गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी कॉन्फ्रेंस का इंदौर में आयोजन!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

leevar
इंदौर। गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी कॉन्फ्रेंस के पहले दिन 19 नवंबर को खुला फोरम आयोजित होगा। देश-विदेश से कॉन्फ्रेंस में शामिल हो रहे लीवर विशेषज्ञों के सामने आम व्यक्ति सवाल के माध्यम से अपनी जिज्ञासाएं रखकर लीवर और पेट से जुड़ी बीमारियों के बारे में जान सकेगा। विजयनगर के ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में शाम 4 बजे से होने वाला यह आयोजन सभी के लिए खुला रहेगा। सोमवार शाम तक कॉन्फ्रेंस के लिए 2 हजार से ज्यादा डॉक्टर रजिस्ट्रेशन करवा चुके थे।
कॉन्फ्रेंस के आर्गेनाइजिंग सेक्रेटरी डॉ.अजय जैन ने बताया कि शहर में विशेषज्ञों के आने का सिलसिला बुधवार से शुरू हो जाएगा। 21 देशों से लीवर और पेट रोग विशेषज्ञ इस कॉन्फ्रेंस में शामिल हो रहे हैं। वे डॉक्टर भी कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं, जिन्होंने पेट से जुड़ी बीमारियों के बारे में रिसर्च किया है। कॉन्फ्रेंस में 350 से ज्यादा शोधपत्र पढ़े जाएंगे। इसके अलावा सर्जरी को लेकर भी चर्चा होगी। कॉन्फ्रेंस का फायदा इंदौर ही नहीं आसपास के डॉक्टरों को भी मिलेगा। 19 नवंबर को आयोजित खुले फोरम में आम व्यक्ति पेट रोग और लीवर से जुड़ी बीमारियों के बारे में अपने सवाल विशेषज्ञों के समक्ष रख सकेंगे।
मेडिकल साइंस में लीवर को साइलेंट आर्गन के नाम से भी जाना जाता है। डॉ.जैन के मुताबिक सामान्यतः शुरुआती दौर में लीवर की बीमारियों का पता नहीं चलता। नियमित शराब पीने वाले, मोटापे के मरीज और ऐसे लोग जिनके परिवार में मधुमेह (डायबटीज) की हिस्ट्री रही हो उन्हें 40 साल की उम्र के बाद नियमित जांच करना चाहिए, ताकि लीवर की बीमारी का शुरूआत में ही पता चल सके। सोनोग्राफी और कुछ ब्लड सेंपलों के जरिए यह आसानी से पता लगाया जा सकता है।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.