लोकस्वामी के मालिक जीतू सोनी एवं अमित सोनी पर पुलिस ने केस दर्ज किया

  • इन्दौर -इन्दौर जीतू सोनी मामला ,एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र ने की मीडिया से बात , कहा जीतू सोनी के होटल माय होम के खिलाफ मिली थी शिकायत ,शिकायत के बाद कि कार्रवाई , करवाई के दौरान 69 महिला मिली होटल , महिलाओ के बयानों के आधार पर पुलिस ने होटल मालिक जीतू सोनी और अमित सोनी के खिलाफ अवैध बार अवैध होटल और महिलाओ के साथ गलत व्यवहारक के चलते की ह्यूमन ट्रेकिंग के तहत करवाई ,वही आरोपी अमित सोनी और उनके पिता जीतू सोनी के खिलाफ एमआई जी थाने पर आईटी एक्ट के तहत , पलासिया थाने पर ह्यूमन ट्रेकिंग और तुकोगंज में होटल में काम करने वाले कर्मचारियों की जानकारी नही देने की धाराओं में कई कार्रवाई ,वही कनाड़िया में आर्म्स एक्ट के तहत की कार्रवाई ।अमित सोनी को किया गिफ्तार कल किया जाएगा कोर्ट में पेश । वही जीतू सोनी है एभी है फ़र्रार लगातार पुलिस जीतू सोनी की तलाश में जुटी।

जैसा की पिछले दिनो हनीट्रेप की खबरों को लोकस्वामी अख़बार एवं यूटूब में प्रकाशित करने के पश्चात् इंदौर एवं भोपाल पुलिस ने लोकस्वामी के सभी प्रतिष्ठानो में दबिस डाली व आइटी ऐक्ट के तहत 66E, 67,67A केअंतर्गत केस दर्ज कर लिया।

क्या है आइटी ऐक्ट 66 व 67 ..?

किसी व्यक्ति, संस्थान या संगठन आदि के किसी सिस्टम से निजी या गोपनीय डेटा या सूचनाओं की चोरी करना भी साइबर क्राइम है. अगर किसी संस्थान या संगठन के अंदरूनी डेटा तक आपकी पहुंच है, लेकिन आप अपनी उस जायज पहुंच का इस्तेमाल संगठन कीइजाजत के बिना, उसके नाजायज दुरुपयोग की मंशा से करते हैं, तो वह भी इसी अपराध के दायरे में आएगा. कॉल सेंटरस् या लोगों कीजानकारी रखने वाले संगठनों में इस तरह की चोरी के मामले सामने आते रहे हैं. ऐसे मामलों में आईटी (संशोधन) कानून 2008 की धारा43 (बी), धारा 66 (), 67 (सी), आईपीसी की धारा 379, 405, 420 और कॉपीराइट कानून के तहत दोष साबित होने पर अपराध कीगंभीरता के हिसाब से तीन साल तक की जेल या दो लाख रुपये तक जुर्माना हो सकता है.

पोर्नोग्राफी प्रकाशित करना और इलेक्ट्रॉनिक जरियों से दूसरों तक पहुंचाना अवैध है, लेकिन उसे देखना, पढ़ना या सुनना अवैध नहींमाना जाता. जबकि चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखना भी अवैध माना जाता है. इसके तहत आने वाले मामलों में आईटी (संशोधन) कानून 2008 की धारा 67 (), आईपीसी की धारा 292, 293, 294, 500, 506 और 509 के तहत सजा का प्रावधान है. जुर्म की गंभीरता के लिहाजसे पहली गलती पर पांच साल तक की जेल या दस लाख रुपये तक जुर्माना हो सकता है लेकिन दूसरी बार गलती करने पर जेल कीसजा सात साल तक बढ़ सकती है.

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.