बीवियों के इंस्ट्रक्शन्स पर पतियों ने पकाया लजीज खाना

phpThumb_generated_thumbnail

संडे की शाम रॉयल गढ़ा गोल्ड ग्रीन्स में जैन सोशल ग्रुप एलीट की ओर से आयोजित मेल कुकिंग कॉम्पीटिशन ‘मिस्टर शेफ’|
कॉम्पीटिशन के लिए 15 टीम बनाई गई थीं, जिनके नाम भी खाने- पीने की चीजों पर रखे गए थे जैसे चेरी, कैप्सिकम, ब्रोकली, स्वीट पटेटो आदि। हर टीम में चार- चार पुरुष थे। पहले राउंड में सभी को सलाद बनाना था। दूसरे राउंड में मंचूरियन और फ्राइड राइस बनाना था। तीसरा राउंड डीजर्ट का था जिसमें गुलाब जामुन, आइस्क्रीम, ब्राउनी, रबड़ी में से कोर्ई एक डिश बनाना थी।
कुकिंग कर रही टीम के चार पुरुषों में से दो की पत्नियां सामने खड़ी हो कर टीम को इंस्ट्रक्शन दे रही थीं, हालांकि बाकी दो भी आसपास खड़ी थीं पर नियमानुसार वे दो को ही इजाजत थी कि वे इंस्ट्रक्शन दे सकें। डिश तैयार होने के बाद उसे सजाने के लिए भी निर्देश दिए।
कॉम्पीटिशन की जज रेखा भार्गव के साथ एक होटल के दो शेफ नीलांजन हमारू और मीन बहादुर सिंह ने पूरी बारीकी से हर डिश को जज किया। उन्होंने डिश के टेस्ट, के साथ ही बनाने का टाइम और सजावट पर भी नंबर दिए। रेखा जैन ने कहा कि सलाद की सजावट में कंटेस्टेंट्स ने काफी कल्पनाशाीलता दिखाई।
ज्यादातर टीम मेंबर्स का कहना था कि उन्होंने घर में कभी चाय भी नहीं बनाई है लेकिन इस कॉम्पीटिशन के जरिये उन्होंने पाक कला में अपने हाथ आजमाए हैं।� क्लब के अध्यक्ष विवेक जैन ने कहा कि उन्हें सिर्फ चाय बनाना ही आता है। सौरभ जैन ने कहा कि कभी रसोई में� गया ही नहीं। प्रियांक रूनवाल ने कहा कि मैंने तो कभी नीबू पानी भी नहीं बनाया लेकिन अब लगता है कि मैं कुछ कर सकता हूं। अभिजीत बांठिया और ईशान जैन ने कहा कि अब हम अपने आप को कॉन्फिडेंट फील कर रहे हैं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.