59 की उम्र में पार की 40 मैराथन

ashok_batham_16_june_2016616_102520_16_06_2016

जीवन में कोई भी लक्ष्य कठिन जरूर हो सकता है, नामुमकिन नहीं। भोपाल के अशोक बाथम ने 59 की उम्र में 40 मैराथन पार कर यह साबित भी कर दिया कि लंबी दौड़ सिर्फ युवा धावक ही पूरे नहीं कर सकते।
अशोक बाथम के इसी जज्बे ने उनका नाम देश के उन चुनिंदा धावकों में शुमार कर दिया है, जो देश में कहीं भी होने वाली मैराथन में शिरकत करने को आतुर रहते हैं। वे अभी तक दिल्ली और मुंबई सहित कुल 40 रेस में अपनी मौजूदगी दर्ज करा चुके हैं। हाल ही में उन्होंने सिक्किम के गंगटोक में आयोजित फर्स्ट सिक्किम एंड लिविंग रेस में भाग लिया और 42 धावकों के समूह में शामिल हुए है, जिसने 25 किमी की रेस को पूरा किया।
बाथम ने बताया कि 1987 के सिओल ओलिंपिक की मशाल जब भारत आई तो भोपाल में ओलिंपियन लक्ष्मण शंकर के साथ उन्हें भी मशाल लेकर दौड़ने का मौका मिला, तब से वे खुद के खर्च पर मैराथन में दौड़ रहे हैं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.