चंद्रयान -2 में IIT कानपूर की तकनीक का इस्तेमाल , १५ जुलाई को लांच ..

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

15 जुलाई को चांद के दक्षिणी हिस्‍से के लिए चंद्रयान-2 लांच करने जा रहा है. इसरो की मदद करके चांद के तमाम राज को दुनिया के सामने लाने में इस बार कानपुर का आईआईटी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा.

इसरो के चंद्रयान-2 अभियान के लिए कानपुर आईआईटी ने इसरो की महत्वपूर्ण मदद की है. 2009 में कानपुर आईआईटी और इसरो के बीच दो एएमयू साइन हुए थे, जिसमें पहला एएमयू
चंद्रयान -2 के लिए मैप बनाने का और दूसरा एएमयू रास्ता दिखाने का था, जिसे कानपुर आईआईटी के वैज्ञानिकों ने बनाकर इसरो को सौंप दिया.

आईआईटी कानपुर में पढ़ाने वाले प्रोफेसर केए वेंकटेश और प्रोफेसर आशीष दत्ता ने मिलकर कई सालों की मेहनत से ये प्रोजेक्ट तैयार किया है. प्रोफेसर आशीष दत्ता बताते हैं कि अंतरिक्ष परियोजना चंद्रयान-2 के चांद पर पहुंचते ही मोशन प्लानिंग का काम शुरू हो जाएगा.

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.