जानिए होलिका दहन के शुभ महूरत !

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

holi11_06_03_2017

होलिका दहन का मुहूर्त किसी त्योहार के मुहूर्त से ज्यादा महवपूर्ण और आवश्यक है। यदि किसी अन्य त्योहार की पूजा समय पर न की जाए तो मात्र पूजा के लाभ से वंचित होना पड़ेगा। लेकिन होलिका दहन की पूजा अगर अनुपयुक्त समय पर हो जाए तो यह दुर्भाग्य और पीड़ा देती है।
फाल्गुन पूर्णिमा 12 मार्च के प्रदोष काल में होलिका दहन करने का विधान रहेगा। 12 मार्च को फाल्गुन पूर्णिमा उदय व्यापिनी है। 12 तारीख को भद्रा पूंछ- 04:21 से 05:33 और भद्रा मुख- 05:33 से 07:30 का समय रहेग अत: 18:27 से 20:25 को शुभ बेला में होलिका-दहन किया जा सकता है।
भद्राकाल में होलिका दहन करने से गांव समाज को हानि उठानी प़डती है। इसलिए भद्राकाल को छोडकर होलिका दहन किया जाता है। सुख शांति और खुशहाली के लिए होलिका की पूजा के लिए पारंपरिक नियम इस तरह से हैं। पूजा करने वाले श्रद्घालुओं को पूजा आरंभ करने से पूर्व होलिका के पास जाकर पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठना चाहिए।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.