इंदौरी फॉर्मूले से देश में मिलेगा अंगदान को आकाश

organ_donation_poster_by_babyfoxy
इंदौर. अंगदान को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा जारी मसौदे में इंदौरी फॉर्मूले अहम् भूमिका अदा करेंगे। किडनी दान मामले में कानून को और सरल बनाने के लिए सरकार ने मसौदा तैयार किया। इस पर सभी से सुझाव भी मांगे गए हैं। इस पर इंदौर अंगदान सोसायटी ने भी कई अहम सुझाव तैयार किए हैं। सोसायटी का कहना है, मेडिको लीगल केस (एमएलसी) केस में तब्दीली, डोनर के परिजन के इंश्योरेंस और अन्य रियायतों के जरिए अंगदान को नया आकाश मिलेगा।
सोसायटी का दावा है, इंदौर में हो रहे अनेक प्रयोगों से अंगदान के प्रति जागरूकता बढ़ रही है। अंगदान करने वाले परिजन के लिए जारी बीमा योजना को केंद्र सरकार ने भी मंजूरी दी है। इंदौर के सुझाव कानून में शामिल करने से अंगदान के क्षेत्र में बड़ा बदलाव होगा।
इंदौर अंगदान सोसायटी के मुताबिक, मेडिको लीगल केस में अभी भी अंगदान में परेशानी हो रही है। घटना-दुर्घटनाओं में मृत मरीजों के परिजन की दान की इच्छा के बाद भी दान नहीं हो पा रहा। इसके लिए कानूनी स्थिति स्पष्ट हो। पोस्टमॉर्टम के पहले आसानी से दान की स्थिति बने।
ब्रेन डेड मामलों में व्यावहारिक तौर पर आईसीयू डॉक्टरों को ट्रेंड करने की जरूरत है। उन्हें ब्रेन डेड की स्थिति बतानी होगी, ताकि ज्यादा से ज्यादा मामले सीधे तौर अंगदान सोसायटी तक पहुंचे।
अंगदान करने वाले परिवार के लिए इंदौर अंगदान सोसायटी की पहल (3-3 लाख का बीमा) को केंद्र सरकार ने भी मंजूरी दी है। अब एेसे परिजन को दूसरी तरह की रियायतों के जरिए भी प्रोत्साहित किया जा सकता है।
अंगदान के लिए परिजन के हित में सौगातभरे कदम उठाए जा सकते हैं। उद्यमियों, व्यापारियों के साथ सभी तबके के लोगों की अंगदान से पहले ही मानसिकता बदलने की कोशिश हो सकती है। अंगदान की इच्छा में पंजीयन करवाने वाले लोगों को शुरुआती समय से विभिन्न प्रकार के करों में चंद छूट दी जा सकती है।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *