जर्मनी फाइनल में, ब्राजील को 7-1 से रौंदा

पांच बार के चैम्पियन ब्राजील के फुटबॉल इतिहास का सबसे काला अध्याय लिखते हुए जर्मनी ने उसे 7-1 से हराकर रिकॉर्ड आठवीं बार विश्व कप के फाइनल में प्रवेश कर लिया और इसके साथ ही फुटबॉल का दीवाना मेजबान देश शोक के सागर में डूब गया। घायल सुपरस्टार नेमार के बिना जज्बातों से भरा सेमीफाइनल मुकाबला खेलने वाली ब्राजीली टीम के लिए अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में यह सबसे शर्मनाक हार है। जर्मनी ने जापान में 2002 फाइनल में 0-2 से मिली हार का बदला भी चुकता कर लिया।
जर्मनी के लिए थॉमस मूलर ने 11वें मिनट में पहला गोल किया। इसके बाद मिरोस्लाव क्लोसे (23वां), टोनी क्रूस (24वां और 26वां), सैमी केदिरा (29वां) और आंद्रे शूएरले (69वां और 79वां) ने गोल दागे।

ब्राजील के लिए एकमात्र गोल 90वें मिनट में ऑस्कर ने किया लेकिन तब तक टीम का फुटबॉल के इस महासमर से बाहर होना तय हो चुका था।

ऐसा लग रहा था मानो ब्राजीली फुटबॉल खेलना ही भूल गए हैं क्योकि पहले आधे घंटे में उन्होंने पांच गोल गंवा दिये। निलंबित कप्तान थिएगो सिल्वा के बगैर टीम अमैच्योर क्लब टीम से भी बदतर खेल रही थी।

क्लोसे विश्व कप के इतिहास में सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी बन गए जिन्होंने आज 16वां गोल दागा। उन्होंने ब्राजील के रोनाल्डो को पछाड़ा जिनके नाम 15 गोल हैं। इसके अलावा वह चार विश्व कप सेमीफाइनल खेलने वाले भी इकलौते खिलाड़ी बन गए।

दूसरी ओर मैदान को पीले सागर में डुबोने वाले ब्राजीली प्रशंसक इस शर्मनाक हार के बाद सदमे में नजर आये। अब तक ब्राजीली रियो डी जिनेरियो के माराकाना स्टेडियम पर खेले गए 1950 विश्व कप फाइनल में उरूग्वे से मिली हार को राष्ट्रीय त्रासदी मानते आये थे लेकिन अब देखना होगा कि 64 साल बाद टूर्नामेंट की मेजबानी कर रहे देश पर जर्मनी के हाथों इस हार का कितना असर होगा।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *