जाने दुनिया की सबसे ऊँची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ के बारे में ..आज PM करेंगे उद्दघाटन..!!,,!!

नई दिल्ली : सरदार वल्लभभाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का आज उद्घाटन होने जा रहा है. पीएम नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में भव्य कार्यक्रम में प्रतिमा (Statue Of Unity) का अनावरण होगा. गुजरात के नर्मदा ज़िले में बनी यह प्रतिमा दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा है. 182 मीटर की ऊंचाई के साथ इसका वज़न 1700 टन, पैर की ऊंचाई 80 फ़ुट, हाथ की ऊंचाई 70 फ़ुट, कंधे की ऊंचाई 140 फ़ुट और चेहरे की ऊंचाई 70 फ़ुट है. इस प्रतिमा का निर्माण विख्यात शिल्पकार राम वी. सुतार की देखरेख में हुआ है. देश-विदेश में अपनी शिल्प कला का लोहा मनवाने वाले राम वी. सुतार को साल 2016 में सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था. इससे पहले वर्ष 1999 में उन्हें पद्मश्री भी प्रदान किया जा चुका है. प्रतिमा नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा की बात करें तो अभी चीन का स्प्रिंग टेंपल बुद्ध पहले स्थान पर था, लेकिन अब भारत की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने इसे पछाड़ दिया है. सरदार पटेल की प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी (Statue Of Unity) की ऊंचाई 182 मीटर है. जबकि चीन के स्प्रिंग टेंपल बुद्ध की ऊंचाई 153 मीटर है. वहीं अमेरिका की स्टैच्यू ऑफ लिबर्टीकी ऊंचाई 93 मीटर है और ब्राजील की क्राइस्ट द रिडीमर 38 मीटर ऊंची है. आपको बता दें कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी महज 33 माह के रिकॉर्ड कम समय में बनकर तैयार हुई है. जबकि अभी तक दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा स्प्रिंग टेंपल बुद्ध थी और इस मूर्ति के निर्माण में 11 साल का वक्त लगा. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के रैफ्ट निर्माण का काम वास्तव में 19 दिसंबर, 2015 को शुरू हुआ था और 33 माह में इसे पूरा कर लिया गया.

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.