Category Archives: Food Factory

स्वास्थ्य के लिए अच्छा खाना क्या है और स्वस्थ भोजन के फायदे क्या-क्या हैं।

खाना’ शरीर की मूलभूत जरूरत से अलग अब लोगों के मन को तृप्त करने वाली चीज बन चुका है। कुछ लोग भूख लगने पर खाते हैं, जबकि कुछ लोग सिर्फ भोजन को चखने के लिए खाते हैं। हालांकि, इन सबके बीच अगर आपसे पूछा जाए कि क्या आप पौष्टिक आहार का सेवन करते हैं, तो हो सकता है कि आप थोड़ी देर के लिए सोच में पड़ जाएं। यह एक गंभीर विषय है, इसलिए बेहतर स्वास्थ्य के लिए इस पर विचार करना जरूरी है।

              मॉडल एवं एक्ट्रेस मेघना कहती है, हेल्थ के लिए proper diet schedule होना जरूरी है , आज कल के stressful life में आपकी थोड़ी सी लापरवाही बहुत सारी हेल्थ इशू क्रिएट कर सकता है l

आइए जानते हैं स्वास्थ्य के लिए अच्छा खाना क्या है और स्वस्थ भोजन के फायदे क्या-क्या हैं।

शुरुआत इस सवाल से करते हैं कि स्वस्थ आहार क्या है? आप में से कई लोगों के मन में यह दुविधा चलती होगी कि आज के वक्त में स्वस्थ भोजन जैसी चीज न के बराबर है और अगर है भी, तो वो शायद स्वाद में अच्छी न लगे। इसलिए, नीचे हम आपको स्वस्थ आहार के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं।स्वस्थ आहार का मतलब ऐसे खाद्य पदार्थों से है, जो विटामिन, मिनरल, आयरन, प्रोटीन जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। आहार जो आपको सेहतमंद और तंदुरुस्त रखने का काम करें और आपको बीमारियों से दूर रखें। स्वस्थ आहार को पांच श्रेणी में बांटा जा सकता है l

  • हरी सब्जियां और फलियां
  • फल
  • मीट-मछली, पोल्ट्री उत्पाद
  • अनाज
  • दूध उत्पाद जैसे – पनीर, दही

वस्थ आहार के फायदे अनेक हैं जिन्हें हम निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से जान सकते हैं –

  • स्वस्थ भोजन करने से न सिर्फ आपका शरीर स्वस्थ रहता है बल्कि आपका दिमाग भी तेज होता है।
  • स्वास्थ्य के लिए अच्छा खाना खाने से शरीर मजबूत होता है।
  • स्वस्थ आहार हड्डियों को मजबूत रखते हैं।
  • पौष्टिक भोजन गर्भावस्था के दौरान एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं।
  • हरी-सब्जियां और फल मोटापा, कैंसर, डायबिटीज, ह्रदय रोग जैसी गंभीर शारीरिक समस्याओं से बचाव करते हैं।। खासकर वो खाद्य पदार्थ जिसमें फ़ाइबर की अधिक मात्रा होती है ।

पोटैशियम युक्त खाद्य पदार्थ के सेवन से किडनी स्टोन और ब्लड प्रेशर का खतरा कम हो सकता ह।

    'No new videos.'

#lunch जाने दुनिया में लोग लंच में क्या खाते है …!

सारा गिमोनो, एमबाले, युगांडा-

भारत की तरह अफ़्रीकी देश युगांडा में भी लंच करने की रफ़्तार बहुत तेज़ है. यहां भी रफ़्तार भरी ज़िंदगी जीने वाले लोग लंच के लिए मुश्किल से वक़्त निकाल पाते हैं.

युगांडा के एमबाले शहर में काम करने वाली सारा गिमोनो एक एनजीओ से जुड़ी हैं. वो कहती हैं कि लोग जल्द से जल्द लंच करके काम पर लग जाना चाहते हैं ताकि ज़्यादा से ज़्यादा काम कर सकें. हालांकि कोई लंच स्किप नहीं करता.

सारा बताती हैं कि युगांडा में लोग डिनर को ज़्यादा अहमियत नहीं देते. सारा रोज़ाना आधे घंटे का वक़्त लंच पर ख़र्च करती हैं. वो इसके लिए अक्सर अपने दफ़्तर के पास के रेस्टोरेंट में जाती हैं.

सारा कहती हैं कि युगांडा में भी भारत की तरह ही लोग दफ़्तर में ही अपना लंच निपटाते हैं. कुछ लोग अपने साथियों के साथ होटलों-रेस्त्रां में जाकर लंच करते हैं.

सारा कहती हैं कि युगांडा में स्ट्रीट फूड का भी ख़ूब चलन है. वो ख़ुद अक्सर फील्ड वर्क के दौरान रोलेक्स खाती हैं. रोलेक्स एक चपाती होती है, जिसमें अंडे, टमाटर और प्याज़ के टुकड़े डालकर रोल करके सेंका जाता है.

वनीसा मोनरॉय, न्यूयॉर्क, अमरीका-

न्यूयॉर्क की रहने वाली वनीसा की उम्र चालीस बरस है, वो पेशेवर डॉग वाकर हैं. यानी बड़े लोगों के कुत्तों को टहलाने का काम करती हैं. वो कहती हैं कि न्यूयॉर्क में अक्सर लोग लंच का पूरा टाइम सैंडविच या सलाद ख़रीदने के लिए लाइन में लगे रहकर ही बिता देते हैं.

वक़्त की बर्बादी से बचने के लिए वनीसा अक्सर घर से ही स्नैक बार पैक करके लाती हैं. इन्हें खाकर वो ख़ुद को एनर्जी भी देती हैं और वक़्त भी बचा लेती हैं.

अमरीका में दूसरे देशों के मुक़ाबले लोग छोटे लंच ब्रेक लेते हैं. 2016 में हुए सर्वे के मुताबिक़ 51 फ़ीसद अमरीकी लोग लंच में 15 से 30 मिनट लगाते हैं.

केवल 3 प्रतिशत लोग ही 45 मिनट या इससे ज़्यादा वक़्त लंच पर ख़र्च करते हैं. वहीं, फ्रांस में 43 प्रतिशत लोग लंच में 45 मिनट से ज़्यादा टाइम ख़र्च करते हैं.

 

    'No new videos.'

3 पराठे खाने पर मिलता है उम्र भर खाना फ्री, TRY करना चाहेंगे..??

इस दुकान का नाम तपस्या पराठा जंक्शन है. जो दिल्ली-रोहतक बाइपास रोड पर स्थित है. यहां रोज हजारों की संख्या में लोग पहुंचते हैं.

भारत में कोई ऐसा नहीं होगा जिसे पराठा पसंद न हों. सुबह नाश्ते से लेकर रात तक पराठा एक ऐसी चीज है. जो पेट आराम से भर देता है. पराठे की वैरायटी भी सबसे ज्यादा होती है. आलू पराठा से लेकर प्याज पराठा तक. सुनकर ही लोगों के मुंह में पानी आ जाता है. लोगों की पसंद को देखते हुए एक दुकान मालिक ने ऐसी स्कीम रखी है. जिसे सुनकर आप भी दौड़कर एक बार तो जरूर जाना चाहेंगे. यहां हिंदुस्तान का सबसे बड़ा पराठा मिलता है. जिसका साइज 1 फुट 6 इंच है और एक पराठे का वजन 1 किलो है.

50 मिनट में 3 पराठे खाने पर उम्र भर पराठे फ्री
इस दुकान का नाम तपस्या पराठा जंक्शन है. जो दिल्ली-रोहतक बाइपास रोड पर स्थित है. यहां रोज हजारों की संख्या में लोग पहुंचते हैं. इस चैलेंज के चलते ये दुकान बहुत फेमस हो चुकी है. सोशल मीडिया पर भी ये दुकान वायरल हो चुकी है. यहां चैलेंज को लेने कई लोग आते हैं. लेकिन एक पराठा भी पूरा न करने पर ही हार मान लेते हैं.

होते हैं देसी घी के पराठे
ये पराठे ऑइली नहीं होते… बल्कि ये देसी घी में बनाए जाते हैं. जिससे ये हेवी हो जाते हैं और कोई आसानी से 3 नहीं खा सकता. इस दुकान को करीब 10 साल हो गए हैं. अब तक इस चैलेंज को एक ही शख्स पूरा कर पाया है. बता दें, एक पराठा बनने में काफी समय लगता है. क्योंकि ये साइज में भी बड़ा होता है और वजन भी काफी भारी होता है. यहां पराठों की कई वैरायटी मिलती है. पनीर, स्वीट, छोला, मटर, पालक, मूली जैसे पराठे मिलते हैं, जो काफी फेमस हैं.

    'No new videos.'

नेशनल सैं‍डविच डे 2017: आज के दिन बनाएं ये मजेदार सैंडविच..!!

सैंडविच साउथ ईस्ट इंग्लैंड में एक जगह है और मोन्‍टेग इस जगह के चौथे अर्ल थे. अब सैंडविच डे है तो ऐसे में आप भले ही रोज सैंडविच खाते हो लेकिन आज के दिन सैंडविच खाना तो जरूर बनता है. लेकिन इसके लिए आपको किसी रैस्‍टोरेंट या होटल जाने की जरूरत नहीं है, पेश हैं सैंडविच की कुछ ऐसी रेसिपीज, जो हेल्‍दी भी है और टेस्‍टी भी.

आज नेशनल सैं‍डविच डे है. आज के दिन ब्रिटिश स्टेट्समैन जॉन मोन्टेग का जन्‍मदिन होता है. कहा जाता है कि सैं‍डविच का निर्माण तब हुआ था जब ब्रिटिश स्टेट्समैन जॉन मोन्टेग कार्ड्स खेल रहे थे वहीं कुछ लोग ये भी कहते हैं कि सैं‍डविच का निर्माण तब हुआ था जब मोन्‍टेग नेवी में काम करते थे. सैंडविच साउथ ईस्ट इंग्लैंड में एक जगह है और मोन्‍टेग इस जगह के चौथे अर्ल थे. अब सैंडविच डे है तो ऐसे में आप भले ही रोज सैंडविच खाते हो लेकिन आज के दिन सैंडविच खाना तो जरूर बनता है. लेकिन इसके लिए आपको किसी रैस्‍टोरेंट या होटल जाने की जरूरत नहीं है, पेश हैं सैंडविच की कुछ ऐसी रेसिपीज, जो हेल्‍दी भी है और टेस्‍टी भी.

पालक सैंडविच: बटर गर्म कर उसमें 2 कटे लहसुन, 1 कटी हरी मिर्च डालें. 1 कप कटी पालक और 1 कप स्वीट कॉर्न मिला के पानी सूखने तक इसे पकाएं. इसमें कटा पनीर और नमक मिला दें. एक ब्रेड स्‍लाइस पर ये सामग्री फैला दें, फिर इसपर चीज़ डालें. फिर ऊपर से दूसरी ब्रेड से ढक दें, फिर बटर लगाकर इसे सेक लें. टेस्‍टी सैंडविच तैयार हैं.

एग सैलेड सैंडविच: एक कटोरे लें और उसमें 1 टी स्‍पून मायोनीज़, 2 कटे सलाद के पत्‍ते, आधा कप हरी प्‍याज़,2 उबले हुआ और बारीक कटे अंडे और स्‍वादानुसार नमक, काली मिर्च मिलाएं. अब अगर आप सॉफ्ट सैंडविच खाना चाहते हैं तो ब्रेड के किनारे पर लगे भूरे भाग को काटकर अलग कर दें. अब तैयार की गई सटफिंग को ब्रेड के अंदर भर दें. आपका एग सलाद सैंडविच तैयार है.

चुकंदर सैंडविचः 2 ब्रेड स्‍लाइस पर लहसुन मिला तेल लगाएं. इसके बाद इसके ऊपर 1 छोटा चम्मच काली मिर्च डालकर ग्रिल होने के लिए रख दें. साथ ही इसमें 1 कटे चुकंदर के पीस लगा दें. अब 1 छोटा चम्मच सिरका में उबले हुए मशरूम और मक्खन मिलाएं. अब इसे ग्रिल की हुई ब्रेड के बीच में भरकर सर्व करें.

पंजाबी भुर्जी सैंडविच: एक पैन में 1 टेबल कटा प्याज सुनहरा होने तक भूनें. इसमें 1 कटी हरी और नमक मिर्च डालें. अब 2 अंडे फेंटकर इसमें डाल दें. तैयार भुर्जी को ब्रेड स्लाइस पर रखें. चीज बुरक कर दूसरे स्लाइस रख कर सैंडविच मेकर में सैडविच बनाएं.

मटर सैंडविच: कड़ाही में तेल गर्म करें, उसमें 1 टेबल स्‍पून अदरक-लहसुन पेस्ट डाल कर फ्राई करें. अब इसमें 1 कटी प्याज, 1 कटा टमाटर फ्राई करें. इसके बाद इस मिश्रण में उबले 1 कप मटर के दाने और 1 उबले आलू डाल कर 1 टी स्‍पून  सांभर पाउडर डालें और मिक्स करें. इस मिश्रण को टोस्ट पर लगाएं और दूसरे टोस्ट से इसे ढकें.

    'No new videos.'

‘ब्रांड इंडिया’ फूड के रूप में किया जाएगा खिचड़ी को प्रमोट..!!

दिल्ली में 3 नवंबर से ‘विश्व खाद्य भारत’ प्रदर्शनी एवं सम्मेलन की शुरुआत हो रही है. खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय 4 नवंबर को इस इवेंट में इंडिया गेट लॉन पर शेफ संजीव कपूर की अगुवाई में 1000 किलो खिचड़ी बनाई जाएगी.

हर घर में बनने वाली खिचड़ी को अब विशेष पहचान मिलने जा रही है. खिचड़ी को ‘ब्रांड इंडिया’ फूड के रूप में प्रमोट करने की तैयारी है. दिल्ली में 3 नवंबर से ‘विश्व खाद्य भारत’ प्रदर्शनी एवं सम्मेलन की शुरुआत हो रही है. खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय 4 नवंबर को इस इवेंट में इंडिया गेट लॉन पर शेफ संजीव कपूर की अगुवाई में 1000 किलो खिचड़ी बनाई जाएगी.

गिनीज बुक में मिल सकती है जगह
संजीव कपूर का यह प्रयास गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हो सकता है. इस प्रयास का मकसद खिचड़ी को ब्रांड इंडिया खाद्य के रूप में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लोकप्रिय बनाना और लोगों में भारतीय खाद्य उत्पादों के प्रति रुचि पैदा करना है. खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने एक संवाददाता सम्मेलन में इसकी जानकारी देते हुए कहा, ‘गुरु पर्व के दिन यह आयोजन होगा और इसमें तैयार खिचड़ी विदेशी मेहमानों के साथ साथ गरीबों में भी बांटी जाएगी.

स्वास्थ्य के लिहाज से काफी पोषक
खिचड़ी एक ऐसा भोजन है जो गरीब-अमीर सबके यहां पकती है और इसे स्वास्थ्य के लिहाज से काफी पोषक माना जाता है.’ शेफ संजीव कपूर भी इस मौके पर मौजूद थे. उन्होंने कहा कि इस खिचड़ी को बनाने में 50 लोग शामिल होंगे और इसके पीछे प्रयास भारत के खाद्य ब्रांड के तौर पर खिचड़ी को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पेश करना है. इसे धीमी आंच पर पकाया जाएगा.

    'No new videos.'

रेसिपी: जानिए बादाम कुकीज बनाने का आसान तरीका..!!

बादाम कुकीज़ खाने में बहुत स्वादिष्ट होती हैं. क्रिसमस पर तो इन्हें खास तौर पर बनाया जाता है. आप भी बादाम कुकीज़ को बनाकर रख लें. फिर इन्हें चाहें तो खुद खाएं या मेहमानों को परोसें इनका स्वाद सभी को भाएगा.

ज़रूरी सामग्री:

  • मैदा – 200 ग्राम (2  कप )
  • बेकिंग पाउडर – 1 1/2 छोटी चम्मच
  • बादाम – 150 ग्राम ( 1 कप)
  • मक्खन –200 ग्राम ( 1 कप )
  • पिसी चीनी – 200 ग्राम ( 1 कप)
  • दूध – 2 टेबल स्पून

बनाने की विधि:

सबसे पहले मैदे और बेकिंग पाउडर को मिक्स करके एक थाली में छान लें.

सारे बादामों में से 20-25 बादम साबुत अलग बचा कर रख लें और बाकी बादाम को दरदरा पीस लें. बचाए हुए बादामों को आधे घंटे के लिए गुनगुने पानी में भिगो कर रख लें. आधे घंटे बाद इन्हें निकाल कर चाकू से लंबाई में दो टुकडों में काट लें.

अब एक बर्तन में मक्खन को निकल कर उसे हल्का गरम करते हुए पिघला लें. इस पिघले मक्खन में चीनी मिला कर अच्छे से खूब फ़ैंटें.

मैदे को मक्खन वाले मिश्रण में डाल लें. इसे तब तक मिलाएं जब तक ये एकसार ना हो जाए. तैयार मिश्रण में पिसा हुआ बादाम और दूध डाल कर आटे की तरह गूंथ लें.

एक ट्रे को घी लगाकर चिकना कर लें. मिश्रण से थोडा़ सा मिश्रण लेकर इसे हाथ से गोल करते हुए फिर दबाकर कुकीज़ का आकार दें. बादाम का आधा टुकडा़ लेकर इसे कुकीज़ पर रख कर दबा दें और चिपका दें. बाकी सारी कुकीज़ को भी इसी तरह तैयार कर लें.

सारी कुकीज़ को एक-एक करके चिकनी की हुई ट्रे में लगाते जाएं. इन्हें ध्यान से थोडी़-थोडी़ दूरी पर लगाएं. क्योंकि जब कुकीज़ बेक होंगी तो इनका आकार पहले से बडा़ हो जाएगा. इसलिए एक ट्रे में जितनी कुकीज़ आसानी से आ सकें उतनी ही रखें.

ओवन को 180 डि. सें. पर प्री हीट कर लें. कुकीज़ वाली ट्रे को इसमें रखकर 15 मिनट के लिए बेक कर लें. फिर 15 मिनट बाद चैक करें. अगर कुकीज़ के किनारे हल्के ब्राउन हो गए हैं तो ये बेक हो चुकी हैं लेकिन अगर अभी ये ब्राउन नहीं हुए तो इन्हें 5 मिनट के लिए और बेक कर लें. निश्चित समय के बाद कुकीज़ तैयार हैं. इन्हें ओवन से निकाल कर ठंडा होने दें और फिर किसी डलिया में रख लें.

बाकी सारी बादाम कुकीज़ को भी इसी तरीके से बेक करके तैयार कर लें.

स्वादिष्ट और ताज़ा बादाम कुकीज़ तैयार हैं. इन्हें घर में सबको खिलाएं और खुद भी खाएं. बची हुई बादाम कुकीज़ को आप एअर टाईट कंटेनर में भर कर रख सकते हैं और फिर जब भी चाहें इन्हें निकाल कर मज़े से खा लें.

    'No new videos.'

तोड़े वो सारे भ्रम जो आज तक अंडे खाने वालों के मन मे थे…!!!!

अंडे में पाए जाने वाले पोषक तत्व-
अंडे में उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन, सेलेनियम, विटामिन डी, बी 6, बी 12 और मिनरल्स जैसे जिंक, आयरन और कॉपर पाया जाता है, जो कि अंडे को सबसे अधिक न्यूट्रिशन फूड बनाते हैं.दुनियाभर में न्यूट्रि‍शनिस्ट और हेल्थ एक्सपर्ट मानते हैं कि अंडा सेहत के लिए फायदेमंद है.

क्या कहती हैं रिसर्च-
रिसर्च के मुताबिक, रोजाना अंडे खाने से कोलेस्ट्रॉल की समस्या या हार्ट रोग की समस्याओं के खतरों से बच सकते हैं. अंडे में सैचुरेटिड फैट कम होता हैं और इसमें कोई ट्रांस फैट नहीं होता.

लोगों में अंडे को लेकर कई मि‍थक हैं. आज हम आपको ‘वर्ल्ड एग डे’ के मौके पर बता रहे हैं अंडे से जुडे मिथ्स के बारे में.

मिथः कोलेस्ट्रॉल के स्तर में वृद्धि कर देता है अंडा.
तथ्य: अंडा प्रोटीन का बेहतरीन स्रोत हैं, इसलिए इसे डायट में शामिल करना चाहिए. ये मि‍थ है कि अंडा खाने से कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है. हां, ये सच है कि अंडे की जर्दी आपकी दिल की सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकती है. इसलिए आप अपनी डायट में सफेद अंडे को शामिल कर सकते हैं. एक दिन में दो अंडे खाएं.

क्या आप भारतीय भोजन के इतिहास और कुछ बेहद रोचक बातों को जानते हैं??

मिथक: अंडे को धोने से साल्मोनेला बैक्टीरिया खत्म हो जाते है.
तथ्य: साल्मोनेला जीवाणु अंडे के अंदर मौजूद होते हैं. ये अंडे की सतह पर मौजूद नहीं होते.

मिथक: एक दिन में बहुत सारे अंडे का सेवन स्वास्थ्य के लिए खराब होते हैं.
तथ्य: विशेषज्ञों का मानना है कि प्रति दिन तीन पूरे अंडे स्वस्थ लोगों के लिए पूरी तरह से सुरक्षित हैं. डायटिशियन रूपाली दत्ता कहती हैं कि एक दिन में एक या दो अंडे अच्छे प्रोटीन सेवन के लिए पर्याप्त हैं, यदि आप शाकाहारी हैं तो यह प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत है.

मिथक: सफेद अंडे के बजाय ब्राउन अंडे ज्‍यादा फायदेमंद हैं.
तथ्य: अंडे कई रंगों में आते हैं. अलग-अलग अंडे रंग का रंग मुर्गियों के उत्पादन करने वाले पिगमेंट से आता है. इसलिए, सफेद या ब्राउन दोनों ही अंडे सेहत के लिए फायदेमंद हैं.

मिथक: अंडे के बाद आपको दूध नहीं पीना चाहिए.
तथ्य: आयुर्वेदिक के अनुसार अंडे के साथ दूध पीने से अपच, ब्लोटिंग और गैस बनती हैं.

    'No new videos.'

क्या आप भारतीय भोजन के इतिहास और कुछ बेहद रोचक बातों को जानते हैं??

भारत भी अपनी विविध संस्कृतियों और हर संस्कृति और समुदाय से जुड़े खाने के लिये पूरी दुनिया में जाना और सराहा जाता है। लेकिन क्या आप भारतीय भोजन के इतिहास और इससे जुड़ी कुछ बेहद रोचक बातों को जानते हैं?

भारतीय खाने से संबंधित हैं ये रोचक तथ्‍य…..

किसी नाराज़ इंसान को मनाना हो तो बस उसे स्वादिष्ट भोजन करा दें, उसका मूड़ चौकस हो जाता है। यहीं नहीं किसी देश और संस्कृति की पहचान में वहां के खाने की अहम भूमिका होती है। भारत भी अपनी विविध संस्कृतियों और हर संस्कृति और समुदाय से जुड़े खाने के लिये पूरी दुनिया में जाना और सराहा जाता है। खैर… यूं तो हम खाने पर बिना रुके घंटों तक बात कर सकते हैं, और नई-पुरानी फूड रेसेपीज़ को जान सकते हैं। लेकिन क्या आप भारतीय भोजन के इतिहास और इससे जुड़ी कुछ बेहद रोचक बातों को जानते हैं? अगर नहीं! तो तैयार हो जाइये, हम आपको आज भारतीय भोजन से जुड़ी कुछ बेहद रोचक बातें बता रहे हैं –

भारत को मसालों की धरती के नाम से भी पुकारा जाता है। ऐसा इसलिये क्योंकि, भारत के अलावा कोई ऐसा देश नहीं है, जो इतने तरह के मसालों को तैयार करता हो।

रेसिपी: घर में बनाएं ‘क्रीमी पोटैटो-चीज मोमोज’….!!

ग्रीक, रोमन और अरब व्यापारियों भारतीय व्यंजनों में पहले विदेशी जायके के लिए काफी योगदान दिया है। भारत के लिए अद्भुत केसर भी ये ही व्यापारी लाए थे। वहीं पुर्तगाली व्यापारी भारत में एक नए प्रकार का चीज़ (छैना पनीर) बनाने की कला भारत लेकर आए। यही नहीं भारतीय व्यंजनों के प्रधान अवयवों, जैसे आलू, टमाटर और मिर्च आदि भारतीय मूल के नहीं हैं। इन्हें भी पुर्तगालियों द्वारा भारत लाया गया था। रिफाइंड चीनी को भी पुर्तगाली ही भारत लाए। इससे पहले, फल और शहद को भारतीय भोजन में मिठास के लिये इस्तेमाल किया जाता था।

ये बात शायद आप ना जानते हों कि हम भारतीयों की पसंदीदा डिश ‘चिकन टिक्का मसाला’, दरअसल एक भारतीय व्यंजन नहीं है। इसका इजाद पहली बार स्कॉटलैंड के ग्लासगो में हुआ था। बाद में डिश भारत में आई और बेहद प्रचलित हुई। अगर बात अमरीका की करें तो अमरीका में पहला भारतीय रेस्तरां 1960 दशक के मध्य में खुला था। आज अमरीका में तकरीबन 80,000 भारतीय रेस्तरां है।

भारतीय खाद्य इतिहास के अनुसार, हमारे भोजन में 6 अलग-अलग फ्लेवर (ज़ायके) होते हैं, जैसे मीठा, नमकीन, खट्टा, कसैला और मसालेदार (तीखा)। एक उचित भारतीय भोजन में एक या दो जायके को छोड़कर इन सभी 6 ज़ायकों का सही संतुलन होता है। तो अगली बार जब आप कोई पारंपरिक भारतीय भोजन करेंगे तो आप इसके ज़ायके को बेहतर तरीके से चख पाएंगे।

    'No new videos.'

रेसिपी: घर में बनाएं ‘क्रीमी पोटैटो-चीज मोमोज’….!!

मोमोज ज्यादातर लोगों के पसंदीदा खानो में शुमार होते हैं. लेकिन बाहर के खाने से परहेज करने वाले लोग अपनी सेहत के चलते मोमोज नहीं खा पाते. जानिए घर में कैसे बनते हैं ‘क्रीमी पोटैटो-चीज मोमोज’.

मोमोज तिब्बत की रैसिपी है. खाने में बड़े ही स्वादिष्ट होते है, इसलिये भारत में मोमोज बहुत पसन्द आने लगे हैं, मोमोज (Tibetan Steamed Dumplings) बनाने में तेल का प्रयोग बहुत ही कम होता है, और इस खाने को भाप से पकाया जाता है. इसलिये मोमो जल्दी पचने वाला और पोष्टिक खाना है.

मोमोज़ भाप में पकाए जाते हैं. इन्हे बनाने में तेल भी बहुत कम लगता है. इसलिए ये खाने में हल्के और पौष्टिक भी होते हैं. मोमोज़ एक तिब्बती, लज़ीज़ व्यंजन है जिसे भारत में लोग बेहद पसंद करते हैं.

सामग्री

 

भरावन के लिए
आलू- 1/4 किलो (कद्दूकस)
पनीर- 1/2 कप
अदरक-लहसुन पेस्ट- 2 चम्मच
नमक- 1/4 चम्मच
बारीक कटा हरा प्याज- 1 चम्मच
तेल- 2 चम्मच
गूंदने के लिए
मैदा- 2 कप
नमक- 1/2 चम्मच
बेकिंग पाउडर- 1/2 चम्मच
 विधि
कद्दूकस किए हुए आलू का पानी पूरी तरह से निचोड़ें. भरावन की सभी सामग्री को एक बाउल में डालकर अच्छी तरह मिलाएं. मैदा, नमक और बेकिंग पाउडर को मिलाएं और पर्याप्त पानी की मदद से गूंद लें. गूंदे हुए मैदे को बहुत पतला बेल लें और छोटे-छोटे गोले में काटें या छोटी-छोटी पूरियां बेलें. हर पूरी के बीच में तैयार मिश्रण डालें और पूरी के किनारों को सील करें और बीच से ट्विस्ट करके उसे मोमोज का आकार दें. सारे मोमोज ऐसे ही तैयार करें. 10 से 12 मिनट तक भाप पर पकाएं. मोमोज की लाल वाली चटनी के साथ सर्व करें.
    'No new videos.'

तनाव को पलभर में दूर कर देगा ये खास जूस..!!

तनाव की वजह से न केवल दिमाग बल्कि सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है जिसकी वजह से सोचने और समझने की क्षमता भी डगमगाने लगती है। ऐसे में ये तरीका आपकी मदद कर सकता है लेकिन इसके लिए आपको कहीं बाहर नहीं बल्कि अपनी रसोई का रुख करना होगा। हमारी रसोई में इस्तेमाल होने वाले मसालों के साथ-साथ कुछ ऐसे आहार भी होते हैं जिन्हें खाना आपकी सेहत को ठीक रखता है और उन्हीं में से अदरक और लौकी भी हैं।

लौकी कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होती है तो वहीं अदरक कई सारी बीमारियों को दूर भगाने में कारगर होती हैं ऐसे में एक गिलास लौकी के जूस में करीब दो चम्मच अदरक का रस डालकर पीने से तनाव कम होने में सहायता मिलती है। आपको बता दें कि लौकी और अदरक के मिश्रण को कोलिन के नाम से जाना जाता है। कोलिन तनाव को कम करने में मदद करता है इसी वजह से दोनों चीजों का मिश्रण तनाव को चुटकियों में दूर कर देता है।

    'No new videos.'