व्यापारियों ने कहीं घंटी बजाकर तो कहीं रक्तदान कर जताया विरोध

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

4_1498806085

केंद्र सरकार द्वारा एक जुलाई से लागू किए जाने वाले वस्तु सेवा कर (जीएसटी) के विरोध में शुक्रवार को शहरभर के बाजार बंद रहे। बंद में किराना, कपड़ा, दवा सहित सभी प्रकार के व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे हैं। वहीं पेट्रोल पंप संचालकों ने भी विरोध स्वरूप दो घंटे तक पेट्रोल पंप बंद रख इसमें शामिल होंगे।
जीएसटी के खिलाफ भारतीय व्यापार उद्योग मंडल नई दिल्ली ने देशव्यापी बंद का आह्वान किया था। इसी कड़ी में व्यापारियों ने एक बार फिर शुक्रवार को अपने प्रतिष्ठान बंदकर केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
इंदौर में अहिल्या चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के साथ 80 से ज्यादा व्यापारी संगठन इसमें शामिल हैं। कपड़ा व लोहा बाजार, टाइल्स, प्लायवुड सहित दवा दुकानें भी बंद हैं। वहीं पेट्रोल पंप संचालकों ने सांकेतिक तौर पर दोपहर 12 से दो बजे तक अपने पंप बंद रखने को कहा है।
विरोध स्वरूप मिठाई-नमकीन व्यापारी राजबाड़ा पर रक्तदान अभियान चलाया। वहीं सियागंज व अन्य पारंपरिक बाजारों में व्यापारियों ने घूम-घूमकर घंटियां बजाकर विरोध जताया। इसके अलावा कपड़ा बाजार एसोसिएशन ने विरोध के लिए प्रदेशस्तरीय महासंघ बना लिया है, जो 30 को बंद के बाद 1 जुलाई से काली पट्टी बांधकर काम करेगा।
व्यापारियों ने सजा की व्यवस्था को समाप्त करने, ई बिल व्यापारी पर लागू नहीं करने, प्रतिमाह रिटर्न के स्थान पर त्रैमासिक रिटर्न की व्यवस्था करने, विक्रेता के जीएसटी जमा नहीं करने पर खरीददार की जिम्मेदारी नहीं होने, एक सूत्रीय सरल जीएसटी की आवश्यकता जिसमें कर की उच्चतम दर 15 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होने की मांग की गई।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.