भारत के लक्ष्य बने दुनिया के नंबर 1 जूनियर बैडमिंटन खिलाड़ी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

lakshya_sen_201722_21418_02_02_2017

उत्तराखंड के 15 वर्षीय लक्ष्य सेन ने बीडब्ल्यूएफ विश्व जूनियर बैडमिंटन रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल करके बड़ी कामयाबी हासिल की है। लक्ष्य की इस सफलता के बाद पूरे सोशल मीडिया पर उनको बधाई देने की होड़ मच गई है।
लक्ष्य सेन ने पिछले साल जूनियर एशियन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के साथ-साथ अरुणाचल प्रदेश में हुए ऑल इंडिया सीनियर रैंकिंग टूर्नामेंट का खिताब भी जीता था। वो विश्व बैडमिंटन की जूनियर रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर पहुंचने से बस एक पायदान पीछे थे। जब लक्ष्य 11 साल के थे तब से ओलिंपिक गोल्ड क्वेस्ट (ओजीक्यू) उनकी सहायता कर रहा था। इस सहायता में खास उनके लिए फीजियो और ट्रेनर उपलब्ध कराया गया था। उत्तराखंड के अल्मोड़ा से आने वाले लक्ष्य सेन 10 साल की उम्र से बेंगलुरू स्थित 1980 के ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियन प्रकाश पादुकोण की अकादमी में बैडमिंटन खेलना सीख रहे हैं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.