नन्ही बच्चियों ने किया माँ को ऑर्गन डोनेट करने वालो का शुक्रिया

organ donation

organ donation

शुक्रिया इंदौर…शुक्रिया डोनर…शुक्रिया डॉक्टर अंकल ….हमारी मां की जिंदगी बचाने के लिए, अगर आप नहीं होते तो हमारी मां हमारे पास नहीं होती।
ये अल्फाज थे 9 साल की वैभवी और 4 साल की आन्या के। दोनों बेटियां लखनऊ की 35 वर्षीय दीपाली रस्तोगी की थीं, जिन्हें इंदौर से जिंदगी का तोहफा मिला। इंदौर ऑर्गन डोनेशन सोसायटी के कार्यक्रम में शामिल होने आई दीपाली और उनके बच्चों ने डोनर फैमिली और इंदौर प्रशासन को जिंदगी बचाने के लिए शुक्रिया कहा तो हर किसी की आंखें नम हो गईं। इन्हीं के साथ हर उस शख्स ने मंच से थैंक्स इंदौर कहा, जिन्हें इंदौर से जीवनदान मिला। रविवार को इंदौर ऑर्गन डोनेशन सोसायटी का ब्रिलियंट कंवेंशन सेंटर में अभिनंदन समारोह हुआ।
इसमें अंगदाता के परिजन का सम्मान किया गया। अंग पाने वालों ने तहेदिल से इंदौर और दानदाताओं का शुक्रिया कहा। सात महीने में ग्रीन कॉरिडोर के जरिए यहां से 9 लोगों को जीवनदान मिला है। ब्रेन डेड मरीज के परिजन ने हौसला दिखाकर दिल, लिवर, किडनी, त्वचा, आंखें दान कीं। हालांकि समारोह में दिल पाने वाला कोई मरीज नहीं आ सका, इससे डोनर के परिजन को निराशा भी हुई।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.