इंदौर में खुलेगा बोनमैरो ट्रांसप्लांट सेंटर

bone marrow

शहर की स्वास्थ्य सुविधाओं में बड़ी उपलब्धि जुड़ने वाली है। महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज (एमजीएम) में बोनमैरो ट्रांसप्लांट का सेंटर खुलने जा रहा है।
दिल्ली (एम्स) के बाद इंदौर देश में दूसरा ऐसा शहर होगा, जहां सरकारी स्तर पर यह सुविधा मिलेगी। पहले यह केंद्र भोपाल में बनने वाला था, पर तैयारियों और अनुकूल स्थितियों को देखते हुए यह इंदौर के खाते में आ रहा है।
बोनमैरो ट्रांसप्लांट सेंटर (बीएमटी) खोलने के लिए 15 करोड़ रुपए का प्रोजेक्ट केंद्र सरकार को भेजा गया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत इस प्रोजेक्ट को मंजूरी मिलने की पूरी संभावना है।
ब्लड कैंसर, ए प्लास्टिक एनीमिया, थैलीसिमिया जैसी गंभीर बीमारियों के मरीजों को बोनमैरो ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है। निजी अस्पतालों में एक बीएमटी पर 15 लाख से लेकर 40 लाख रुपए तक का खर्च आता है। सेंटर शुरू होने पर मात्र 5 लाख रुपए में बीएमटी हो सकेगी।
मेडिकल कॉलेज के पीजी और अंडर ग्रेजुएट स्टूडेंट को सीखने का मौका मिलेगा।
प्रदेश के आदिवासी जिलों में कई बच्चे थैलीसिमिया से पीड़ित हैं। उनको रियायती दर पर सुविधा मिल जाएगी।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.