आपके कॉन्टैक्ट नंबर एवं निजी मैसेज सब पढता है फेसबुक ..!!

0
50

फ़ेसबुक ने आम लोगों की चिंताएं बढ़ा दी है. डेटा लीक मामले के बाद लोग अब ख़ुद से सवाल करने लगे हैं. जैसे कि मैंने फ़ेसबुक के साथ कौन सा डेटा शेयर किया है? क्या मैंने फ़ेसबुक को इसके इस्तेमाल की इजाज़त दी थी या नहीं?

और इससे भी ज़्यादा ये कि क्या मैंने अपने किसी दोस्त का डेटा फ़ेसबुक को उपलब्ध कराया है जो कैलिफोर्निया के किसी सर्वर में सुरक्षित रखा है?

मैं भी ऐसे चिंतित आम लोगों में शामिल हूं, जो इन सवालों से जूझ रहा है. पिछले हफ़्ते के आख़िर में मैंने अपना फ़ेसबुक डेटा डाउनलोड किया. ऐसा करना आसान है. आप सेंटिग में जाइए, उसके बाद ‘जनरल अकाउंट सेंटिंग’ और फिर ‘डाउनलोड माय डेटा’ पर क्लिक कीजिए.

एक घंटे बाद एक ई-मेल मिला जिसमें एक लिंक दिया गया था. क्लिक करने पर 675 एमबी का फोल्डर डाउनलोड होने लगा, जिसमें 2007 में मेरे फ़ेसबुक पर आने के बाद का सारा डेटा था.

मेरे सारे फोन नंबर फ़ेसबुक के पास थे

शुरुआत में तो कुछ ख़ास ऐसा नहीं दिखा जो परेशान करने वाला था. मुझे लगा था कि मेरे आज तक पोस्ट किए गए सभी फ़ोटो और वीडियो वहां होंगे और टाइमलाइन पर पिछले 10 साल की ज़िंदगी के सभी रोमांचक हिस्से.

मैंने देखा कि कुछ सालों तक तो हर वो गाना जो मैंने ‘स्पॉटीफाई’ पर सुना था, वहां पर दिख रहा था. इसका मतलब ये है कि आप फ़ेसबुक के ज़रिए जिस किसी बाहरी ऐप पर क्लिक करते हैं तो आपके बारे में फ़ेसबुक और जानकारी इकट्ठा कर लेता है.

उसके बाद मैंने ‘कॉन्टैक्ट’ नाम की फाइल पर क्लिक किया. मैं ये देखकर हैरानी में पड़ गया कि मेरी सारी कॉन्टेक्ट लिस्ट वहीं थी, जिसमें हज़ारों फ़ोन नंबर थे. ऐसा नहीं था कि सिर्फ़ फ़ेसबुक के दोस्तों के ही नंबर वहां थे, ब्लकि दूसरे दोस्तों के भी.

    'No new videos.'