यूजीसी ने चेताया, खाली पद नहीं भरे तो डीएवीवी को नहीं मिलेंगे बड़े प्रोजेक्ट

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

davv-indore-results1_1430

खाली पदों को नहीं भरने या भारी लेटलतीफी के कारण यूनिवर्सिटी की मुश्किलें लगातार बढ़ रही हैं। न तो कर्मचारियों के और न टीचर्स के पद भरे जा सकें हैं। हालत यह है कि अब तो प्रबंधन के लिए मुश्किलें इसलिए भी बढ़ रही है कि नियुक्तियों के मामले में यूनिवर्सिटी ने लापरवाही ज्यादा की है।

यही वजह है कि यूजीसी (यूनिवर्सिटी ग्रांट कमिशन) ने साफ कर दिया है कि देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी सहित सभी यूनिवर्सिटी को चेतावनी दी है कि जुलाई 2015 में आरंभ होने वाले अगले सत्र से पहले खाली पदों पर अनिवार्य नियुक्तियां की जाएं। खासकर ए ग्रेड यूनिवर्सिटी के लिए यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि ऐसा नहीं करने की स्थिति में उनकी करोड़ों की ग्रांट संकट में पड़ जाएगी।
यूजीसी के इस आदेश के बाद यूनिवर्सिटी के सामने संकट की स्थिति है। क्योंकि इस मामले में उसने प्रक्रिया महीनों पहले ही शुरू कर दी थी। लेकिन परिणाम कुछ नहीं निकला है। फिलहाल डीएवीवी में टीचिंग और नॉन टीचिंग की करीब छह सौ पोस्ट खाली हैं। ऐसे में महज साढ़े नौ माह में यह प्रक्रिया पूरी करना उसके लिए आसान नहीं होगा।
फिलहाल यहां 410 पद कर्मचारियों के खाली हैं। इसमें 255 पद सेल्फ फायनेंस विभाग के कर्मचारियों के खाली है जिसकी प्रक्रिया चल रही है। टीचिंग के 280 पद खाली। 175 पदों पर नियुक्ति के लिए आवेदन बुलवाए लेकिन स्क्रूटनी तक नहीं हो पाई है। प्रक्रिया के लिए नया विज्ञापन जारी होगा।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.