जलवायु परोवर्तन में क्या खाए जानिए ….!!

0
11

हाल में किए गए वैज्ञानिक शोध में पाया गया है कि आसपास के वातावरण पर अपना कम प्रभाव डालने का (ग्रीनहाउस गैस का उत्सर्जन कम करने का) सबसे असरदार तरीका मांस और दूध से जुड़े उत्पाद से बचना है.

acting-course-Advertisement-final.jpg

लेकिन बीफ़ या फिर चिकन खाने का वातावरण पर कितना गंभीर असर पड़ता है?

क्या एक कटोरी चावल या चावल से बनी डिश खाने की बजाय एक प्लेट आलू के चिप्स खाए जाएं तो वातावरण के लिए कम ग्रीनहाउस गैस का उत्सर्जन होगा? क्या बीयर के मुकाबले वाइस वातावरण के लिए अच्छा चुनाव है.

नीचे दिए कैलकुलेटर का इस्तेमाल कर आप ये जान सकते हैं कि आप जो खाते या पीते हैं उसका जलवायु पर कितना असर पड़ता है. इसमें आप 34 तरह के खाद्य पदार्थों के कारण होने वाले ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन की मात्रा के बारे में जान सकते हैं.

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के एक शोध के मुताबिक़ वातावरण में जो ग्रीनहाउस होता है उसका चौथाई खाद्य उत्पादन से आता है और ग्लोबल वार्मिंग में इसका बड़ा योगदान होता है.

हालांकि, शोधकर्ताओं ने पाया है कि अलग-अलग तरह के खाद्य पदार्थ वातावरण में अलग तरह से प्रभाव डालते हैं.

शोध में पाए गए नतीजों के अनुसार खाद्य पदार्थ से होने वाले ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में करीब आधा हिस्सा केवल मांस या अन्य तरह के मांसाहारी खाद्य के कारण होता है. लेकिन इस तरह के खाद्य पदार्थों से हमें कुल खाने से मिलने वाले कैलरी का पांचवा हिस्सा ही मिलता है.

शोध में जितने खाद्य पदार्थों का विश्लेषण किया गया उनमें बीफ़ और भेड़ के मांस को वातावरण के लिए सबसे हानिकारक पाया गया.

    'No new videos.'