क्या सूरज देवता की मौत होगी …?

क्या कभी ये सुना है कि हमारे सौर मंडल के केंद्र में मौजूद तारा जिसे सूर्य कहा जाता है, किसी दिन वो भी खत्म हो जाएगा.

वैज्ञानिकों की मानें तो आने वाले पांच अरब सालों में सूरज की मौत हो जाएगी. लेकिन अब तक ये बात उनको भी नहीं पता थी कि जब ये घटना होगी तो होगा क्या?

ब्रिटेन की मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी के खगोलविदों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने ये पता लगाने में कामयाबी हासिल की है.

उन्होंने इस घटना के समय होने वाली बदलावों की कुछ भविष्यवाणियां कीं.

इन खगोलविदों के मुताबिक जब सूरज की मौत का वक्त पास आएगा तो वो इंटरस्टेलर (तारों के बीच का) गैस और धूल के एक चमकीले छल्ले में तब्दील हो जाएगा.

इस प्रक्रिया को प्लैनेटरी नेबुला (निहारिका) कहा जाता है. प्लैनेटरी नेबुला की ये प्रक्रिया जीवित तारे में 90% तक बदलाव कर देती है और लाल रंग के विशालकाय सूरज का आकार एक छोटे से सफेद रंग के गोले की तरह हो जाता है.

‘नेचर एस्ट्रोनोमी’ नाम की स्टडी के एक लेखक एल्बर्ट ज़िज्लस्ट्रा ने बताया, “जब एक तारा मरता है तो उससे बहुत-सी गैस और धूल निकलती है, जिसे एनवल्प कहा जाता है. ये धूल और गैस सूर्य के कुल द्रव्यमान के आधे हिस्से में पहुंच जाती है और तारे के न्यूक्लियस पर भी असर डालती है. जब न्यूक्लियस इसके संपर्क में आता है तो वो धीरे-धीरे कमज़ोर होकर मर जाता है.”

साभार – बीबीसी

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.