#lunch जाने दुनिया में लोग लंच में क्या खाते है …!

सारा गिमोनो, एमबाले, युगांडा-

भारत की तरह अफ़्रीकी देश युगांडा में भी लंच करने की रफ़्तार बहुत तेज़ है. यहां भी रफ़्तार भरी ज़िंदगी जीने वाले लोग लंच के लिए मुश्किल से वक़्त निकाल पाते हैं.

युगांडा के एमबाले शहर में काम करने वाली सारा गिमोनो एक एनजीओ से जुड़ी हैं. वो कहती हैं कि लोग जल्द से जल्द लंच करके काम पर लग जाना चाहते हैं ताकि ज़्यादा से ज़्यादा काम कर सकें. हालांकि कोई लंच स्किप नहीं करता.

सारा बताती हैं कि युगांडा में लोग डिनर को ज़्यादा अहमियत नहीं देते. सारा रोज़ाना आधे घंटे का वक़्त लंच पर ख़र्च करती हैं. वो इसके लिए अक्सर अपने दफ़्तर के पास के रेस्टोरेंट में जाती हैं.

सारा कहती हैं कि युगांडा में भी भारत की तरह ही लोग दफ़्तर में ही अपना लंच निपटाते हैं. कुछ लोग अपने साथियों के साथ होटलों-रेस्त्रां में जाकर लंच करते हैं.

सारा कहती हैं कि युगांडा में स्ट्रीट फूड का भी ख़ूब चलन है. वो ख़ुद अक्सर फील्ड वर्क के दौरान रोलेक्स खाती हैं. रोलेक्स एक चपाती होती है, जिसमें अंडे, टमाटर और प्याज़ के टुकड़े डालकर रोल करके सेंका जाता है.

वनीसा मोनरॉय, न्यूयॉर्क, अमरीका-

न्यूयॉर्क की रहने वाली वनीसा की उम्र चालीस बरस है, वो पेशेवर डॉग वाकर हैं. यानी बड़े लोगों के कुत्तों को टहलाने का काम करती हैं. वो कहती हैं कि न्यूयॉर्क में अक्सर लोग लंच का पूरा टाइम सैंडविच या सलाद ख़रीदने के लिए लाइन में लगे रहकर ही बिता देते हैं.

वक़्त की बर्बादी से बचने के लिए वनीसा अक्सर घर से ही स्नैक बार पैक करके लाती हैं. इन्हें खाकर वो ख़ुद को एनर्जी भी देती हैं और वक़्त भी बचा लेती हैं.

अमरीका में दूसरे देशों के मुक़ाबले लोग छोटे लंच ब्रेक लेते हैं. 2016 में हुए सर्वे के मुताबिक़ 51 फ़ीसद अमरीकी लोग लंच में 15 से 30 मिनट लगाते हैं.

केवल 3 प्रतिशत लोग ही 45 मिनट या इससे ज़्यादा वक़्त लंच पर ख़र्च करते हैं. वहीं, फ्रांस में 43 प्रतिशत लोग लंच में 45 मिनट से ज़्यादा टाइम ख़र्च करते हैं.

 

Send SMS to :
You can leave a response, or trackback from your own site.

Leave a Reply