रंगों से जान सकेंगे शहर में प्रदूषण स्तर

Air-pollution-1449631490

इंदौर. राजधानी दिल्ली में वाहनों से बढ़ रहे वायु प्रदूषण से हरकत में आई केंद्र सरकार ने देशभर के लिए वायु गुणवत्ता सूचकांक (कंटीनुअस एंबिएंट एयर मॉनिटरिंग सिस्टम) लगवाने पर काम तेज कर दिया है।

इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन में प्रस्तावित यह सिस्टम आगामी वित्तीय वर्ष में लगाने की योजना है। जनता रंगों के जरिए प्रदूषण के बारे में जान सकेगी। सिंहस्थ के मद्देनजर उज्जैन में सबसे पहले यह सिस्टम लगाने का दावा किया जा रहा है। विभागीय सूत्रों के अनुसार केंद्र सरकार ने प्रदेश के शहरों में कंटीनुअस एंबिएंट एयर मॉनिटरिंग सिस्टम लगाने की घोषणा की थी। मगर बजट के अभाव में योजना आगे नहीं बढ़ पा रही थी। एकाएक दिल्ली में प्रदूषणकारी तत्वों के बढऩे से सरकार सकते में आ गई और चिह्नित शहरों के लिए बजट संबंधी मसलों का समाधान कर दिया गया। बताया गया है कि 2016-17 में चिह्नित शहरों में यह सिस्टम लगाए जाएंगे। अधिकारियों के मुताबिक, एक सिस्टम की कीमत 1.25 करोड़ रुपए होगी। इंदौर में एक सिस्टम मिक्स एरिया में, एक कमर्शियल पॉइंट पर और एक रेसीडेंशियल स्पॉट पर लगेगा। तीनों स्थानों की एयर क्वालिटी की जांच के बाद इंदौर की औसत एयर क्वालिटी का पता लगा सकेंगे।

वायु गुणवत्ता सूचकांक के जरिए लोग रंग देखकर हवा की गुणवत्ता, प्रदूषण और उससे होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में जान सकेंगे। हवा के स्तर के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के लिए की जा रही इस कवायद के तहत सूचकांक की हर श्रेणी को एक रंग से प्रदर्शित किया जाएगा।
हरा : वायु की गुणवत्ता अच्छी है। विपरीत असर नहीं पड़ेगा |
गुलाबी : मध्यम स्तर का प्रदूषण होगा। सांस लेने में दिक्कत हो सकती है|
पीला : अस्थमा और दिल के मरीजों को परेशानी हो सकती है|
लाल : सामान्य लोगों में फेफड़े और अन्य बीमारियों का खतरा हो सकता है|

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *