फिर झिलमिलायेगी परंपरा…!!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
NDIfffffff

NDIfffffff

कुछ उत्सव शहर की पहचान होते हैं। इनमें से ही एक है इंदौर का अनंत चतुर्दशी पर सालों से निकाले जाने वाला चल समारोह। यहाँ विभिन्न मिलो और संस्थाओं की झांकियां प्रदर्शित होती है और भारी संख्या मे लोग यहां झांकियां देखने एकत्रित होते है. यह झांकिया पूरी रात चलती रहती है और लोग काफी उत्साह के साथ इन झांकियों का आनंद लेते है. इस चल समारोह मे विभिन्न अखाड़ों के कलाकार भी अपना करतब दिखाते है.

क्या है अनंत चतुर्दशी..?

पूरे दस दिनों तक चले गणेशोत्सव के बाद भाद्रपद माह के शुक्लपक्ष के चतुर्दशी को भगवान गणेश की विदाई की जाती है और इसी दिन अनंत चतुर्दशी का व्रत भी मनाया जाता है. इस दिन अनंत भगवान जी की पूजा की जाती है. ऐसी मान्यता है कि अनंत भगवान की पूजा करने के बाद संकटों से सबकी रक्षा करने वाला अनंतसूत्र भी बांधा जाता है, इससे सभी कष्टों का निवारण होता है. यह माना जाता है की जब महाभारत में पाण्डव अपना सारा राज-पाट जुवे में हारकर वनवास के दौरान में कष्टदायक जीवन व्यतीत कर रहे थे, तब भगवान श्रीकृष्ण ने पाण्डवों को अनंत चतुर्दशी का व्रत करने को कहा था.

तब धर्मराज युधिष्ठिर ने अपने सभी भाइयों एवं द्रौपदी के साथ पूरे विधि-विधान के साथ अनंत चतुर्दशी का व्रत किया. कहा जाता है की इस अनंत चतुर्दशी का व्रत करने का बाद पाण्डव पुत्र एवं द्रौपदी सभी संकटो से मुक्त हो गए.
इसी प्रकार आप भी इस व्रत को करके अपने सभी मनोकामनाएं पा सकते हैं. प्रेम से बोलिए श्री अनंत भगवान की जय…!

a2

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...