क्या आप भारतीय भोजन के इतिहास और कुछ बेहद रोचक बातों को जानते हैं??

भारत भी अपनी विविध संस्कृतियों और हर संस्कृति और समुदाय से जुड़े खाने के लिये पूरी दुनिया में जाना और सराहा जाता है। लेकिन क्या आप भारतीय भोजन के इतिहास और इससे जुड़ी कुछ बेहद रोचक बातों को जानते हैं?

भारतीय खाने से संबंधित हैं ये रोचक तथ्‍य…..

किसी नाराज़ इंसान को मनाना हो तो बस उसे स्वादिष्ट भोजन करा दें, उसका मूड़ चौकस हो जाता है। यहीं नहीं किसी देश और संस्कृति की पहचान में वहां के खाने की अहम भूमिका होती है। भारत भी अपनी विविध संस्कृतियों और हर संस्कृति और समुदाय से जुड़े खाने के लिये पूरी दुनिया में जाना और सराहा जाता है। खैर… यूं तो हम खाने पर बिना रुके घंटों तक बात कर सकते हैं, और नई-पुरानी फूड रेसेपीज़ को जान सकते हैं। लेकिन क्या आप भारतीय भोजन के इतिहास और इससे जुड़ी कुछ बेहद रोचक बातों को जानते हैं? अगर नहीं! तो तैयार हो जाइये, हम आपको आज भारतीय भोजन से जुड़ी कुछ बेहद रोचक बातें बता रहे हैं –

भारत को मसालों की धरती के नाम से भी पुकारा जाता है। ऐसा इसलिये क्योंकि, भारत के अलावा कोई ऐसा देश नहीं है, जो इतने तरह के मसालों को तैयार करता हो।

रेसिपी: घर में बनाएं ‘क्रीमी पोटैटो-चीज मोमोज’….!!

ग्रीक, रोमन और अरब व्यापारियों भारतीय व्यंजनों में पहले विदेशी जायके के लिए काफी योगदान दिया है। भारत के लिए अद्भुत केसर भी ये ही व्यापारी लाए थे। वहीं पुर्तगाली व्यापारी भारत में एक नए प्रकार का चीज़ (छैना पनीर) बनाने की कला भारत लेकर आए। यही नहीं भारतीय व्यंजनों के प्रधान अवयवों, जैसे आलू, टमाटर और मिर्च आदि भारतीय मूल के नहीं हैं। इन्हें भी पुर्तगालियों द्वारा भारत लाया गया था। रिफाइंड चीनी को भी पुर्तगाली ही भारत लाए। इससे पहले, फल और शहद को भारतीय भोजन में मिठास के लिये इस्तेमाल किया जाता था।

ये बात शायद आप ना जानते हों कि हम भारतीयों की पसंदीदा डिश ‘चिकन टिक्का मसाला’, दरअसल एक भारतीय व्यंजन नहीं है। इसका इजाद पहली बार स्कॉटलैंड के ग्लासगो में हुआ था। बाद में डिश भारत में आई और बेहद प्रचलित हुई। अगर बात अमरीका की करें तो अमरीका में पहला भारतीय रेस्तरां 1960 दशक के मध्य में खुला था। आज अमरीका में तकरीबन 80,000 भारतीय रेस्तरां है।

भारतीय खाद्य इतिहास के अनुसार, हमारे भोजन में 6 अलग-अलग फ्लेवर (ज़ायके) होते हैं, जैसे मीठा, नमकीन, खट्टा, कसैला और मसालेदार (तीखा)। एक उचित भारतीय भोजन में एक या दो जायके को छोड़कर इन सभी 6 ज़ायकों का सही संतुलन होता है। तो अगली बार जब आप कोई पारंपरिक भारतीय भोजन करेंगे तो आप इसके ज़ायके को बेहतर तरीके से चख पाएंगे।

Send SMS to :
You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply