क्या बला है हलाला..? क्या कहता है इस्लाम इसके बारे में जानिए ..?

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मौजदा मुस्लिम पर्सनल लॉ के प्रावधानों के मुताबिक अगर किसी मुस्लिम महिला का तलाक हो चुका है और वह उसी पति से दोबारा निकाह करना चाहती है, तो उसे पहले किसी और शख्स से शादी कर एक रात गुजारनी होती है. इसे निकाह हलाला कहते हैं.

अप्रैल २०१७ में बीबीसी के एक समाचार लेख ने खुलासा किया कि संयुक्त राजशाही (यूनाइटेड किंगडम) मे निकाह हलाला के नाम पर कई ऑनलाइन सेवाएं उपलब्ध हैं जो महिलाओंका सामाजिक और यौन शोषण करते हैं। ये सेवाएं किसी महिला को पैसे के बदले में एक आदमी प्रदान करते हैं जो उससे निकाह करे, शारीरिक संबंध बनए और तलाक दे दे

इसके बाद उस दूसरे शख्स से तलाक लेना होता है. ऐसा होने के बाद ही वो अपने पहले पति के साथ दोबारा शादी करके रह सकती है. हालांकि, इस्लामिक स्कॉलर्स के मुताबिक हलाला के इस नियम को मौलवियों ने अपने मर्जी से तोड़ा-मरोड़ा है.

एक्सपर्ट्स के मुतिबक हालाला इस्लाम में हराम है. अगर कोई पति अपनी पत्नी को पूरी तलाक (तलाक-ए-मुगल्लज़ा) यानी तीन तलाक दे देता है तो अब पति अपनी उस बीवी से दोबारा शादी नहीं कर सकता.

यहां भी तीन तलाक तीन महीने में दिए जाए या एक ही बार में तीन तलाक दे दिए गए हों. इसके बाद अब ये पुरुष और महिला किसी दूसरे से शादी करने को आज़ाद हैं. नियम में आगे कहा गया है कि महिला ने किसी दूसरे शख्स से शादी की और फिर उससे तलाक हो गया या पति मर गया तो अब महिला फिर से किसी दूसरे शख्स से शादी करने को आज़ाद है. और अब औरत अपने पहले पति से भी शादी कर सकती है.

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.