कुछ चीजें कभी अच्छी नहीं लगतीं, क्या आप भी ऐसा सोचते है..??

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हमारे चारों तो कुछ चीजें ऐसी होती है जिसका कॉम्बिनेशन अटपटा सा होता है। निगाहें देखकर अटक सी जाती हैं, मन में ख्याल आता है कि मामला कुछ तो गड़बड़ है। ऐसे ही मामलों की लिस्ट तैयार की है फिरकी की टीम ने। देखिए आप भी, अगर आप भी रखते हैं इत्तेफाक… तो शेयर करें, और अगर इनके अलावा भी कुछ चीजें आपको अच्छी नहीं लगती हैं कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरूर दें।

मैगी खाते समय छोटे बच्चे

मैगी को लेकर चाहे कितनी भी स्टडी आ जाए लेकिन सच्चाई ये है कि हर टीनएजर की फेवरेट फूड की लिस्ट में मैगी का नाम जरूर होता है। ऐसे में मैगी खाते समय कोई छोटा बच्चा नजर आ जाए जो बेझिझक मैगी में शेयर मांग ले, तो दिल से आह निकल आती है।

दूसरों के मोबाइल में झांकते लोग

Close-up of homosexual couple using mobile phone together at home

मेट्रो, बस, टेंपो या किसी भी तरह के सार्वजनिक वाहन में अक्सर ऐसा होता है। मोबाइल इस्तेमाल कर रहे शख्स के बगल में बैठे शख्स की निगाहें भी पहले वाले शख्स के मोबाइल स्क्रीन पर धंसी होती है। इसको देखकर भी लगता है…. ये तो गलत बात है।

तोंद वाले पुलिस वाले

दिमाग में पुलिस वालों की जो छवि है उसके मुताबिक पुलिस की वर्दी फिट शरीर पर ही अच्छी लगती है। लेकिन जब किसी तोंदू पुलिस वाले को देखते हैं तो मन में सवाल उठते हैं कि इनका पेट कैसे निकल आया इतना। 40 के बाद की हीरोइन: ऐसा भी नहीं है कि ये 40 वाली बात हर हिरोइन पर लागू होती है, कुछ का नूर पूरी जिंदगी बना रहता है। लेकिन कुछ एक हिरोईनों का नूर 40 की दहलीज पर आते ही साथ छोड़ देता है। तमाम सर्जरी और मेकअप से छिपाने की कोशिश की जाती है लेकिन कोशिश के नाकामयाब होने पर मुंह से निकल ही जाता है… अब वो बात नहीं रही…

सुंदर लड़की के बगल में बैठा बुजुर्ग

कही बहुत खूबसूरत लड़की दिखें और उसके बगल में बुजुर्ग व्यक्ति मुस्कुराते हुए आपको देखे, तो फिर आप चाहे लड़की हो या लड़का। मन में आवाज जरूर आती है। ये जोड़ी कुछ जम नहीं रही।

चौराहों और स्टेशन पर भिखारी

एक तरफ तो हम दावें करते हैं कि देश आगे बढ़ रहा है।तस्वीर बदल रही है लेकिन जब किसी चौराहे या स्टेशन पर कोई भिखारी दिख जाता है तो दिल स्वीकार नहीं कर पाता है। उस वक्त भी यही लगता है कि देश की बदलती तस्वीर के साथ इनका वक्त भी बदलना चाहिए।

फिल्म का महंगा टिकट

मल्टीप्लेक्स क्लचर के जमाने में टिकट के दाम इतने बढ़ गए हैं कि फिल्म देखने के नाम से लोगों का बजट गड़बड़ा जाता है।ऊपर से फिल्म फ्लॉप निकल जाए तो पैसे और बरबाद हो जाते हैं। लिहाजा फिल्मों की टिकटों के बेतरतीब बढ़ते दाम देखकर लगता है… ये अच्छी बात नहीं है।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.