120 की स्पीड से दौड़ी ट्रेन,20 मिनट में पहुंची इंदौर

indore railway

महू-इंदौर ब्रॉडगेज का 20 किमी लंबा रेलमार्ग बन कर तैयार हो चुका है। रेलवे की पटरियों का कई बार अधिकारियों द्वारा निरीक्षण करने के साथ ही रेल मार्ग की टेस्टिंग भी हो चुकी है। महू रेलवे स्टेशन पर सोमवार को इंदौर से 9 डिब्बों की स्पेशल ट्रेन सुबह 10.15 बजे आई। शाम करीब 5 बजे कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी मुंबई के सुशील चंद्रा और डीआरएम मनोज शर्मा के साथ अन्य अधिकारी इंदौर से महू स्टेशन पहुंचे। महू के प्लेटफॉर्म नंबर दो से 6.21 बजे पहली सीटी के साथ ट्रेन इंदौर के लिए रवाना हुई।
ट्रेन 6.41 बजे (20 मिनट) में इंदौर के प्लेटफॉर्म नंबर दो पर पहुंच गई। महू-इंदौर रेलवे ट्रैक की गति क्षमता को नापने के लिए सोमवार को दो इंजनों और नौ डिब्बों के साथ ट्रेन 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पटरी पर दौड़ी। राजेंद्रनगर और राऊ में जिस तरह का प्लेटफॉर्म रेलवे निर्माण विभाग ने बनवाया है, उस पर सीआरएस ने काफी नराजगी जताई है। साथ ही अधिकारियों को फटकार भी लगाई है।
कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी मुंबई के सुशील चंद्रा ने पिछले दो दिनों से महू-इंदौर रेल मार्ग के साथ प्लेटफॉर्म का बारीकी से निरीक्षण किया। उन्होंने ब्रिज की हाइट को नापकर दूरी को भी देखा। साथ ही प्लेटफॉर्म से ट्रैक की दूरी, प्लेटफॉर्म की लंबाई और चौड़ाई सहित अन्य मापदंडों को ध्यान में रखकर निरीक्षण किया।
इस बीच सीआरएस ने निरीक्षण के दौरान कई खामियां पाई। डीआरएम मनोज शर्मा ने बताया कि दो इंजन और नौ डिब्बों के साथ 120 की स्पीड में टेस्टिंग करने के बाद अब पटरियों की सही जानकारी सामने आ पाएगी। यदि कोई और कमी सामने आती है, तो उसे जल्द दूर कर 15 दिन के अंदर महू-इंदौर रेल मार्ग को चालू किया जाएगा।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.