हर साल पकड़ाते थे 40 नकलची

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इंदौर. माध्यमिक शिक्षा मंडल की बोर्ड परीक्षाओं में नकल को लेकर बरती जा रही सख्ती का असर दसवीं की परीक्षा के में साफ देखने को मिल रहा है। स्थिति यह है कि पिछली बार परीक्षा के इस दौर तक 40 से ज्यादा नकल प्रकरण बन चुके थे। ये हाईस्कूल परीक्षा में बने थे। जबकि इस बार अभी तक चार प्रकरण भी नहीं बने हैं। स्थिति यह है कि अभी तक दो परचों में 10 हजार 700 विद्यार्थी देने ही नहीं पहुंचे। इनमें से कुछ पहुंचे भी थे तो सख्ती देखकर केंद्र से ही रवाना हो गए। माध्यमिक शिक्षा मंडल का कहना है कि अब आगे औैर सख्ती की जाएगी। भोपाल मुख्यालय ने भी इस सख्ती पर इंदौर की तारीफ की है। कहा है कि कहीं न कहीं इसका फायदा आने वाले सालों में भी मिलेगा। दरअसल इस बार जिला शिक्षा अधिकारी ने आदेश जारी किया था कि किसी भी केंद्र पर नकल होगी तो केंद्राध्यक्षों को भी जिम्मेदार मानते हुए सहभागी बनाया जाएगा। यानी कार्रवाई केंद्राध्यक्षों पर भी होगी। अभी तक बोर्ड परीक्षाओं के दौरान लगातार कई स्कूलों में सामूहिक नकल के प्रकरण सामने आते रहे हैं। लेकिन वह सिलसिला अब पूरी तरह थमता नजर आ रहा है। सख्ती का असर दिख रहा है जिला शिक्षा अधिकारी किशोर शिंदे का कहना है कि हमारी सख्ती का ही असर है कि दसवीं की परीक्षा में अब तक 10 हजार 700 विद्यार्थी अनुपस्थित रहे। आगे और सख्ती करेंगे। नकल प्रकरण भी घट गए हैं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...