ये 5 फायदे पाने के लिए यदि नहीं आते हैं टैक्स के दायरे में तो भी भरें ITR

0
67

क्या होता है जीरो ITR:

अगर आपकी टैक्सेबल इनकम 2.5 लाख रुपये से कम है, तो आपको ITR भरना अनिवार्य नहीं है, लेक‍िन आपके पास हमेशा जीरो आईटीआर भरने का विकल्प रहता है. इसका मतलब यह है क‍ि आपका टैक्स तो नहीं कटता, लेक‍िन आप सरकार को अपनी आय की जानकारी देते हो.

TDS क्लेम करने में मददगार:

टैक्स के दायरे में नहीं आने के बावजूद ITR भरने का फायदा यह मिलता है कि आप आसानी से TDS क्लेम कर सकते हैं. अगर आपके बैंक ने 10 हजार रुपये से ज्यादा के ब्याज पर टीडीएस काटा है, तो आप रिफंड ले सकते हैं.

हालांकि टीडीएस रिफंड हासिल करने के लिए जरूरी है कि आपने ITR फाइल किया हो. दूसरी तरफ, अगर आपको मिलने वाला घर का क‍िराया सालाना स्तर पर 1.8 लाख रुपये से ज्यादा है, तो इस पर टीडीएस कटता है. ऐसे में इसके लिए भी ITR फाइल होना जरूरी है.

लोन लेना होगा आसान:आप लोन लेने की तैयारी कर रहे हैं, तो ITR आपके लिए इसे हासिल करना आसान बना सकता है. दरअसल ज्यादातर बैंक ऐसे वक्त पर आपके ITR की जानकारी आय के स्रोत की जानकारी पुख्ता करने के लिए मांगते हैं. ITR भरा होने से आपके लिए लोन लेना भी आसान हो जाता है.

    'No new videos.'