Tag Archives: karnatak election

वैदिक काल में हिंदू नाम का कोई धर्म नहीं था बल्कि सनातन धर्म हुआ करता था. -मोहन भागवत

मोहन भागवत ने ‘भविष्य का भारत’ विषय पर बोलते हुए कहा वैदिक काल में हिंदू नाम का कोई धर्म नहीं था बल्कि सनातन धर्म हुआ करता था. उनका कहना था कि आज जो कुछ हो रहा है वो धर्म नहीं है. “जिस दिन हम कहेंगे कि हमें मुसलमान नहीं चाहिए उस दिन हिंदुत्व नहीं रहेगा.”

उन्होंने शिक्षाविद्द सर सय्यद अहमद ख़ान का उद्धरण देते हुए कहा कि जब उन्होंने यानी ख़ान ने बैरिस्टर की पढ़ाई पूरी की तो लाहौर में आर्य समाज ने उनका अभिनंदन किया. आर्य समाज ने इसलिए अभिनन्दन किया था क्योंकि सर सय्यद अहमद ख़ान मुस्लिम समुदाय के पहले छात्र थे जिन्होंने बैरिस्टर बनने की पढ़ाई की थी.

भागवत बताते हैं, “उस समारोह में सर सय्यद अहमद ख़ान ने कहा कि मुझे दुःख है कि आप लोगों ने मुझे अपनों में शुमार नहीं किया.”

व्याख्यान माला के दूसरे दिन भी संघ के आमंत्रण पर कई हस्तियां शामिल हुईं. इनमें जनता दल (यूनाइटेड) के नेता के सी त्यागी सहित कई केंद्रीय मंत्री भी शामिल थे.

इनके अलावा जया जेटली, सोनल मानसिंह और कुमारी शैलजा भी मोहन भागवत को सुनने विज्ञान भवन पहुंचे.

राजनीति पर चर्चा करते हुए भागवत का दावा था कि संघ सम्पूर्ण समाज को जोड़ना चाहता है. राजनीति में मतभेद होते हैं. जब राजनीतिक दल बनते हैं तो विरोध भी खड़ा होता है. इसीलिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राजनीति से दूर है. उनका यह भी दावा था कि मौजूदा सरकार की नीतियों पर संघ का कोई दख़ल नहीं है.

भागवत कहते हैं, “हमने कभी किसी स्वयंसेवक को किसी दल विशेष के लिए काम करने को नहीं कहा. कौन राज करेगा ये जनता तय करेगी. हम राजनीति से ज़्यादा राष्ट्रनीति के बारे में सोचते हैं. नीति किसी की भी हो सकती है. हमें किसी से बैर भी नहीं है और न ही किसी से अधिक दोस्ती है.”

    'No new videos.'

कर्नाटक में नींबू राजनीति का तूफ़ान ..!!

कर्नाटक विधान सभा चुनाव किसी भी लहर से ग्रसित न होकर शुद्ध राजनीतिक चौरस की लड़ाई बन चुकी हैl हर पार्टी  अपने को जनता का सच्चा  हितेषी बताने में लगा है , हर पार्टी को अपना किया हुआ वादा सिद्ध करना है, फिर चाहे वो बीजेपी हो ,कांग्रेस हो या जदयू l मुख्यमंत्री सिद्धरमैया को जहा अपने पांच साल का हिसाब देना है, वही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीको अच्छे दिन को सिद्ध करना है, जदयू को जनता में अपनी विश्वनीयता कायम करनी है

कर्नाटक बीजेपी ने एक ट्वीट कर कहा, ‘हाथ में नींबू लेकर प्रचार करना और दूसरी ओर हिन्दू परंपराओं का अनादर करने और उन्हें आपराधिक बनाने के लिए अंधविश्वास विरोधी कानून लाना. सिद्दरमैया आपका नाम पाखंड है.’ बीजेपी ने एक फोटो भी पोस्ट किया है, जिसमें वह हाथ में नींबू लेकर प्रचार कर रहे हैं.

मैसूर के चामुंडेश्वरी में चुनाव प्रचार के वक्त मुख्यमंत्री सिद्दरामैया के हाथ में नीबू क्या दिखा बीजपी ने हमला करने में देर नहीं लगाई. बीजेपी प्रवक्ता एस प्रकाश ने कहा कि जिस आदमी ने अंधविश्वास निरोधक कानून बनाया वो ही अगर नींबू लेकर अंधविश्वास फैलाएगा तो मज़ाक तो बनेगा ही. l

    'No new videos.'