कैसे होता है वेबकैमरे और कीबोर्ड से डाटा चोरी?

हाल ही में बॉलीवुड के कुछ जाने-माने निर्माता-निर्देशक और बड़े स्टार भी इसका शिकार हुए.

अनुराग कश्यप की फ़िल्म ‘अगली’ रिलीज़ होने के एक दिन पहले ही इंटरनेट पर लीक हो गई और इसका प्रिंट मिनटों में भारत से बाहर मौजूद वेबसाइट्स के सर्वर पर चला गया.नितिन हाल ही में भारत सरकार को भी उनके मंत्रालयों की वेबसाइट्स को हैकिंग प्रूफ़ बनाने पर सलाह दे चुके हैंl

कई प्रकार

जिस तरह किसी अपराध को अलग-अलग श्रेणी जैसे लूट, डकैती, चोरी में बांटा जा सकता है उसी तरह साइबर क्राइम के भी अलग अलग प्रकार होते हैं.

साइबर अपराधों में फिशिंग जिसमें आपसे ईमेल के ज़रिए आपकी जानकारी जैसे बैंक का ख़ाता, पासपोर्ट नंबर मांगा जाता है आम है.

आपके कंप्यूटर में अगर एंटी-वायरस नहीं है तो कोई भी साइबर अपराधी आपके डाटा की चोरी कर सकता है और फिर इस जानकारी का इस्तेमाल एक झूठी आईडी बनाने के लिए कर सकता है.

वेबकैमरे की हैकिंग

साइबर अपराधी आपके वेबकैमरे को हैक कर सकते हैं या फिर आपके कीबोर्ड पर आप जो टाइप करते हैं उसे रिकॉर्ड कर सकते हैं. किसी कंप्यूटर जानकार के लिए ये काफ़ी आसान है.

कई सरकारी एजेंसिया भी सुरक्षा कारणों के चलते ऐसा करती हैं लेकिन सरकारी एजेंसी और हैकर में बड़ा अंतर होता है क्योंकि हैकर आपके डाटा का इस्तेमाल कर ब्लैकमेल कर सकता है.

हॉलीवुड की एक मशहूर अदाकारा की निजी तस्वीरों को उनके फ़ोन से उस वक्त हैक कर लिया जब उन्होनें अपना फ़ोन एक पब्लिक कंपयूटर में चार्जिंग के लिए लगाया.

उन तस्वीरों को वापिस पाने के लिए अदाकारा को लाखों डॉलर देने पड़े थे लेकिन अधिकतर मामलों में हैकर्स तस्वीरें वायरल कर देते हैं.

भारत के हालात

विभिन्न संस्थाओं के आंकड़ों से पता चलता है कि भारत में साइबर अपराधों की दर 40-50 प्रतिशत तक बढ़ी है और अगले आंकड़े आने तक इसमें 100 प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है.”

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.