एमपी बोर्ड परीक्षा: पांच हजार छात्र-छात्राएं 10वीं की परीक्षा देने नहीं पहुंचे

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इंदौर. मंगलवार से शुरू हुई माध्यमिक शिक्षा मंडल की 10वीं की परीक्षा में करीब पांच हजार विद्यार्थी परीक्षा देने नहीं पहुंचे। यह पहला मौका है जब इतनी अधिक संख्या में छात्र नहीं आए। उधर, विकासखंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में जांच अधिकारियों ने दो नकल प्रकरण बनाकर केंद्राध्यक्ष को नोटिस जारी कर कहा- क्यों न आपको नकल में सहभागी मानकर कार्रवाई की जाए।

शिक्षा विभाग हर साल प्राइवेट स्कूलों को भी केंद्र बनाता है, लेकिन इस बार किसी भी प्राइवेट स्कूल को केंद्र आवंटित नहीं किया। पांच हजार छात्रों के परीक्षा में नहीं आने की वजह इसी सख्ती को बताया जा रहा। जिले में करीब 153 परीक्षा केंद्र बनाए थे। नियमित और प्राइवेट मिलाकर 38 हजार 652 छात्रों को परीक्षा देना थी।
इनमें से 5972 छात्र सरकारी स्कूलों के भी थे। विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जो पांच हजार से ज्यादा छात्र परीक्षा देने नहीं पहुंचे, उनमें ज्यादातर प्राइवेट फॉर्म भरने वाले छात्र थे। वहीं डाइट में बैठक व्यवस्था ठीक नहीं थी। छात्र पास-पास बैठकर परीक्षा दे रहे थे।

प्राइवेट स्कूलों को केंद्र नहीं बनाया, इसलिए प्रकरण कम
इस बार हमने प्राइवेट स्कूलों को परीक्षा केंद्र नहीं बनाया, इसलिए नकल के ज्यादा मामले सामने नहीं आए। शायद इसी सख्ती के कारण इतने बच्चे परीक्षा देने नहीं पहुंचे हों। इससे पूर्व ऐसा नहीं हुआ। दो नकल प्रकरण बनने पर डाइट केंद्राध्यक्ष को नोटिस जारी किया है।
– किशोर शिंदे, जिला शिक्षा अधिकारी

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...