Category Archives: Did You Know??

ऐसे बनी हेलेन सलमान खान के परिवार का अटूट हिस्सा

दूसरे विश्व युद्ध में जब हेलेन के पिता का निधन हुआ तो वो परिवार के साथ बर्मा से भारत आ गई थीं. उस वक्त उनकी आर्थिक हालत बहुत ही बुरी थी. उसी वक्त हेलेन के भाई भी गुज़र गए. जैसे तैसे हेलेन की मां ने नौकरी ढूंढी, लेकिन उस तन्ख्वाह में घर खर्च बमुश्किल ही चलता था. आखिरकार हेलेन ने भी काम करने का फैसला लिया. उनकी जान पहचान एक बैकग्राउंड डांसर से थी, लिहाज़ा हेलेन को भी यही काम मिल गया. हेलेन बेहतरीन डांस करती थीं, जिसे देखते हुए उन्हें हावड़ा ब्रिज फिल्म में एक बड़ा मौका मिला. और वो रातों रात दर्शकों के बीच छा गईं. इस तरह हेलेन एक बड़ी और बेहतरीन डांसर के रूप में उभरकर सामने आईं. 

हेलेन ने इस दौरान निर्देशक पीएन अरोड़ा से शादी कर ली थी. लेकिन ये शादी जल्द ही टूट गई. आखिरकार हेलेन की मुलाकात हुई सलीम खान से 1962 में. धीरे धीरे हेलेन को सलीम पसंद आने लगे और सलीम खान भी हेलेन को दिल दे बैठे. आखिरकार 1980 में दोनों ने शादी कर ली. उस वक्त इस रिश्ते का विरोध सलीम खान की पहली पत्नी सुशीला चरक ने ही नहीं बल्कि उनके बच्चों ने भी किया. सलमान खान, अरबाज़ और सोहेल तीनों ही इस शादी के सख्त खिलाफ थे और हेलेन से बात तक नहीं करते थे. 

धीरे-धीरे हेलेन का स्वभाव सभी को पसंद आने लगा और ये पता चला कि हेलेन वाकई काफी अच्छी हैं. लिहाज़ा सुशीला चरक ने ही नहीं बल्कि सलमान और सभी बच्चों ने भी उन्हें अपना लिया. और आज हेलेन सलमान खान के परिवार और इनकी जिंदगी का अटूट हिस्सा बन चुकी हैं.  

    'No new videos.'

कलेक्टर मनीष सिंह ने डॉक्टर गाडरिया के अच्छे कार्य के लिए सार्वजनिक रूप से की थी प्रशंसा…

बात आज से 5 माह पहले दिसंबर 2020 की है जब पूर्व सीएमएचओ प्रवीण जड़िया के अस्वस्थ होने पर कलेक्टर मनीष सिंह ने सीएमएचओ की जिम्मेदारी इन्ही डॉ पूर्णिमा गाडरिया को दी थी। काम संभालते हुए उन्हें 20 से 25 दिन ही हुए थे की कलेक्टर मनीष सिंह ने सार्वजनिक तौर पर डॉक्टर गाडरिया के काम की तारीफ करते हुए मीडिया के साथियों को भी कहा था कि मैडम बहुत अच्छा काम कर रही हैं उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी गंभीरता से संभाल ली है इनके काम से मैं इतना निश्चिंत हूं कि मुझे स्वास्थ्य विभाग की अब जरा भी चिंता नहीं ।आप लोग मैडम के काम के बारे में भी खबरें लिखा करें।
जब अच्छे काम के लिए कलेक्टर मनीष सिंह ने मैडम की तारीफ़ की और उनका सम्मान बढ़ाया तो फिर ग्रामीण क्षेत्र के फीवर क्लीनिक पर किट वितरण नहीं होने की चूक को लेकर कलेक्टर सिंह को नाराजगी जताने के भी अधिकार भी नहीं है क्या। इस बात पर आंदोलन खड़ा करना क्या न्याय संगत है ? वह भी ऐसे समय में जब इंदौर शहर कोरोना संक्रमण पर जीत हासिल करने की ओर लगातार बढ़ रहा है।

इस समय कलेक्टर सिंह की डांट को अपमान बताकर चिकित्सकों को अपने धर्म से क्यों विरक्त किया जा रहा है। क्या यह इंदौरवासियों को कोरोना के भीषण संकट में डालने का अपराध नहीं है ? इसके पीछे मोहरा डॉक्टर गाडरिया को बनाया जा रहा है। लेकिन कलेक्टर मनीष सिंह की कार्यशैली से स्वास्थ्य विभाग के ऐसे अफसर, चिकित्सक और कई हॉस्पिटल संचालक जो काम में अब तक लापरवाही करते आए हैं उनके मंसूबे पूरे नहीं हो पा रहे हैं इसीलिए डॉ गड़रिया को मोहरा बनाया जा रहा है जिनकी प्रशंसा कलेक्टर हमेशा करते रहें है। इस तरह के लोग संकट की इस घड़ी का फायदा अपने लाभ के लिए लेना चाहते हैं। लेकिन इतना जरूर है कि अगर किसी विभाग अथवा जिले का मुखिया आपके काम की तारीफ करता है तो वह लापरवाही करने पर फटकार लगाने का अधिकार भी रखता है। जिसकी सीख की शुरुआत व्यक्ति को उसके परिवार से मिलती है, और कार्यस्थल पर इसका पालन किया जाता है।

    'No new videos.'

किराना दुकाने सप्ताह में सिर्फ़ सोमवार व गुरुवार को खुलेंगी

कलेक्टर मनीष सिंह ने जारी आदेश में कहा है कि ०४ अप्रेल से शहर में और सख़्ती की जाएगी ताकि करोना को और कोंट्रोल् किया जा सके। कलेक्टर मनीष सिंह व दीआइजी मनीष कपूरिया ने सियानगंज के दौरे में पाया कि यह पर लोगों ने काफ़ी भीड़ लगा रखी है , जिससे बीमारी फैलने का काफ़ी ख़तरा है , जिस पर उन्होंने तुरंत बाज़ार बंद कराया और निर्णय लिया कि अब सप्ताह में सिर्फ़ सोमवार व गुरुवार को ही दुकाने खुलेगी । ज़रूरी सेवाए यथावत रहेगी, औद्योगिक गतिविधियाँ पूर्वतःजारी रहेंगी ।

    'No new videos.'

१० मई तक कोरोना के मरीज़ों में ५०% गिरावट हो सकती है

लॉकडाउन के पश्चात इंदौर शहर में कोरोना के मरीज़ों में तेज़ी से सुधार होता दिख रहा है l लोगों में अब इसके प्रति जागरूकता भी आ गयी है , शहर में लोग अब मास्क लगाने लगे है साथ ही उपचार के लिए होम आयसोलेशन में रहकर अपना इलाज करवा रहे है ।

ज़िला प्राशसन का मानना है कि कोरोना की चेन को लॉकडाउन से ही तोड़ा जा सकता है , १० मई तक इसके परिणाम देखने को मिलने लगेंगे । चूँकि जिले में हॉस्पिटल की स्थित भयानक है अतः जगह बिलकुल भी नही है , इसलिए हमने राधास्वामी में एक कोविड सेंटर बनाया है जहाँ पर १२०० सामान्य कोविड मरीज़ों भर्ती किया कंडक्टर है ।

    'No new videos.'

क्या आदर पूनावाला भारत छोड़ेंगे..!

सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ आदर पूनावाला के ब्रिटेन जाने और वहां वैक्सीन बनाने की योजना के पीछे बिल गेट्स का दिमाग बताया जा रहा है।

इसे यूं समझें-
सीरम का कहना है कि उसने भारत सरकार के साथ 150 रुपये प्रति डोज़ की दर पर सिर्फ 10 करोड़ वैक्सीन देने का समझौता किया था।

समझौता चूंकि खत्म हो चुका है, इसलिए उसने अगले उत्पादन के दाम दोगुने-चौगुने कर दिए।

लेकिन सीरम को विश्व स्वास्थ्य संगठन, यानी WHO से कई गुना ज्यादा का आर्डर मिला था और वह भी एडवांस में।

कोविशिल्ड के पीछे एस्ट्राजेनेका सिर्फ एक आड़ की तरह है। असल में गूगल और गेट्स फाउंडेशन इस वैक्सीन के पीछे की प्रमुख डेवलपर कंपनियां हैं।

दोनों का मकसद भारत के फार्मा उद्योग पर कब्ज़ा जमाना है और कोविशिल्ड इसकी पहली कड़ी है।

नीचे का पहला ग्राफ देखें तो पता चलेगा कि जनवरी से मई 2020 के बीच नदी में बहुत पानी बहा है।

दूसरा ग्राफ मई के बाद की डील्स को बताता है कि कैसे GAVI-CEPI सामने आए और एस्ट्राजेनेका ने जून में किस तरह सीरम को 1 बिलियन डोज़ का आर्डर दिया।

इसी जून 2020 में भारत ने ग्लोबल साउथ इनिशिएटिव के माध्यम से 10 करोड़ वैक्सीन का ऑर्डर सीरम को मिला। बीच में मोदी सरकार से डील कब और कैसे हुई, यह बड़ा सवाल है।

सीरम में कोवैक्स का भी पैसा लगा है।

अब इस पूरे परिदृश्य को देखकर यह साफ हो जाता है कि सीरम ने इतना तो कमा ही लिया है कि पूनावाला ब्रिटेन में पैसा लगा सके।

BREXIT के बाद ब्रिटिश सरकार को पूनावाला जैसे निवेशकों की तलाश है। वहां प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की छवि कोविड कुप्रबंधन के कारण बहुत खराब है।

ऐसे में उनके लिए पूनावाला में दिलचस्पी जायज़ है। दूसरी बात- सीरम के पास वैक्सीन उत्पादन का फ्री लाइसेंस है।

वह कहीं भी वैक्सीन बना सकता है।

आपको याद होगा कि महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने पिछले दिनों भारत बायोटेक को 94 करोड़ से ज़्यादा देकर होफकिन्स इंस्टिट्यूट को कोवैक्सीन की तकनीक देने को कहा था।

मोदी ने जो चूक की, वह उद्धव ने नहीं की।

आपको यह भी याद होगा कि सीरम के पुणे में 100 एकड़ वाले कैंपस में पिछले साल आग लगी थी। आग लगी थी, या लगवाई गयी थी- ये सवाल आप आज मज़बूती से पूछ सकते हैं।

कुल मिलाकर भारत वैक्सीन के अंतरराष्ट्रीय षड्यंत्र में गहरे फंस चुका है।

लगता है, देश की बाकी 110 करोड़ अवाम को बिना वैक्सीन के ही मरना होगा।

    'No new videos.'

क्या आप जानते हैं की 5G क्या है …?

5G मोबाइल नेटवर्क का पांचवा जनरेशन है. 5g का Full Form है Fifth Generation. ये Fifth-generation wireless, या 5G, बहुत ही latest cellular technology है, जिसे की ख़ास तोर से engineered किया गया है जिससे की wireless networks की speed और responsiveness को आसानी से बढाया जा सके.

वहीँ 5G, में data को wireless broadband connections के माध्यम से लगभग 20 Gbps से भी ज्यादा की speed में transmit किया जा सकता है. इसके साथ ये बहुत ही कम latency जो की है 1 ms offer करती है और जहाँ real-time feedback की जरुरत है वहां और भी कम. 5G में ज्यादा bandwidth और advanced antenna technology होने के कारण इसमें ज्यादा amount की data को wireless के माध्यम से transmit किया जा सकता है.
यहाँ पर speed, capacity और latency, में improvement के अलावा 5G दुसरे network management features भी प्रदान करती है, जिसमें की मुख्य है network slicing, जो की दुसरे mobile operators को allow करती है multiple virtual networks create करने के लिए वो भी एक single physical 5G network में.

इस capability से wireless network connections को किसी specific uses या business cases में इस्तमाल किया जा सकता है और इसे as-a-service basis में बेचा भी जा सकता है. एक उदहारण के तोर पर self-driving car, जो की एक network slice require करता है जो की extremely fast, low-latency connections प्रदान करती है. इससे एक vehicle real-time में navigate कर सकती है.

    'No new videos.'

टायकून काइली जेनर को फोर्ब्स मैगजीन ने साल 2020 में सबसे ज्यादा कमाई करने वाली सेलेब्रिटी

Kylie Jenner

काइली की हैरतअंगेज कमाई का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उनके नीचे मौजूद टॉप चार सेलेब्स की कमाई मिलाकर भी काइली से अधिक नहीं है. काइली के बाद अमेरिकन रैपर केनी वेस्ट, मशहूर टेनिस प्लेयर रोजर फेडरर, पुर्तगाल के सुपरस्टार फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो और अर्जेंटीना के सुपरस्टार फुटबॉलर लियोनेल मेसी का नाम है.  

इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर अमेरिका के रैपर कैनी वेस्ट का नाम है. उन्होंने इस साल 170 मिलियन डॉलर्स यानी लगभग साढ़े 12 अरब की कमाई की है. वेस्ट और काइली के बीच काइली की बहन किम कार्दशियां के पति हैं. कैनी इससे पहले तब चर्चा में आए थे जब उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव लड़ने की घोषणा की थी हालांकि उन्होंने कुछ दिनों बाद ही अपने फैसले को बदल भी लिया था. 

    'No new videos.'

कान में दर्द,..? जानें घरेलू इलाज

कान में दर्द एक आम समस्या है. ये दर्द दोनों कान में हो सकता है लेकिन ये ज्यादातर एक कान में ही होता है. कान का दर्द थोड़ी देर या बहुत देर तक भी सकता है. इयर इंफेक्शन के अलावा और भी कई वजहों से कान में दर्द होता है.

    'No new videos.'

Nokia PureBook X14 लैपटॉप भारत में लॉन्च

Nokia PureBook X14 लैपटॉप को भारत में लॉन्च कर दिया गया है और इसकी बिक्री फ्लिपकार्ट के जरिए की जाएगी. ये नोकिया का पहला लैपटॉप है. इसमें Intel 10th-जेनरेशन प्रोसेसर दिया गया है और Windows 10 प्री-इंस्टॉल्ड है.

इसे मॉडल नंबर NKi510UL85S के साथ सिंगल कॉन्फिगरेशन में उतारा गया है. इसे मैट ब्लैक फिनिशिंग के साथ पेश किया गया है. इसकी स्क्रीन में साइड्स में स्लिम बेजल्स हैं और इसमें बड़ा टच पैड मौजूद है.

Nokia PureBook X14 की कीमत 59,990 रुपये रखी गई है और 18 दिसंबर से फ्लिपकार्ट से इसके लिए प्री-बुकिंग की जा सकेगी. फिलहाल कंपनी ने इसके लिए सेल डेट की घोषणा नहीं की है.

    'No new videos.'

ट्रंप और बाइडन के क़िस्मत की चाबी अब इन राज्यों के पास है

अमेरिका के राष्ट्रपति के चुनाव का मैजिकल नंबर 270 है .यानी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को दोबारा सत्ता पर बने रहने के लिए या जो बाइडेन को नया राष्ट्रपति बनने के लिए इलेक्टोरल कॉलेज के 538 में से 270 वोटों को जीतने की ज़रूरत है.

इलेक्टोरल कॉलेज के वोटों की अहमियत का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि साल 2016 में तीन महत्वपूर्ण राज्यों विस्कॉन्सिन, मिशिगन और पेन्सिलवेनिया में केवल 70,000 वोटों ने ट्रंप को जीत दिला दी. ये वोट हिलेरी क्लिंटन की 30 लाख आम वोटों की बढ़त पर भारी पड़ गए थे.

    'No new videos.'