भगोरिया शुरू : ढोल-मांदल के साथ नाचते-गाते आए ग्रामीण

Bhagoria-Festival-Photo4-1458198349
जिले में भगोरिया पर्व की बुधवार से शुरुआत हो चुकी है। जिले का पहला भगोरिया झाबुआ के ढेकल, पेटलावद के उमरकोट, करवड़, बोड़ायता, रानापुर के रोटला और मेघनगर के मदरानी में लगा। जहां ग्रामीणों की भारी भीड़ देखने को मिली। भगोरिया हाट में बड़ी संख्या में ढोल-मांदल के साथ ग्रामीण नाचते-गाते पहुंचे। उनहोंने झूले-चकरी व ठंडाई का आनंद लिया। शाम 4 बजे तक युवक-युवतियों के समूह ढोलक की थाप पर थिरकते रहे। भगोरिया समाप्त होने पर ग्रामीण ढोल-मांदल की थाप पर नाचते हुए अपने घरों की ओर रवाना हुए।
ग्राम ढेकल में करीब एक दर्जन झूले लगे। 35 के करीब दुकानें लगी। पान, आईसक्रीम के साथ ही अन्य खाद्य वस्तुओं का भगोरिया में आए ग्रामीण व बच्चों ने जमकर लुत्फ उठाया। दर्जनभर से अधिक ढोल-मांदल एक साथ बजे, जिनकी थाप पर ग्रामीण जमकर थिरके। कालीदेवी के ग्राम रोटला में 8-10 झूले और करीब 50 दुकानें सजी। भगोरिया हाट में समीपस्थ ग्रामों के करीब 30 ढोल आए। कांग्रेस नेता वालसिंह मेड़ा व सरपंच वरसिंग के नेतृत्व में गेर निकाली गई, जिसमें बड़ी संख्या में ग्रामीण थिरकते रहे। व्यापारियों के अनुसार व्यापार कम हुआ। कालीदेवी थाना प्रभारी एलडी चौहान ने सुरक्षा व्यवस्था संभाली। ग्राम माछलिया में करीब 20 दुकानें लगी और 7-8 ढोल आए। स्व. सांसद दिलीपसिंह के पुत्र जसवंत व सुरेंद्र ने ग्रामीणों के साथ शामिल होकर भगोरिया का लुत्फ उठाया।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.