Category Archives: Management News

विदेशों में काम कर रहे भारतीय लोगों को EPFO ने दिया यह तोहफा.!

यह योजना भारतीय कामगारों को उनके काम के देश की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से बचाती है.

विदेशों में काम कर रहे भारतीय कामगार अब उस संबंधित देश की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के दायरे से बच सकते हैं. वे इसके बजाय घरेलू कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) की योजनाओं को चुन सकेंगे. केंद्रीय भविष्य निधि आयुक्त (सीपीएफसी) वी पी जॉय ने इसकी जानकारी दी. उन्होंने ‘धोखाधड़ी जोखिम प्रबंधन-नयी पहलें’ विषय पर राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि इसके लिए एक ऑनलाइन सुविधा की शुरुआत की गयी है.

यह योजना भारतीय कामगारों को उनके काम के देश की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से बचाती है. इसके साथ ही यह रोजगार प्रदाताओं को समाजिक सुरक्षा योजनाओं में दोहरा योगदान वहन करने से भी बचाती है. ईपीएफओ ने इसके लिए 18 देशों के साथ अनुबंध किया है.

उन्होंने कहा, ‘‘हमने पूरी प्रक्रिया को कर्मचारियों के अनुकूल बना दिया है. विदेश में काम करने जा रहे कामगार कवरेज का प्रमाणपत्र पा सकते हैं. वे प्रमाणपत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं तथा ऑनलाइन ही इसे हासिल भी कर सकते हैं.’’ उन्होंने बताया कि इसके लिए ईपीएफओ की वेबसाइट पर एक पन्ने का सरल आवेदन पत्र मौजूद है.

जॉय ने कहा, ‘‘यह योजना सीमित समय के लिए विदेश काम करने जा रहे लोगों के लिए बड़ी मदद है. इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि अब उनका पैसा लंबे समय तक बाहर फंसा हुआ नहीं रह सकता है.’’ भारत का बेल्जियम, जर्मनी, स्विट्जरलैंड, फ्रांस, डेनमार्क, दक्षिण कोरिया, लग्जमबर्ग, नीदरलैंड, हंगरी, फिनलैंड, स्वीडन, चेक गणराज्य, नॉर्वे, ऑस्ट्रिया, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, जापान और पुर्तगाल के साथ सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के संबंध में अनुबंध किया है.

ईपीएफओ विश्व की सबसे बड़ी सामाजिक सुरक्षा प्रदाता संस्था है. यह 9.26 लाख से अधिक कंपनियों को कवर करती है तथा इसके 4.5 करोड़ से अधिक सदस्य हैं. यह प्रति माह 60.32 लाख लोगों को पेंशन प्रदान करती है.

    'No new videos.'

IIM पढ़ाएगा आम आदमी को मैनेजमेंट का पाठ

indian-institute-of-management-indore-iim-indore-indore-india

इंंदौर. अपने इनोवेटिव इनिशिएटिव के लिए पहचान बना चुका आईआईएम इंदौर एक बार फिर अपना इनोवेटिव ग्रुप लेकर आ रहा है। नई पहल करते हुए यहां आम आदमी को मैनेजमेंट का पाठ पढ़ाने जा रहा है। आईआईएम इंदौर ने फ्रुगल और इंक्लूसिव इनोवेशन को प्रमोट करने के लिए स्पेशल इंटरेस्ट ग्रुप शुरू किया है। इस इंटरेस्ट ग्रुप में कोई भी व्यक्ति जुड़ सकता है।
इस तरह के ग्रुप शुरू करने का मकसद लोगों को नॉलेज के साथ अपटेड रखने से है। इस ग्रुप के जरिये देशभर के लोगों के बीच में आइडिया शेयर करने की प्रोसेस को बढ़ावा देना है। इसके साथ ही आम नागरिक की भागीदारी को बढ़ावा देना है। इस ग्रुप के लोगों को लेटेस्ट नॉलेज और कॉनसेप्ट से अपटेड करने के लिए वर्कशॉप, गेस्ट लेक्चर और कॉन्फ्रेंस का भी आयोजन किया जाएगा।
इस ग्रुप की खास बात यह है कि इसमें टू वे कम्युनिकेशन प्रोसेस रखी जा रही है। ग्रुप में जुड़े आम आदमी भी इसमें अपनी बात ब्लॉग के जरिये रख सकेंगे। इसके साथ ही वे अगर अपने इनोवेशन से जुड़ी जानकारी भी शेयर करना चाहते हैं तो इस प्लेटफार्म के जरिए लोगों तक साझा कर सकेंगे।
फ्रुगल इनोवेशन का शाब्दिक अर्थ मितव्ययी नवीनता से है। इसमें नए बिजनेस मॉडल को कॉस्ट एफेक्टिवनेस के साथ डवलप किया जाता है। इसके साथ ही इसमें कस्टमर को क्वालिटी प्रोडक्ट्स और सर्विस को वेस्ट से बेस्ट मैनेजमेंट या लेटेस्ट टेक्नीक का यूज करते हुए कम कॉस्ट में कस्टमर तक पहुंचाने का प्रयास किया जाता है।
मैक्सिमम लोगों तक पहुंचने का प्रयासइंटरनेट की रीच काफी बढ़ गई है। ऐसे में इंटरनेट के यूज से मैक्सिमम लोगों तक पहुंचने का प्रयास किया जाएगा।
ऋषिकेश टी कृष्णन, आईआईएम डायरेक्टर

    'No new videos.'

आज होगा मैनेजमेंट के महाकुंभ का आगाज

management

इंदौर। इंदौर मैनेजमेंट एसोसिएशन द्वारा आयोजित दो दिनी इंटरनेशनल मैनेजमेंट कॉन्क्लेव का आगाज आज होने जा रहा है। मैनेजमेंट के इस महाकुंभ के सिल्वर जुबली ईयर में लाइफटाइम अचीवमेंट एचडीएफसी चेयरमैन दीपक पारेख को मिलेगा। इस मैनेजमेंट इवेंट में दो हजार मैनेजर्स, सीईओ, एंटरप्रेन्योर्स और थिंकर्स के साथ ही तीन हजार बिजनेस स्टूडेंट्स शामिल होंगे। इस साल कॉन्क्लेव की थीम ‘इंडिया इंकॉर्पोरेशन-रीइवेंटिंग ग्रोथ है।

कॉन्क्लेव में इस बार बंधन बैंक के चेयरमैन चंद्रशेखर घोष, टीआरएफ लि. के नॉन एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर जेजे इरानी, मुल्लेन लॉवे लिंटास के ग्रुप चेयरमैन आर बाल्की, काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च के फॉर्मर डायरेक्टर आरए मशेलकर, द बोस्ट कंसल्टिंग ग्रुप एशिया पैसेफिक के चेयरमैन जन्मेजया सिन्हा, मिनिस्टर ऑफ स्टेट कोल न्यू एंड रिन्यूएबल एनर्जी पीयूष गोयल, इंडियामार्ट के फाउंडर चेयरमैन दिनेश अग्रवाल, टाटा संस के नॉन एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर आर. गोपालकृष्णन, टाटा स्टील इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर टीवी नरेंद्रन और प्राक्टो के सीईओ शशांक एनडी बतौर वक्ता शामिल होंगे।

    'No new videos.'

प्रो.अशोक सोम आईआईएम वल्र्ड मैनेजमेंट कॉन्फ्रेंस में हुए शामिल

ashok som

इंदौर। यंग टैलेंट को अट्रैक्ट करना है तो ब्रांड की जरूरत है और ब्रांड को सस्टेन और ग्रो करने के लिए यंग टैलेंट का होना जरूरी है। दोनों एक-दूसरे की जरूरत हैं। यह कहना है प्रो. अशोक सोम का। वे शुक्रवार को आईआईएम इंदौर में आयोजित थर्ड पैन आईआईएम वल्र्ड मैनेजमेंट कॉन्फ्रेंस के अंतिम दिन संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इंडिया के पास ऐसा टैलेंट है, जो देश के सर्विस स्पेशलाइज ब्रांड को मेक इन इंडिया ब्रांड बनाने की ताकत रखता है। उन्होंने कहा कि हमें समझना होगा कि बायिंग और सेलिंग में बैलेंस बनाने की जरूरत है और यह भी समझना होगा कि क्या खरीदना है और क्या बेचना है।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रो. योगेश माहेश्वरी ने कहा कि इंडिया अभी डवलपिंग ऑर्बिट में है और 2020 से 2050 तक दूसरी आर्बिट में रहेगा। वल्र्ड इकोनॉमिक आउटलुक के मुताबिक इंडिया के सामने नया चैलेंज नए ऑर्बिट में प्रवेश करने का है। एक बार इंडिया इस ऑर्बिट में शामिल हो गया, फिर उसे आगे बढऩे का मोमेंटम मिल जाएगा और इंडिया वल्र्ड के लीडिंग इकोनॉमी में शामिल हो जाएगा।

    'No new videos.'

एमवाय अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था पर शासन ने दिया जवाब

इंदौर. एमवाय अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था पर शासन ने अपना जवाब बुधवार को हाई कोर्ट में पेश कर दिया है। शासन की तरफ से जेल विभाग ने जवाब में लिखा है कि अस्पताल में कैदी की गोली मारकर हत्या के बाद पुख्ता कार्रवाई की गई है। लापरवाह प्रहरी. सिपाही को सस्पेंड कर दिया था, वैसे जांच और सुरक्षा की जिम्मेदारी संबंधित पुलिस थाने की थी। पुलिस ने भी आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल पहुंचा दिया है।

याचिकाकर्ता वरिष्ठ अधिवक्ता चंपालाल यादव, मनीष यादव ने कोर्ट में कहा कि शासन ने जवाब गोलमोल तरीके से दिया है। जो व्यक्ति मारा गया उसे मुआवजा भी दिया जाना चाहिए। इस पर कोर्ट ने कहा कि मुआवजा किस मद में दिया जा सकता है, यह याचिकाकर्ता बताए। इस पर सुप्रीम कोर्ट के साइटेशन होने की बात कही। जनवरी के अंत में इस मामले की अंतिम सुनवाई होगी।

    'No new videos.'

धुम्रपान छोड़े लाइटर की मदद से

अब एक ऐसा लाइटर आ चूका है जो आपकी धुम्रपान की आदत को छुड़ाने में सक्षम है, क्विटविट नाम के इस लाइटर की ख़ास बात यह है की यह धूम्रपान करने की आदत का रिकॉर्ड रखता है तथा उससें संबंधित एप में उसके आंकड़े जमा कर इस बुरी आदत को छोड़ने में मदद करता है। इसमें सामान्य लाइटर की तरह आग नहीं जलती बल्कि इसमें गर्म होने वाले क्वॉइल का इस्तेमाल किया गया है। इस लाइटर में एक छोटी सी एलईडी लगी हुई जो यह रिकॉर्ड करती है कि आप रोजाना कितनी सिगरेट पीते हैं या फिर आपने आखिरी सिगरेट कब जलाई थी।

    'No new videos.'

गूगल को माननी होगी आपकी बात

गूगल पर आपकी कोई ऐसी जानकारी मौजूद है, जिसे आप हटाना चाहते हैं तो गूगल को वह जानकारी हटानी ही पड़ेगी।
यूरोप की शीर्ष यूरोपियन यूनियन कोर्ट ऑफ जस्टिस (ईसीजे) में यह यह फैसला गूगल को सुनाया है। अदालत में यह मामला मुक्त अभिव्यक्ति और निजता के अधिकार के बीच चल रहा है।
निजता के अधिकार के समर्थकों का कहना है कि लोगों को यह अधिकार मिले कि वे इंटरनेट से अपनी डिजिटल जानकारी हटा सकें। गूगल ने इस निर्णय को सेंसरशिप माना है।

    'No new videos.'

एम.पी. बोर्ड के रिजल्ड 20 मई तक

एम.पी. बोर्ड के 10 और 12वीं के रिजल्ट आने में करीब एक हफ्ते का समय और लगेगा क्योंकि अभी तक कॉपियां जाँचने की प्रक्रिया पुरी नहीं हुई है, जिससे माध्यमिक शिक्षा मंडल नतीजे तैयार करने की प्रक्रिया शुरु नहीं कर पाया है। गौरतलब है कि परीक्षा में प्रदेश से 18 लाख विद्यार्थी शामिल हुए है। प्रदेश में उच्च गणित विषय की परीक्षा एक बार निरस्त होने के बाद 21 अप्रैल को दोबारा कराई गई थी जिसमें करीब तीन लाख विद्यार्थी शामिल हुए थे। जब तक इनकी कॉपियों की जाँच पूरी नहीं हो जाती परिणाम तैयार नहीं हो सकेंगे।

    'No new videos.'

हम चाहतें है बच्चे अपने आपको समझे- स्मिता राठौर

आज के समय में बच्चों का किस तरह की शिक्षा दी जाए एवं स्कूल पैरेंट्स व बच्चों में किस तरह की बोडिंग होनी चाहिए इन्हीं पहलुुओं पर हमने बात की आईपीएस प्रिसिंपल स्मिता राठौर से….
अपने स्वभाव से बहुत ही नम्र व समझदार इंदौर पब्लिक स्कूल की प्रिसिंपल स्मिता राठौर का कहना है कि वे चाहती है कि बच्चे सबसे पहले खुद पर भरोसा करना सीखे और अपने आपको समझे की वे क्या कर सकते है। एक प्रिसिंपल होने के नाते उन्होंने कहा कि वे टीचर्स से ये उम्मीद करती है कि वे बच्चों में आत्मविश्वास भरे और बच्चों को कम्फटेबल बनायें। बच्चों की जिंदगी जीने के लिए प्रिप्रेर किया जाए और उन्हें वही करने दिया जाए जो वो चाहते हैं एवं उन्हें किताबी कीड़ा न बनाया जाए। उन्होंने बताया कि आईपीएस पेरेंट्स को भी सेंशन देता है जहाँ वे पैरेट्स से बाते करे उनके बच्चों के भविष्य की चर्चा करता है। उनका मानना है कि माता-पिता को कभी अपने बच्चों पर किसी भी चीज को करने का दबाव नहीं बनाना चाहिए। उनके मुताबिक आईपीएस अपने स्टूटेंड्स को हर एक विषय पर ना सिर्फ रटवाकर कार्य करवाना चाहता है बल्कि बच्चे हर कार्य को प्रेक्टिकल सीखकर समझने की कोशिश करें। यह भी कहा कि हम बच्चों को अच्छा इन्फ्रास्ट्रक्चर और अच्छी फेक्लटिस देकर हर बच्चे पर इन्डीव्यूज्वल एटेंशन देते हैं। वे कहती है कि स्टूडेंट को किसी भी स्थिति में डिप्रेशन का शिकार नहीं होना चाहिए। आज के स्टूडेन्स से वे यह कहना चाहती है कि हर बच्चे को खुद पर यकीन करना चाहिए एवं सभी पैरेंट्स और टीचर्स को बच्चे की काबिलियत समझकर उसे प्रोत्साहित करना चाहिए।
-दिव्या पस्टारिया

    'No new videos.'

आईपीएस एकेडमी में ट्रेनिंग प्रोजेक्ट बालमित्र शुरु हुआ

आईपीएस एकेडमी के मानवीय प्रशिक्षण और विकास की विभागाध्यक्षा वीणा छिब्बर ने बताया कि आईपीएस एकेडमी इंदौर की ओर से 45 दिनों का ट्रेनिंग प्रोजेक्ट बालमित्र शुरु किया गया है जिसमें चतुर्थ वर्ग कर्मचारियों के 6टी से 12वीं तक के बच्चों के लिए है। इस शिविर का मुख्य उद्देश्य स्टूडेंट्स को इंग्लिश व मैथ्स की शिक्षा देना है ताकि भविष्य में बेहतर कैरियर ऑप्शन चुुन सके। इस शिविर को पुरी तरह फ्री रखा गया है।

    'No new videos.'