Category Archives: sports

आखिर क्यों आसान नहीं है क्रिकेट की सफाई..!!!!

सुप्रीम कोर्ट और उसकी ओर से नियुक्त बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड) के प्रशासकों की समिति (सीओए) की तमाम कोशिशों के बावज़ूद क्रिकेट की साफ-सफाई इतनी आसान नहीं लगती. यह बात एक दिन पहले ही हुए एक ख़ुलासे से साबित हो गई है. इंडिया टुडे और आज तक चैनल ने अपने स्टिंग ऑपरेशन के जरिए बताया है कि भारत और न्यूज़ीलैंड के पुणे में हुए दूसरे एकदिवसीय मैच से पहले क्यूरेटर ने पिच से छेड़छाड़ करने की हामी भर दी थी.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक स्टिंग ऑपरेशन करने वाले मीडियाकर्मी ने पुणे के पिच क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर से सट्‌टेबाज़ के तौर पर संपर्क किया था. उसने उन्हें कहा कि दो खिलाड़ी पिच में ज़्यादा बाउंस चाहते हैं. उसके हिसाब से क्या पिच में कुछ तब्दीली हो सकती है? इस पर सालगांवकर ने कहा, ‘पांच मिनट में हो जाएगा.’ यहां तक कि उन्होंने उनसे संपर्क करने वाले कथित सट्‌टेबाज़ों को मैच से पहले पिच का निरीक्षण करने तक की मंज़ूरी दे दी थी.

सालगांवकर ने दावा किया था कि मैच में खूब रन बनेंगे. जो भी टीम पहले बल्लेबाजी करेगी वह 340 रन तक का लक्ष्य रख सकती है. और बाद में खेलने वाली टीम इस लक्ष्य को भी आसानी से हासिल कर लेगी. इस बाबत आज तक पर दिखाए गए स्टिंग ऑपरेशन की वीडियो क्लिप में यह पूरी बातचीत सुनी जा सकती है.

सुप्रीम कोर्ट और उसकी ओर से नियुक्त बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड) के प्रशासकों की समिति (सीओए) की तमाम कोशिशों के बावज़ूद क्रिकेट की साफ-सफाई इतनी आसान नहीं लगती. यह बात एक दिन पहले ही हुए एक ख़ुलासे से साबित हो गई है. इंडिया टुडे और आज तक चैनल ने अपने स्टिंग ऑपरेशन के जरिए बताया है कि भारत और न्यूज़ीलैंड के पुणे में हुए दूसरे एकदिवसीय मैच से पहले क्यूरेटर ने पिच से छेड़छाड़ करने की हामी भर दी थी.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक स्टिंग ऑपरेशन करने वाले मीडियाकर्मी ने पुणे के पिच क्यूरेटर पांडुरंग सालगांवकर से सट्‌टेबाज़ के तौर पर संपर्क किया था. उसने उन्हें कहा कि दो खिलाड़ी पिच में ज़्यादा बाउंस चाहते हैं. उसके हिसाब से क्या पिच में कुछ तब्दीली हो सकती है? इस पर सालगांवकर ने कहा, ‘पांच मिनट में हो जाएगा.’ यहां तक कि उन्होंने उनसे संपर्क करने वाले कथित सट्‌टेबाज़ों को मैच से पहले पिच का निरीक्षण करने तक की मंज़ूरी दे दी थी.

सालगांवकर ने दावा किया था कि मैच में खूब रन बनेंगे. जो भी टीम पहले बल्लेबाजी करेगी वह 340 रन तक का लक्ष्य रख सकती है. और बाद में खेलने वाली टीम इस लक्ष्य को भी आसानी से हासिल कर लेगी. इस बाबत आज तक पर दिखाए गए स्टिंग ऑपरेशन की वीडियो क्लिप में यह पूरी बातचीत सुनी जा सकती है.

Play
ख़ास बात ये है कि पांडुरंग सालगांवकर खुद पूर्व क्रिकेटर हैं. उन्हें एक समय में भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल होने वाले तगड़े दावेदारों में गिना जाता था. यह 70 के दशक की बात है.सालगांवकर तेज गेंदबाज़ थे. उन्होंने भारतीय टीम के साथ 1974 में श्रीलंका का दौरा भी किया था. हालांकि वह श्रृंखला अधिकृत नहीं थी. इसके बाद वे कभी भारतीय टीम में शामिल नहीं हो पाए. अलबत्ता वे प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलते रहे और 63 मैचों में 214 विकेट अपने नाम किए.

बहरहाल ‘पिच फिक्सिंग’ विवाद के बाद उन्हें पिच क्यूरेटर की ज़िम्मेदारी से बर्ख़ास्त कर दिया गया है. उनकी जगह बीसीसीआई के क्यूरेटर रमेश म्हामुनकर को दूसरे मैच की ज़िम्मेदारी दी गई थी. साथ ही आईसीसी (अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) के पर्यवेक्षकों ने भी पिच का निरीक्षण किया. जब उन्होंने पिच में किसी तरह की छेड़छाड़ न होने की पुख़्तग़ी कर ली तब कहीं जाकर बुधवार को दोनों टीमों के बीच मैच हो पाया.

इस ख़ुलासे के बाद बीसीसीआई सीओए के चेयरमैन विनोद राय ने कहा, ‘इस तरह की गतिविधियां बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएंगी. हम मामले की जांच करा रहे हैं.’ बोर्ड के कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) राहुल जौहरी ने भी इसी तरह की प्रतिक्रिया दी है. रेडियो न्यूज़ीलैंड से बातचीत में आईसीसी के प्रवक्ता ने भी कहा, ‘हम भी अपनी तरफ से पूरे मामले की जांच करा रहे हैं.’

    'No new videos.'

आखिर कौन है धवन की नज़र मे नंबर वन..??

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने इस खिलाड़ी को दुनिया का सबसे अच्छा तेज गेंदबाज बताया है। वहीं, उन्होंने ये भी कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे वन-डे में उन्होंने जिस तरह से गेंदबाजी की उससे टीम इंडिया को कम रन का लक्ष्य मिला और टीम इंडिया दूसरे वन-डे जीतने में कामयाब हुई। आइये बताते हैं कि वो कौनसा गेंदबाज हैं जिसकी तारीफ धवन ने की…

धवन ने कहा, ‘भुवनेश्वर कुमार दुनिया के सबसे अच्छे डेथ ओवर का गेंदबाज हैं। उन्होंने अपना स्तर ऊंचा कर लिया है और गेंद पर उनका नियंत्रण काफी अच्छा रहता है। यहां तक कि जब वो धीमी गेंद या नकल बॉल करते हैं तब भी वो सही जगह पर गेंद को पिच कराते हैं। यदि डेथ ओवरों में गेंदबाजी की बात की जाए तो वो दुनिया के सबसे बेहतरीन डेथ ओवर गेंदबाज हैं। हमने भुवनेश्वर को आईपीएल में लगातार डेथ ओवरों में यॉर्कर डालते देखा है और भारत के लिए खेलते हुए भी उन्होंने ऐसा किया है। वो लगातार काफी बेहतरीन तरीके से ऐसा कर रहे हैं’।’

वहीं, धवन ने दिनेश कार्तिक की भी खूब तारीफ की है। उन्होंने कहा कि दिनेश कार्तिक ने भी 64 रन की नाबाद पारी खेली, जिससे टीम इंडिया के जीत में काफी मदद मिली। उन्होंने कहा कि कार्तिक ने काफी मेहनत की और शानदार पारी खेली। उन्होंने कहा कि कार्तिक मिडिल ऑर्डर के अच्छे बैट्समैन हैं। साथ ही उनके पास स्किल और शॉट खेलने का तरीका भी है और वो अपने आप को इम्प्रूव कर रहे हैं।

टीम इंडिया ने पुणे के एमसीए स्टेडियम में बुधवार को खेले गए दूसरे वन-डे मैच में भारत ने न्यूजीलैंड को 6 विकेट से हरा दिया। इसी जीत के साथ तीन वन-डे मैचों की सीरीज 1-1 से बराबर हो गई। इस दौरान भुवनेश्वर कुमार ने 10 ओवर में 45 रन देकर 3 विकेट लिए। उन्होंने सबसे पहले खतरनाक बल्लेबाज मार्टिन गप्टिल को आउट किया। फिर कोलिन मुनरो को भी पवेलियन भेज दिया। उन्होंने अपने 10 ओवरों में 45 रन देकर 3 विकेट झटके और उन्हे मैन ऑफ द मैच चुना गया।

बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं है जब भुवनेश्वर कुमार की तारीफ किसी विश्वस्तरीय खिलाड़ी ने की हो। इससे पहले भी दुनिया के दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने उन्हें आईपीएल का सबसे अच्छा गेंदबाज बताया था। वहीं, 2016 के आईपीएल सीजन में सनराइजर्स हैदराबाद के कोच रहे टॉम मूडी ने भी उनकी गेंदबाजी की तारीफ की थी।

मालूम हो कि भारत ने किवी टीम को निर्धारित 50 ओवरों में 9 विकेट पर 230 रनों पर ही सीमित कर दिया था। जिसके जवाब में भारत ने शिखर धवन (68) और दिनेश कार्तिक की नाबाद 64 रन की बदौलत टीम इंडिया ने 46 ओवरों में चार विकेट खोकर हासिल कर लिया।

    'No new videos.'

विराट कोहली ने अफगानिस्तान क्रिकेट टीम को दिया सफलता का मंत्र…!!!

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने अफगानिस्तान क्रिकेट टीम को दिल छूने वाला मैसेज दिया है। अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो अपलोड किया, जिसमें टीम इंडिया के कप्तान ने बोर्ड को स्टेडियम के नजदीक बम ब्लास्ट के बावजूद सफल टूर्नामेंट के आयोजन पर बधाई दी।
कोहली ने अफगानिस्तान के क्रिकेटरों के लिए आदर भाव दर्शाते हुए प्रेरणा दी गई और इन खिलाड़ियों के खेल के प्रति भावना के लिए तारीफ भी की। इसके अलावा उन्होंने शपागीजा टी20 टूर्नामेंट में बम धमाके के बाद भी सफल आयोजन के लिए बधाई दी।

India’s captain Virat Kohli attends a news conference ahead of their first test cricket match against England in Rajkot, India, November 8, 2016. REUTERS/Amit Dave

आईपीएल: अगले साल धोनी पर लगी बोली, तो टूट जाएंगे सारे रिकॉर्ड..!!

गौरतलब है कि 13 सितंबर को काबुल में एक मैच के दौरान स्टेडियम के बाहर धमाका हुआ था। इसके बाद भी टूर्नामेंट जारी रहा और इसमें उनका साथ वहां के दर्शकों ने दिया, जो हर मैच देखने के लिए बिना डरे आते रहे।
कोहली ने कहा, ‘मैं आपके टी20 टूर्नामेंट के लिए आपको बधाई देना चाहता हूं और क्रिकेट में अब तक के सफर के बाद भविष्य के लिए मेरी शुभकामनाएं। यह देखना शानदार रहा है और मैं यह देखता रहा हूं कि आप लोग क्या कर रहे हैं। मैं आपका पेशन देख सकता हूं, खासकर खिलाड़ियों ने जैसा खेला, वैसा ही लोगों ने घर में मैच देखकर अपना पेशन साझा भी किया है। हमेशा खुद से सच्चा रहना और सफलता आपके पास आएगी। आप जो भी करें, पेशन से करें और लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कड़ी मेहनत करते रहे।’
विराट कोहली के इस शानदार मैसेज के बाद अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उनका धन्यवाद अदा किया। यह टीम आईसीसी इंटरकॉन्टिनेंटल कप के लिए हांगकांग जाएगी। मिशन रोड ग्राउंड पर यह टूर्नामेंट 20 से 23 अक्टूबर के बीच आयोजित होगा।
सम्बंधित खबरें :

    'No new videos.'

आईपीएल: अगले साल धोनी पर लगी बोली, तो टूट जाएंगे सारे रिकॉर्ड..!!

निखिल चोपड़ा का मानना है कि धोनी आईपीएल के सबसे महंगे खिलाड़ियों के टॉप-5 में होंगे..

दो साल के निलंबन के बाद आईपीएल-2018 में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम वापसी करने जा रही है. सुपर किंग्स ने तो इसकी तैयारियां भी शुरू कर दी हैं. सीएसके ने दावा किया है कि अभी भी उनके लिए महेंद्र सिंह धोनी सबसे बड़े लक्ष्य हैं और वो ही टीम के सबसे अहम कड़ी रहेंगे. माना जा रहा है टीम के इस नजरिए से धोनी बेहद खुश हैं. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा वनडे सीरीज में जैसे ही महेंद्र सिंह धोनी ने चेपॉक पर कदम रखा, पूरे स्टेडियम में धोनी-धोनी के नारे लगने लगे थे.

श्रीनिवासन से धोनी का मिलना, सुर्खियों में

पिछले दिनों धोनी चेन्नई स्थित इंडिया सीमेंट के ऑफिस गए थे. इस दौरान वे पूर्व बीसीसीआई प्रसिडेंट एन. श्रीनिवासन से भी मिले, जो सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय रहा. फिलहाल धोनी इंडिया सीमेंट्स के वाइस प्रसीडेंट भी हैं. लेकिन- दूसरी तरफ फैंस का एक ऐसा भी समूह भी है, जो मान रहा है कि आने वाले सीजन में माही सीएसके के पीले रंग की जर्सी में नहीं दिखेंगे. ऐसे में ब्रांड गुरु हरीश बिजूर और पूर्व भारतीय क्रिकेटर निखिल चोपड़ा का मानना है कि अगले साल आईपीएल के ‘मेगा ऑक्शन’ के दौरान धोनी पर बोली लगाने के लिए फ्रेंचाइजी टूट पड़ेंगी.

ऐसा कहना है एक्सपर्ट्स का-

हरीश बिजूर ने कहा, ‘मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट में फिलहाल धोनी एक बड़ी ‘प्रॉपर्टी’ हैं. उनके आसपास कोई नहीं ठहरता, वह आइकॉन हैं. मौजूदा समय में केवल धोनी के साथ विराट कोहली को ही खड़ा किया जा सकता है. ब्रांड वैल्यू के मामले में कोहली धोनी से जरूर आगे हैं, लेकिन माही किसी भी टीम के लिए खुद आदर्श हैं.’

निखिल चोपड़ा का मानना है कि धोनी आईपीएल के सबसे महंगे खिलाड़ियों के टॉप-5 में होंगे. उनमें नेतृत्व की अद्भुत क्षमता टीम को जीत दिलाने में सबसे मददगार साबित होती है. जहां तक आईपीएल की बात है, तो नि:संदेह बहुत सारी टीमें धोनी पर बोली लगाने लिए बेताब दिखेंगी.

ये भी पढ़े: धोनी को पद्म भूषण दिलाएगी बीसीसीआई..!!

क्या टीमें अपने कुछ खिलाड़ियों को रिटेन कर पाएंगी?

बड़ा सवाल यह है कि क्या नीलामी से पहले टीमें अपने कुछ खिलाड़ियों को रिटेन कर सकती हैं, इसकी अनुमति उन्हें दी जाएगी? फिलहाल तो सभी खिलाड़ियों पर बोली लगने की बात कही जा रही है. लेकिन हो सकता है कि इलमें बदलाव हो और कुछ टीमें अपने आइकॉन प्लेयर्स को रिटेन करने में कामयाब हो जाएं. खैर जो भी हो, फैंस तो धोनी के बिना चेन्नई, विराट के बिना आरसीबी और गंभीर के बिन केकेआर और रोहित के बिना मुंबई के बारे में नहीं सोच सकते.

    'No new videos.'

INDvAUS: जीत और रिकॉर्ड्स की ‘हैट्रिक’ लगाने उतरेगी टीम इंडिया..!!!

इंदौर में तीसरे वनडे के लिए टीम इंडिया के विनिंग कॉबिनशन में कोई बदलाव नहीं करना चाहेंगे कप्तान विराट कोहली

गुरूवार को कोलकाता में खेल गए दूसरे वनडे में मेहमान कंगारुओं को मात देकर टीम इंडिया अब पांच वनडे मैचो की सीरीज में अपनी बढ़त 2-0 की कर चुकी हैं. अब एक और जीत कोहली एंड कंपनी को इस सीरीज का विजेता बना देगी.गुरूवार को कोलकाता में खेल गए दूसरे वनडे में मेहमान कंगारुओं को मात देकर टीम इंडिया अब पांच वनडे मैचो की सीरीज में अपनी बढ़त 2-0 की कर चुकी हैं. अब एक और जीत कोहली एंड कंपनी को इस सीरीज का विजेता बना देगी.

इंदौर के होल्कर स्टेडियम में टीम इंडिया जब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे की रणनीति बनाने बैठेगी तो उसके दिमाग में यहीं पर सीरीज को सील करने का ही ख्याल होगा. इस लिहाज से कप्तान कोहली टीम के उस विनिंग कॉबिनेशन के साथ भी कोई छेड़छाड़ करना नहीं चाहेंगे जसके साथ उन्होंने पहले दो मुकाबलो में ऑस्ट्रेलिया को मात दी है.विनिंग कॉबिनेशन में बदलाव करना कप्तान कोहली की रणनीति का भी हिस्सा नहीं रहा है, इसके बावजूद टीम में एक पोजिशन ऐसी है जिसमें बदलाव की गुंजाइश अभी भी देखी जा सकती है और वह पोजिशन है टीम के मिडिल ऑर्डर में चौथे नंबर की जगह.

सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा भले ही पहले दो मुकाबलों में नाकाम रहे हों लेकिन फिर भी उन्हें बदलने का सवाल ही पैदा नहीं होता. रोहित कभी भी एक बड़ी पारी खेल सकते हैं. पहले मैच में नाकाम रहने वाले अजिंक्य रहाणे ने भी दूसरे वनडे में अर्धशतक ठोक कर अपनी उपयोगिता साबित कर दी है.

जिस बल्लेबाज की पोजिशन सबसे ज्यादा खतरे में लग रही है वह हैं मनीष पांडे. चौथे नंबर बल्लेबाजी करते हुए पांडे दोनों मुकाबलों में नाकाम रहे हैं . पहले मैच में जीरो तो दूसरे मैच में महज तीन रन ही उनके खाते में दर्ज हैं. ऐसे में कप्तान कोहली के पास उनकी जगह केएल राहुल को प्लएंइंग इलेवन में शामिल करने का विकल्प है.

भारतीय सेलेक्टर्स ने यह टीम बस तीन वनडे मुकाबलों के लिए चुनी थी यानी दो मैच के लिए टीम का चयन होना अभी बाकी है. लिहाजा कप्तान कोहली, मनीष पांडे को एक और मौका देना चाहेंगे ताकि वह सेलेक्टर्स को इंप्रैस कर सकें.

ये भी पढ़े: INDvAUS: दूसरे वन-डे में टीम इंडिया के ये बने 5 ‘हीरो’..!!

केदार जाधव, एमएस धोनी और हार्दिक पांड्या ने भारत के लोअर मिडिल ऑर्डर को मजबूती से संभाला हुआ लिहाजा यहां बदलाव और एक्सपेरीमेंट की कोई गुंजाइश नहीं बनती है.

जहां तक गेंदबाजी डिपार्टमेंट क सवाल है तो वहां तो कोई भी पोजिशन खाली ही नहीं है. कुलदीप-चहल की जोड़ी अपनी फिरकी से और भुवनेश्वर-बुमराह की जोड़ी अपनी तेजी और स्विंग के चलते कंगारू बल्लेबाजों के लिए मुसीबत बनी हुई . लिहाजा अगर कोई इंजरी नहीं होती है तो टीम इंडिया का मैनेजमेंट इंदौर वनडे में उन्हीं खिलाड़ियों पर दांव लगाएगा जिन्होंने पिछले दो वनडे मुकाबलो में जीत हासिल की है.

 

    'No new videos.'

INDvAUS: दूसरे वन-डे में टीम इंडिया के ये बने 5 ‘हीरो’..!!

टीम इंडिया दूसरा वन-डे इन 5 खिलाड़ियों के दमदार प्रदर्शन के कारण ही जीत सकी है।

टीम इंडिया ने गुरुवार को कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डन्स पर ऑस्ट्रेलिया को चारों खाने चित करते हुए 50 रन से मात दी। टीम इंडिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की और निर्धारित 50 ओवर में 252 रन बनाए। मेजबान टीम पारी की आखिरी गेंद पर ऑलआउट हुई। जवाब में कंगारू बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों के सामने घुटने टेक दिए और पूरी टीम 43।1 ओवर में 202 रन पर ढेर हो गई। चलिए नजर डालते हैं,

टीम इंडिया के ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या का ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वन-डे में भी शानदार प्रदर्शन जारी रहा। पांड्या ने पहले बल्ले 26 गेंदों में 2 चौको की मदद से महत्वपूर्ण 20 रन का योगदान दिया। फिर गेंदबाजी में 10 ओवर का कोटा पूरा करते हुए 56 रन देकर दो कंगारू बल्लेबाजों का शिकार किया। हार्दिक जब बल्लेबाजी करने उतरे तब टीम का स्कोर 197/5 था। उनके आउट होने से समय टीम का स्कोर 250 रन के करीब पहुंच गया था। हार्दिक को ‘हीरोज’ की लिस्ट में 5वें नंबर पर रखा गया है।

भुवनेश्वर कुमार ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए मुश्किल कड़ी बनते जा रहे हैं। 27 वर्षीय भुवी ने पहले बल्ले से 33 गेंदों में एक चौके की मदद से 20 रन की पारी खेलकर टीम इंडिया को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया। फिर उन्होंने गेंदबाजी में कमाल करते हुए 6।1 ओवर में दो मेडन सहित सिर्फ 9 रन देकर तीन विकेट लिए। भुवी ने कंगारू ओपनर्स को जल्दी पवेलियन भेजा और फिर केन रिचर्डसन को आउट करके टीम इंडिया की जीत पर मुहर लगाईं।

अजिंक्य रहाणे ने दर्शाया कि दबाव में प्रभावी प्रदर्शन करना कोई उनसे सीखे। रहाणे की बतौर ओपनर जगह खतरे में थी और ईडन गार्डन्स पर उनके पास अनकहे रूप से अपने आप को साबित करने का आखिरी मौका था। रहाणे ने बेहतरीन वापसी करते हुए 64 गेंदों में 7 चौको की मदद से 55 रन की अर्धशतकीय पारी खेली। रहाणे ने अपनी पारी के दौरान दो शॉट्स ऐसे खेले, जो फैंस को लंबे समय तक याद रहना तय हैं।

ये तो ‘चाइनामैन’ से ‘हैट्रिकमैन’ बन चुके हैं। कुलदीप टीम इंडिया की जीत के प्रमुख नायक रहे। वो वन-डे क्रिकेट में  हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय स्पिनर बने। कुलदीप यादव ने अपने कोटे के 8वें और ऑस्ट्रेलियाई पारी के 33वें ओवर की दूसरी, तीसरी व चौथी गेंद पर क्रमशः मैथ्यू वेड (2), एशटन आगर और पैट कमिंस को अपना शिकार बनाया। ऑस्ट्रेलिया 148 रन पर 5 विकेट गंवाकर टीम इंडिया को तगड़ी फाइट दे रही थी, तभी कुलदीप ने तीन करिश्माई गेंदे डालकर मैच मेजबान टीम की झोली में डाल दिया।

ये भी पढ़े: धोनी को पद्म भूषण दिलाएगी बीसीसीआई..!!

इनकी जितनी तारीफ की जाए वो कम है। मैच में बाद कोहली ने कहा भी था कि ईडन गार्डन्स पर बल्लेबाजी करना पूरे दिन आसान नहीं था। 28 वर्षीय बल्लेबाज ने विपरीत परिस्थिति में गजब की बल्लेबाजी की और 107 गेंदों में 8 चौको की मदद से 92 रन ठोंके। विराट कोहली को शतक पूरा नहीं करने का मलाल जरुर रहा होगा क्योंकि अगर वो इसे पूरा कर लेते तो वन-डे क्रिकेट के इतिहास में सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में सचिन तेंदुलकर के बाद दूसरे नंबर पर आ जाते। बहरहाल, कोहली को उनकी शानदार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच के खिताब से नवाजा गया।

    'No new videos.'

INDvAUS: बारिश के साये के बीच बढ़त दोगुनी करने उतरेगी टीम इंडिया

पिच क्यूरेटर ने उम्मीद जताई है कि अगर बारिश रुकी तो मैच में बड़ा स्कोर देखने के लिए मिल सकता है।

टीम इंडिया गुरुवार को जब कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डन्स पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरा वन-डे खेलने उतरेगी, तो उसका इरादा पांच मैचों की सीरीज में 2-0 की बढ़त लेने का होगा। कोलकाता में बारिश का साया बना हुआ है, जिसकी वजह से मेजबान टीम एक दिन अभ्यास नहीं कर सकी है। हालांकि, पिच क्यूरेटर ने उम्मीद जताई है कि अगर बारिश रुकी तो मैच में बड़ा स्कोर देखने के लिए मिल सकता है।

टीम इंडिया ने चेन्नई के चेपॉक स्टेडियम में खेले गए वर्षाबाधित पहले मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को 26 रन से जीता था। टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया दोनों ने ही पहले वन-डे में उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं किया था। मगर दूसरे वन-डे में दोनों टीमें अपनी लय हासिल करते हुए धमाकेदार प्रदर्शन करना चाहेंगी।

टीम इंडिया के ओपनर शिखर धवन ने पत्नी की तबियत ठीक नहीं होने की वजह से पहले तीन वन-डे से अपना नाम वापस लिया है। उनकी जगह अजिंक्य रहाणे को मौका दिया गया, जो कि पहले मैच में फ्लॉप रहे। अब टीम इंडिया के सामने रोहित शर्मा के साथ ओपनर को लेकर समस्या खड़ी हो गई है कि दूसरे वन-डे में रहाणे को दोबारा मौका दे या फिर युवा केएल राहुल को आजमाया जाए।

ये भी पढ़े: धोनी को पद्म भूषण दिलाएगी बीसीसीआई..!!

वैसे रहाणे को मौका मिलना तय है, लेकिन ईडन गार्डन्स पर उनका बल्ला खामोश रहा तो तीसरे वन-डे में उनकी जगह को खतरा पड़ना लगभग तय होगा। विराट कोहली के नेतृत्व वाली टीम इंडिया के शीर्ष क्रम को अच्छी शुरुआत देने की जरुरत है क्योंकि वो पूरी तरह एमएस धोनी और हार्दिक पांड्या पर निर्भर नहीं रह सकती।

चेन्नई में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने टीम इंडिया के 87 रन पर शीर्ष पांच बल्लेबाजों को पवेलियन भेज दिया था। मेजबान टीम का गेंदबाजी क्रम पहले वन-डे में बेहद मजबूत नजर आया और दूसरे वन-डे में इसमें किसी प्रकार के फेरबदल की उम्मीद नहीं है।

    'No new videos.'

धोनी को पद्म भूषण दिलाएगी बीसीसीआई..!!

महेंद्र सिंह धौनी दुनिया के एकमात्र कप्तान हैं जिन्होंने आइसीसी के सभी टूर्नामेंट जीते हैं ।

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी के नाम की सिफारिश बीसीसीआइ ने पद्म भूषण के लिए की है। पद्म भूषण देश का तीसरा सबसे बड़ा सम्मान है और क्रिकेट जगत में धौनी की उपलब्धियों के चलते ही बीसीसीआइ ने उनके नाम की सिफारिश पद्म भूषण के लिए की है। धौनी एकमात्र ऐसे क्रिकेटर है जिनका नाम बीसीसीआइ ने इस अवॉर्ड के लिए प्रस्तावित किया है।

महेंद्र सिंह धौनी दुनिया के एकमात्र कप्तान हैं जिन्होंने आइसीसी के सभी टूर्नामेंट जीते हैं। धौनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने साल 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप अपने नाम किया था। वहीं 2011 में टीम इंडिया ने धौनी की कप्तानी में ही वनडे का विश्व कप भारत की झोली में डाला था। इसके बाद 2013 में माही के नेतृत्व में ही भारत ने चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया था। इसके साथ ही साथ धौनी की कप्तानी में ही टीम इंडिया टेस्ट में पहली बार नंबर वन बनी थी और धौनी की करिश्माई कप्तानी का ही नतीज़ा था कि टीम इंडिया वनडे में भी नंबर एक पर काबिज़ हो गई थी।

ये भी पढ़े: INDvAUS: बारिश के साये के बीच बढ़त दोगुनी करने उतरेगी टीम इंडिया

आपको बता दें कि इस साल धौनी का वनडे क्रिकेट में औसत लगभग 90.00 का है। धौनी ने इस साल वनडे में सौ स्टंप करने का भी रिकॉर्ड बनाया है तो वहीं ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले पहले वनडे मैच में उन्होंने अर्धशतकों का शतक भी बनाया था।

धौनी को इससे पहले खेल रत्न और अर्जुन अवॉर्ड भी मिल चुका है और अगर धौनी को ये अवॉर्ड मिलता है तो वो इसे पाने वाले 11वें क्रिकेटर होंगे।पद्म भूषण देश का तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है, अब तक सचिन तेंडुलकर, कपिल देव, सुनील गावस्कर, चंदू बोर्डे, डीबी देवधर, सीके नायडू और लाला अमरनाथ सहित तीन अन्य क्रिकेटरों को यह सम्मान दिया जा चुका है।

    'No new videos.'

विश्व चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में पहुंचे पंकज

पंद्रह बार के विश्व चैंपियन पंकज आडवाणी ने गुरुवार को छह रेड विश्व स्नूकर चैंपियनशिप में आसानी से क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। आडवाणी ने ग्रुप स्टेज में अपने सभी मैच जीते। वह क्वार्टर फाइनल मैच में चीन के युआन सिजुन के खिलाफ खेलेंगे। 11 मैचों में आडवाणी युआन पर 5-4 से आगे हैं। आडवाणी ने वेल्स के डोमिनिक डेल, इंग्लैंड के रॉबर्ट मिल्किंस, ऑस्ट्रेलिया के रियान थॉमरसन और फैटून फोनबन को शिकस्त दी। अंतिम 32 नॉकआउट दौर में आडवाणी ने जर्मनी के लुकास क्लेस्कर्स को 6-0 से हराया। अपने प्रदर्शन पर पंकज ने कहा, ‘मैं यहां की परिस्थितियों से खुश हूं और स्नूकर के छोटे प्रारूप में कुछ भी संभव है।’
बिलियडर्स एंड स्नूकर फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीएसएफआइ) ने पंकज आडवाणी को देश के तीसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पदम भूषण दिए जाने की सिफारिश की है। बीएसएफआइ के सचिव एस बालासुब्रमणयम ने बताया कि पंकज इस सम्मान के योग्य हैं और हमें उम्मीद है कि इस साल उन्हें यह दिया जाएगा। बिलियडर्स और स्नूकर में 15 बार विश्व विजेता रह चुके आडवाणी का नाम पिछले साल भी इस सम्मान के लिए भेजा गया था।

    'No new videos.'

डबल्स रैंकिंग में शीर्ष पर पहुंची सानिया

भारतीय टेनिस सनसनी सानिया मिर्जा ने अपनी नई जोड़ीदार बारबोरा स्ट्राइकोवा के साथ मिलकर सिनसिनाटी ओपन टेनिस टूर्नामेंट का डबल्स खिताब जीत लिया।
सानिया ने फाइनल में अपनी पूर्व जोड़ीदार मार्टिना हिंगिस और कोको वेडेवेगे को 7-5, 6-4 से पराजित किया। इस जीत के साथ ही 29 वर्षीय भारतीय खिलाड़ी डब्ल्यूटीए डबल्स रैंकिंग में अकेली नंबर एक खिलाड़ी बन गई हैं।
शुरुआती सेट में हिंगिस और वेडेवेगे ने 5-1 की बढ़त ले ली थी, लेकिन इसके बाद सानिया-बारबोरा ने जबरदस्त वापसी करते हुए पहला सेट जीत लिया। दूसरा सेट इंडो-चेक गणराज्य की जोड़ी ने आसानी से जीत लिया।
सानिया-हिंगिस की जोड़ी ने तीन ग्रैंडस्लैम सहित कुल 14 खिताब जीते थे। सानिया ने कहा, ‘हम दोनों (मिर्जा व बारबोरा) की खासियत यह है कि हमने एक-दूसरे को तलाशा है, हम स्कोर की चिंता किए बिना लडऩे में भरोसा करतीं हैं। इस पूरे सप्ताह जब हम जीत नहीं पा रहे थे, हम बस लड़ रहे थे। उसी की नतीजा है कि आज हमें जीत मिली।
सानिया के साथ संयुक्त रूप से नंबर एक रही हिंगिस ने पिछले महीने उनके साथ अपनी जोड़ी तोड़ ली थी। दोनों खिलाड़ी अब स्थायी तौर पर साथ नहीं हैं, फिर भी वे अक्टूबर में सिंगापुर में होने वाली डब्ल्यूटीए टूर चैंपियनशिप में खेलेंगी।
सानिया ने कहा कि डबल्स में अपने पूर्व सहयोगी के खिलाफ खेलना एक अजीब स्थिति थी। उनके मुताबिक, ‘मैं झूठ नहीं बोलूंगी, यह काफी मुश्किल स्थिति है। हम अभी भी अच्छी दोस्त हैं इसलिए एक-दूसरे के खिलाफ खेलना आसान नहीं हैं।

    'No new videos.'