दामाद को पछाड़कर कैसे बनी टॉपर 96 साल की पढ़ाकू दादी..!!!

अरे शर्मा जी के बच्चे को देखो, क्लास में टॉप किया है.’ की बजाय ‘अरे 96 साल की दादी को देखो दामाद को पीछे छोड़कर टॉप किया है

अपने बच्चों को ज़्यादा नंबर लाने के लिए उकसाते हुए कही जाने वाली ऊपर लिखी पहली लाइन अब केरल की एक दादी की वजह से बदली जा सकती है.

96 साल की दादी कार्तियानी अम्मा ने अक्षरलक्ष्यम साक्षरता कार्यक्रम के तहत हुए टेस्ट में 98 फ़ीसदी नंबर हासिल किए हैं. ये कार्यक्रम ‘केरल स्टेट लिटरेसी मिशन’ के तहत शुरू किया गया है.

इस टेस्ट में कार्तियानी की पढ़ने, लिखने और गणित की क्षमताओं को परखा गया. ये कार्यक्रम पहले से अच्छी साक्षरता दर वाले केरल में 100 फ़ीसदी साक्षरता दर को हासिल करने के लिए शुरू किया गया है.

 संवाददाता प्रमिला कृष्णन से बात करते हुए कार्तियानी ने कहा, ”मेरी पढ़ाई अब रुकने नहीं वाली. जल्द मैं चौथी क्लास की पढ़ाई पूरी करूंगी. फिर आठवीं और दसवीं क्लास. जब मेरी उम्र 100 साल होगी, मैं 10वीं क्लास की पढ़ाई पूरी कर लूंगी. मुझे और ख़ुशी होगी. मैं चाहती हूं कि इसके बाद मेरी सरकारी नौकरी लग जाए.”

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.