इंग्लिश नाटक का डेली कॉलेज में मंचन

natak15_01_02_2016

इंदौर। एक होटल में खून हो जाता है और खून की एकमात्र चश्मदीद गवाह है एक अंधी लड़की। उस वक्त होटल में अंधी लड़की के अलावा दो लोग मौजूद थे-एक बहरा और एक गूंगा। अब यह तीनों मिलकर किस तरह कातिल को खोजते हैं, इसी सस्पेंस के बीच पैदा होने वाली सिचुएशनल कॉमेडी है नाटक ‘सी नो एविल, हियर नो एविल, स्पीक नो एविल, डु नो एविल’। रविवार शाम डेली कॉलेज में इस नाटक का मंचन किया गया। इस नाटक को अपने अभिनय से सजाया डेलनाज ईरानी, किश्वर मर्चेंट, बरखा बिष्ट सेनगुप्ता, नासिर खान, विशाल कोटियन और जयेश ठक्कर जैसे कलाकारों ने।
नाटक को कॉमेडी और सस्पेंस को एक ही धागे में पिरोया गया, हालांकि गूंगे और बहरे दोस्तों के बीच कॉमेडी कई बार फुहड़ता के करीब भी चली गई। नाटक का दूसरा भाग शुरू होने तक सस्पेंस गहराता जा रहा था, जिसने दर्शकों को बांधे रखा।
निर्देशक पारितोष पेंटर ने बताया कि इस नाटक का मंचन वे पिछले 8 वर्षों से कर रहे हैं और इसके सौ से ज्यादा शोज हो चुके हैं। दुबई, मस्कट, हांगकांग और सिंगापुर में भी इसका मंचन हो चुका है। वहां दर्शकों की डिमांड पर हमने इसे हिंदी में प्रस्तुत किया था, जबकि भारत में हम ज्यादातर अंग्रेजी में ही इस नाटक को करते आए है।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.