अनूठी शैली, नया कला मुहावरा

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

bpl-n239749-large

भारती दीक्षित ने अपनी कृतियों के लिए रंगीन ऊन और धागों के टुकड़ों को अपना माध्यम बनाया है। वे ऊन और धागों के रंगों को योजनाबद्ध ढंग से चुनती हैं और फिर उन्हें नीटिंग ग्राउंड पर इन्हें इस तरह से संयोजित करती हैं कि कुछ ऐसे रूपाकार अर्जित कर पाती हैं जो अपनी बनावट-बुनावट में खासे ध्यानकर्षी हो जाते हैं। वे कम से कम धागों से अधिकतम प्रभाव हासिल करती हैं और अपनी अनूठी शैली में अपना नया कला-मुहावरा गढ़ती हैं।

सीरज सक्सेना

स्टीच्ड हैंडमेड पेपर्स पर विजुअल लैंग्वेज

सीरज सक्सेना लगातार अलग अलग माध्यमों में अपनी रचनात्मकता को नए आयाम दे रहे हैं। वे पेंटिंग्स, सिरेमिक, कपड़ों के टुकड़ों और कतरनों, पेपर्स के साथ अपनी कृतियां रचते रहे हैं। अब उन्होंने स्टीच्ड हैंडमेड पेपर को चुना है। उन्होंने इस पर अपनी चिरपरिचित शैली में अपनी विजुअल लैंग्वेज क्रिएट की है। ये कृतियां मोनोक्रोम में हैं और इसके लिए सीरज ने इन्हें चारों तरफ से और अंदर से भी पेपर्स को इस तरह से काटा कि कागज की एक और परत मिलकर नया रूपाकार देती है। इसमें बिंदुओं और रेखाओं के साथ उन्होंने नवाचार किया है।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.