क्या भारतीय युवाओ का दिल कमजोर है …!!

0
315

आंकड़े बताते हैं कि कम उम्र में हार्ट-अटैक वाले मामले दिनों-दिन भारत में बढ़ते जा रहे हैं.

acting-course-Advertisement-final.jpg

24 मई को पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद बंडारू दत्तात्रेय के बेटे बंडारू वैष्णव की हार्ट अटैक से मौत हो गई. वो सिर्फ 21 साल के थे. वैष्णव हैदराबाद से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे थे.

ख़बरों के मुताबिक़ देर रात को खाना खाने के बाद वैष्णव को अचानक से सीने में दर्द की शिकायत हुई. परिवार वाले उसे लेकर गुरु नानक अस्पताल पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

अमरीका के एक रिसर्च जरनल में छपे लेख के मुताबिक़ 2015 तक भारत में 6.2 करोड़ लोगों को दिल से जुड़ी बीमारी हुई. इसमें से तकरीबन 2.3 करोड़ लोगों की उम्र 40 साल से कम है.

यानी 40 फ़ीसदी हार्ट के मरीज़ों की उम्र 40 साल से कम है. भारत के लिए ये आंकड़े अपने आप में चौंकाने वाले हैं.

जानकार बताते हैं कि पूरी दुनिया में भारत में ये आंकड़े सबसे तेज़ी से बढ़ रहे हैं.

healthdata.org के मुताबिक प्रीमैच्योर डेथ यानी अकाल मृत्यु के कारणों में 2005 में दिल की बीमारी का स्थान तीसरा था.

लेकिन 2016 में दिल की बीमारी, अकाल मृत्यु का पहला कारण बन गया है.

10 -15 साल पहले तक दिल की बीमारी को अकसर बुजुर्गों से जोड़ कर देखा जाता था.

लेकिन पिछले एक दशक में दिल से जुड़ी बीमारी के आंकड़े कुछ और कहानी कहते हैं.

    'No new videos.'