अब इंटरनेट के बिना भी हो सकेगी मोबाइल बैंकिंग

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नरेन्द्र मोदी सरकार की पहल पर दूरसंचार कंपनियां एसएमएस के माध्यम से मोबाइल बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए अपने इंफ्रास्ट्रक्चर के उपयोग पर सहमत हो गई हैं। इस सेवा के अंतर्गत बिना इंटरनेट के किसी भी मोबाइल फोन से एसएमएस के माध्यम से फंड ट्रांसफर, बचत खाता में बैंलेंस की जानकारी, पिन बदलने, मिनी स्टेटमेंट और चेक बुक का आग्रह किया जा सकेगा। पिछले दो महीने में दस दूरसंचार कंपनियां इस सेवा को शुरू करने के लिए भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) के साथ करार चुकी है। एनपीसीआई सरकार समर्थित पेमेंट गेटवे है। यह सेवा अनस्ट्रक्चर्ड सप्लिमेंट्री सर्विस डाटा (यूएसएसडी) के जरिए साधारण एसएमएस से पूरी की जाएगी। इससे डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड लेन-देन भी किया जा सकेगा। हालांकि शुरूआत में यूएसएसडी को सिर्फ बेसिक बैंकिंग सेवाओं और कम राशि के बिलों के भुगतान तक सीमित रखा जाएगा। इसके लिए ग्राहक को प्रत्येक ट्रांजेक्शन के लिए 1.50 रुपए शुल्क का भुगतान करना होगा। यह शुल्क दूरसंचार नियामक ट्राई ने निर्धारित किया है। शुरुआत में दूरसंचार कंपनियों को आशंका थी कि इस तरह की सेवाओं से उनका कारोबार प्रभावित होगा, इसलिए इस तरह का इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने में देरी हुई है। हालांकि ट्राई की ओर से संचार चैनलों को प्रभावित नहीं किए जाने के संकेत मिलने के बाद कंपनियां इस पर सहमत हुई हैं। मोबाइल फोन रखने वाले बैंक खाताधारक इस सेवा का उपयोग कर सकते हैं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...