टीम इंडिया के निराशाजनक परफॉरमेंस पर गावस्कर ने रखी अपनी राय

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

SunilGavaskar_
पहले मैच में हार, फिर जीत और फिर हार के बाद ऐसा लग रहा है कि भारत और साउथ अफ्रीका दोनों सीरज़ में एक-दूसरे के साथ लुका-छुप्पी का खेल खेल रहे हों.पहले मैच के हार के बाद दूसरे मैच को धोनी अपने बूते निकाल ले गए थे. तीसरे मैच में उन्होंने अपनी लय तो बरकरार रखी लेकिन
अफसाने को अंजान तक नहीं पहुंचा पाए.एक तरफ जीत के बाद जहां बहारें फूल बरसा रही होती हैं वहीं हार के बाद बिजली गिरना लाज़िमी हैं. इस
गिरती बिजली के बीच रोशनी दिखाने का काम कर रहें हैं दिग्गज बल्लेबाज गावस्कर जिन्होंने टीम को जीत के ट्रैक पर लौटने का मंत्र दिया है.गावस्कर का कहना है कि लंबे समय से टीम से बाहर चल रहे युवराज को सिर्फ इस वजह से बाहर नहीं रहने देना चाहिए क्योंकि 30 साल से अधिक के हैं.
उनका मानना है कि खिलाड़ियों की उम्र नहीं उनका फॉर्म मायने रखता है. साथ ही उनका कहना है कि अगर युवराज की वापसी होती है तो टीम की बल्लेबाजी को धार मिलेगी ही साथ गेंदबाज़ी में भी पैनापन आएगा.उन्होंने कहा कि युवराज उन ओवर्स में बोलिंग कर सकते हैं जहां बोलर्स की कमी खल रही होती है.युवराज के चाहने और बाकियों को भी पता है कि वे बायें हाथ से अच्छी स्पिन गेंदबाज़ी करते हैं.गांधी-मंडेला सीरीज़ में 2-1 से पीछे चली रही टीम इंडिया के लिए भविष्य में युवराज तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं और ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि अपनी उम्र के 66वें पड़ावं में पहुंच चुके दिग्गज बल्लेबाज गावस्कर का मानना है.गावस्कर का ये भी मानना है कि शिखर धवन को आराम देकर रहाणे से ओपनिंग करवाने से भी फायदा हो सकता है. चलिए देखते हैं कि बोर्ड में उनकी बातों को कितनी जगह मिलती है.युवी की वापसी की अटकलें इसलिए भी तेज़ हो जाती हैं क्योंकि भारतीय टीम से बाहर चल रहे ‘सिक्सर किंग’ के बड़े शतक की बदौलत पंजाब ने रजणी ट्राफी ग्रुप बी मैच में चौथे और अंतिम दिन गुजरात के खिलाफ ड्रा समाप्त हुए मैच में पहली पारी की बढ़त के आधार पर तीन अंक हासिल किए.गुजरात के पहली पारी में 467 रन के जवाब में आज पंजाब की टीम पांच विकेट पर 434 रन से आगे खेलने उतरी और उसने कप्तान युवराज की 187 रन की पारी की बदौलत 608 रन बनाकर 141 रन की बढ़त हासिल की.आपोक बता दें कि युवराज ने 233 गेंद की अपनी पारी में 14 चौके और सात छक्के मारे,गुजरात के सबसे सफल गेंदबाज आफ स्पिनर रूजुल भट रहे जिन्होंने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 151 रन देकर युवराज सहित आठ विकेट हासिल किए.

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.