पेरिस के राजमहलों जैसी है लालबाग पैलेस कि सजावट

इंदौर. हाल ही में खबर आई थी कि अब लालबाग पैलेस और उसके विशाल परिसर को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विकसित किया जाएगा। 125 साल पहले बने होलकरों के इस नायाब महल और परिसर को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने की योजनाएं बनी थी, लेकिन बात नहीं बढ़ सकी। लालबाग के भव्य और अंतरराष्ट्रीय ख्याति वाले प्रवेशद्वार पर बने मोटो का अर्थ है : जो प्रयास करेगा सफल होगा। हो सकता है इस बार की कोशिशें कुछ रंग लाए और इस कलात्मक और खूबसूरत भव्य महल के परिसर का विकास हो सके। ये राजमहल सरस्वती नदी के किनारे पर 72 एकड़ में फैला हुआ है। इसमें चार एकड़ में बना है चार मंजिला राजमहल। 1853 में महाराजा तुकोजीराव द्वितीय ने लालबाग की लैंडस्केपिंग हुई। इसकी जिम्मेदारी दी गई ख्यात उद्यानशास्त्री मिस्टर हार्वे को। उन्होने बड़े-बड़े पेड़ों तथा सजावटी पौधों को लगाकर एक गुलाब चक्र का निर्माण किया था। इस बाग में खूबसूरत बारादरी भी बनाई गई थी।
1884 में बना : लालबाग में महल बनाने की योजना तुकोजीराव द्वितीय (1844-1886) के शासन काल में 1877 में राज्य के इंजीनियर मिस्टर केरी द्वारा बनाई गई। राजमहल का निर्माण युवराज शिवाजीराव होलकर के निवास हेतु किया गया था। 1884 तक महल बनकर तैयार हो गया।
1600 तरह के गुलाब मंगाए थे लंदन से- 1911 तक नए महाराजा के निवास के रूप में लालबाग पैलेस को यूरोपीय स्वरूप प्रदान किया गया। 1921 में महल की साज-सज्जा फिर नए सिरे से की गई। 1936 से लेकर 1938 के बीच 1600 प्रजातियों के गुलाब लालबाग में लगाए गए थे। भवन निर्माण कला की दृष्टि से लालबाग पैलेस की मुख्य विशेषताएं हैं-इसकी रोमन शैली, पेरिस के राजमहलों वाली सजावट, बेल्जियम की कांच कला, कलात्मक झा़ड़ फानुस, कसारा संगमरमर के स्तंभ, स्वर्णिम आभा से सजा दरबार हॉल, छतों पर बने नायाब चित्रकला के नमूने और कीमती फर्नीचर के साथ खूबसूरत गलीचे। जहां तक लालबाग महल की मरम्मत और संरक्षण की बात है इसमें कोई बड़ी समस्या नहीं है। असली समस्या है इसके विशाल परिसर को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करना। इसमें संबंध पर समय समय पर कुछ सुझाव दिए गए थे। इसमें से प्रमुख हैं : सरस्वती नदीं को झील का रूप देना, अंतरराष्ट्रीय स्तर के तारामंडल का निर्माण करना, म्यूजि़यम बनाना और लाइट एंड साउंड शो करना।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.