्ट कर लेंगे उतना अच्छा। ब्यूटी कॉन्टेस्ट की शुरुआत 25 जून से हो गई थी। ज्यूरी ने हमें अलग-अलग कसौटियों पर परखा। वॉक, कॉन्फिडेंस, ग्रेस, डिग्निटी और बिहेवियर के साथ प्रेज़ेंस ऑफ माइंड और थैंक्यू बोलने के तरीके से भी कंटेस्टेंट्स को परखा। 28 जून को रैम्प पर कुल तीन राउंड हुए। ईवनिंग गाउन, ट्रेडिशनल और वेस्टर्न। इसके अलावा टैलेंट राउंड भी हुआ जिसमें मैंने इंडियन सॉन्ग पर डांस किया। शादी के बाद इनलॉज़ का सपोर्ट ज़रूरी- मिसेज़ एशिया इंटरनेशनल पेजेंट में हिस्सा लेने के लिए मुझे प्रेरित किया मेरे हसबैंड ने। मेरे इस फैसले को मेरे इनलॉज़ का भी पूरा सपोर्ट मिला। शादी के बाद किसी भी लड़की के आगे बढ़ने में इनलॉज़ की भूमिका अहम है। मैं इस कॉन्टेस्ट में जाने से पहले से ही शहर के एक एनजीओ से जुड़कर कुछ बच्चों के एजुकेशन को सपोर्ट कर रही थी। इस कॉन्टेस्ट के बाद भी मैं इस नोबल कॉज़ को जारी रखूंगी। इस कॉन्टेस्ट को जीतने से जो फेम मिल रहा है उसका फायदा ज़रूरतमंदों को दे सकूं तब होगी असली जीत।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *