महीनेभर में बाहर हो जाएंगे कार्यपरिषद के पांच सदस्य, नए सदस्यों की नियुक्ति पर संकट

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

davv-indore-results1_1429

इंदौर. देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी कार्यपरिषद के पांच सदस्य अगले माह बाहर हो जाएंगे। लेकिन संकट यह है कि नए सदस्य कैसे बनेंगे? क्योंकि राज्यपाल कुलाधिपति रामनरेश यादव बीमार हैं। पूरी प्रक्रिया में समय लगता है। ऐसे में 15 सदस्यों वाली कार्यपरिषद में महज 10 सदस्य ही बचेंगे।

इधर, सदस्यों ने जिन दो विभागाध्यक्षों की कारगुजारियों पर हंगामा किया था, उनके खिलाफ कार्यपरिषद की इसी माह होने वाली बैठक में प्रस्ताव भी लाने की तैयारी है। इस पर कार्यपरिषद की मुहर लगी तो यह यूनिवर्सिटी के इतिहास में पहली बार होगा जब किन्ही विभागाध्यक्षों को इस तरह बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा।

दरअसल कार्यपरिषद में उस दिन हुए हंगामे के पहले से लाइफ साइंस के हेड डॉ. सुरेश चांद और आईआईपीएस के डायरेक्टर डॉ. आनंद सप्रे इन दिनों सभी के निशाने पर है। लेकिन उनका कहना है कि कार्यपरिषद के हंगामे से कोई फर्क नहीं पड़ता। हाल ही में हुई बैठक में सदस्य डॉ. विक्रांत भूरिया ने आईआईपीएस और लाइफ साइंस के विभागाध्यक्षों के खिलाफ लगातार आ रही शिकायतों का मुद्दा उठाया था था।
डॉ. भूरिया ने कहा था कि विभागाध्यक्ष हैं तो क्या पूरी यूनिवर्सिटी को सिर पर उठाने का ठेका मिल गया है?, क्या विद्यार्थी, क्या फैकल्टी सब इनसे त्रस्त हैं। लेकिन इसके बाद भी दोनों विभागाध्यक्ष कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं है। जबकि सदस्यों ने यहां तक कह दिया है कि अगली बैठक में वे इन विभागाध्यक्षों को हटाने का प्रस्ताव तक ला सकते हैं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...