फिल्‍म रिव्‍यू- ‘राज रीबूट’

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

विक्रम भट्ट की राज श्रृंखला की अगली कड़ी है ‘राज रीबूट’। पहली से लेकर अभी तक इन सभी हॉरर फिल्मों में सुहाग की रक्षा के इर्द-गिर्द ही कहानियां बुनी जाती हैं। विक्रम भट्ट के इस फार्मूले में अब कोई रस नहीं बचा है। फिर भी वे उसे निचोड़े जा रहे हैं। ‘राज रीबूट’ में वे अपने किरदारों को लकर रोमानिया चले गए हैं। रोमानिया का ट्रांसिल्वे निया ड्रैकुला के लिए मशहूर है। एक उम्मीद बंधती है कि शायद ड्रैकुला के असर से डर की मात्रा बढ़े।
फिल्म शुरू होते ही समझ में आ जाता है कि विक्रम भट्ट कुछ नया नहीं दिखाने जाा रहे हैं। रेहान और शायना भारत से रोमानिया शिफ्ट करते हैं। रेहान अनचाहे मन से शायना की जिद पर रोमानिया आ जाता है। पहली ही शाम को दोनों अलग-अलग कमरों में जाकर सोते हैं। हमें सूत्र दिया जाता है कि रेहान के मन में कोई राज है, जिसे वह बताना नहीं चाहता। उधर, शायना के रोमानी ख्वाब बिखर जाते हैं। वह इस राज को जानना चाहती है। रोमानिया में वे जिस महलनुमा मकान में रहते हैं, वहां कोई आत्मा निवास करती है। पहले चंद दृश्योंं में ही आत्मा का आगमन हो जाता है। खिड़की खुलती है। हवा आती है। पर्दे फड़फड़ाते हैं और लैपटॉप का एक कोना में खून लगा होता है। बाद में उस लैपटॉप से खून बहने लगता है। है न नयापन। ऐसे और भी नई बातें हैं। जब फिल्मॉ की नायिका के शरीर में भूत प्रवेश कर जाता है तो वह अंग्रेजी बोलने लगती है और धड़ल्लेू से ‘एफ’ अक्षर से बनी गालियां देन लगती है।
बाकी विक्रम भट्ट ने हॉरर फिल्मों में घिस-पिट चुके दृश्यों को ही दोहराया है। इमारत पर दीवारों के सहारे चढ़ जाना। हवा में तैरना। घर के सामानों का खिसकना। घर में अचानक कुछ दिखना। अभी तो बैकग्राउंड साउंड की बदलती ध्वनियों से पता चल जाता है कि कुछ होगा। लग रहा था कि पलंग में बंधी भूत से आवेशित नायिका पलंग को लेकर ही खड़ी हो जाएगी, लेकिन विक्रम भट्ट ने ऐसा नहीं दिखाया। विक्रम भट्ट की हॉरर फिल्में अब बिल्कुल नहीं डरा रहीं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.